लौटी रौनक:जिले के 87 हाईस्कूल खुले, 20% विद्यार्थी हुए उपस्थित

खगड़िया2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • ज्यादा तापमान होने पर बच्चाें की होगी कोरोना जांच, टीका लिए शिक्षक ही लेंगे क्लास, गाइडलाइन का करना होगा पालन

जिले के 87 हाईस्कूलों में शनिवार से नौवीं और दसवीं क्लास में पढ़ाई शुरू हुई। लेकिल स्कूलों में महज 20 प्रतिशत विद्यार्थी ही आए। स्कूलों में कोरोना का असर साफ दिख रहा था। ज्ञात हो कि शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव संजय कुमार ने स्कूल संचालन को लेकर कई तरह के आदेश जारी किए हैं। इस आदेश के आलोक में डीईओ कृष्ण मोहन ठाकुर ने सभी बीईओ तथा हेडमास्टरों को निर्देश दिया है कि वे विभाग द्वारा जारी गाइडलाइन के अनुसार ही स्कूल और क्लास का संचालन करेंगे। ऐसा नहीं करने वाले स्कूलों के एचएम के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

50% बच्चों की उपस्थिति में ही चलेगा स्कूल
स्कूलों के हेड मास्टरों द्वारा 50 फीसदी बच्चों के साथ ही स्कूल संचालन करने का निर्देश दिया गया है। इसलिए हेड मास्टरों ने सभी शिक्षकों के साथ 50 फीसदी का आधार बनाते हुए बच्चों के आने की सूची तैयार की है। उसी सूची के अनुसार बच्चे स्कूलों में क्लास करने आएंगे। स्कूलों में संचालित मिड डे मील योजना बंद रहेगा। अपर मुख्य सचिव ने कहा है कि अगर बाद में स्थिति का आकलन की जाएगी इसके बाद योजना के संचालन करने का आदेश दिया जाएगा।

6 फीट की दूरी पर बैठेंगे बच्चे, मास्क भी लगाएंगे
स्कूलों में बच्चों के बैठने के लिए 6 फीट की दूरी तय मानक अपनाने को कहा गया है। अगर एक सीट का बेंच और डेस्क जहां पर होंगे, वहां पर भी छह फीट की दूरी का पालन करने को कहा गया है। स्कूलों के प्रवेश एवं निकास द्वार पर अलग-अलग क्लास के बच्चों के निकलने और प्रवेश के लिए अलग-अलग समय निर्धारित की जाएगी, ताकि गेट पर बच्चों की भीड़ नहीं हो सके। बच्चों की संख्या अधिक होगी, वहां दो पालियों में स्कूल संचालन करने का निर्देश है।

18 साल से ऊपर के बच्चों को किया जाएगा जागरूक
वर्ग 1 से लेकर आठवीं तक के कैलाश 16 अगस्त से 50 फीसदी क्षमता के अनुसार चलाने का निर्देश दिया गया है। अगर किसी शिक्षण संस्थान में 18 साल से ऊपर के छात्र-छात्राएं होंगे, अगले कोरोना वायरस का टीका नहीं लिए होंगे, उन्हें भी कोरोना वायरस का टीका लेने के लिए जागरूक किया जाएगा। कोचिंग संस्थानों में कोई वैक्सीन लेने वाले कर्मियों को ही कार्य करने की अनुमति होगी। संचालक कर्मियों की सूची स्थानीय थाने में देंगे।

शिक्षक-कर्मियों काे टीका लेना अनिवार्य
सभी स्कूलों के प्रधान को यह निर्देश दिया गया है कि वे यह सुनिश्चित कर लेंगे कि उनके यहां कार्यरत शिक्षक व शिक्षकेतर कर्मी का टीकाकरण हो गया है। जिन शिक्षक और शिक्षकेतर कर्मियों का टीकाकरण हो गया हो उन्हें स्कूल और संस्थानों में शिक्षण कार्य करने की अनुमति दी जाएगी। स्कूलों में फर्नीचर, स्टेशनरी, भंडार कक्ष के अलावा पानी टंकी, किचन,बाथरूम, प्रयोगशाला और लाइब्रेरी की भी सफाई करने का निर्देश दिया गया है।

बच्चों की सेहत पर विशेष ख्याल, स्क्रीनिंग जरूरी
स्कूलों में छात्र-छात्राओं की सेहत पर विशेष ख्याल रखने की तैयारी की जा रही है। स्कूलों में डिजिटल थर्मामीटर रहेगी। इससे छात्र-छात्राओं का प्रतिदिन डिजिटल थर्मामीटर से स्क्रीनिंग की जाएगी। स्क्रीनिंग के दौरान अगर किसी छात्र-छात्रा का तापमान सामान्य से ऊपर पाया जाता है, तो वैसे छात्र-छात्राओं की कोरोना वायरस की भी जांच कराई जाएगी। स्कूल में सेनेटाइजर और साबुन का भी इंतजाम रखने को कहा गया है। स्कूल तथा शिक्षण संस्थानों में साफ-सफाई की सुविधा बहाल करने का निर्देश दिया गया।

खबरें और भी हैं...