मकर संक्रांति:अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों को दही-चूड़ा खिलाकर मनाया त्योहार

खगड़िया3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
अल्पसंख्यक समुदाय के साथ भोजन करते पूर्व नगर सभापति। - Dainik Bhaskar
अल्पसंख्यक समुदाय के साथ भोजन करते पूर्व नगर सभापति।
  • पहले महीने जनवरी में मकर संक्रांति के महा पर्वों की होती है शुरुआत

मकर संक्रांति के मौके पर पूर्व नगर सभापति सह राजद एमएलसी प्रत्याशी मनोहर कुमार यादव ने शुक्रवार को अपने आवास पर खगड़िया नगर परिषद क्षेत्र के अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों के लिए दही, चूड़ा, तिलकुट और शक्कर से बनी लाई का भोज किया। पूर्व नगर सभापति मनोहर कुमार यादव ने कहा कि मैं हर मकर संक्रांति में अल्पसंख्यक समुदाय के लिए दही चूड़ा भोज का आयोजन करता हूं। हमारे देश में सभी त्योहारों का अपना एक विशेष महत्त्व है और इन्हें मनाने का तरीका भी अलग-अलग है। नए साल के पहले महीने जनवरी में मकर संक्रांति के महा पर्वों की शुरुआत होती है। किसी न किसी रूप में लोग अपनी-अपनी मान्यताओं के अनुसार मकर संक्रांति को सेलिब्रेट करते हैं। वहीं इस खास दिन पर तिल, गुड़ के पकवानों का आनंद लिया जाता है साथ ही स्नान का भी विशेष महत्व होता है। इस खास दिन पर लोग कामना करते हुए सूर्य को अर्घ्य देते हैं, साथ ही भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी का पूजन कर भोग लगाते हैं। जिसमे चावल, दाल, गुड़, मटर, रेवड़ी चढ़ाते हैं। क्योंकि यह काफी शुभ माना जाता है। इस दिन लोग पतंग उड़ाते हैं। दरअसल मकर संक्रांति 14 जनवरी एक ऐसा दिन है, जब धरती पर एक अच्छे और शुभ दिन की शुरुआत होती है। ऐसा इसलिए कि सूर्य दक्षिण के बजाय अब उत्तर को गमन करने लग जाता है।जब तक सूर्य पूर्व से दक्षिण की ओर गमन करता है तब तक उसकी किरणों का असर खराब माना गया है, लेकिन जब वह पूर्व से उत्तर की ओर गमन करते लगता है तब उसकी किरणें सेहत, सुख और शांति को बढ़ाती हैं। मौके पर नगर पार्षद रणवीर कुमार, आपदा प्रकोष्ठ प्रदेश उपाध्यक्ष प्रमोद यादव, पूर्व नगर पार्षद जावेद अली, रुस्तम अली, राजद नेता मो नसीम उर्फ लंबू, हसमत अली, मो पप्पू, अमित भास्कर, निरंजन पासवान, नवीन पासवान, राजा कुमार, आमिर खान, युवा राजद नगर अध्यक्ष विक्की आर्य व अन्य उपस्थित थे।

हर्षोल्लास पूर्ण वातावरण में मनाई गई मकर संक्रांति
महेशखूंट | थाना क्षेत्र के अलग-अलग हिस्से में शुक्रवार को मकर संक्रांति का पर्व हर्षोल्लास वातावरण में मनाया गया। मकर संक्रांति को लेकर बन्नी घाट पर सुबह गंगा स्नान के लिए लोगों की भीड़ लगह रही। गंगा घाट पर पुरुषों की तुलना में महिला श्रद्धालुओं की संख्या अधिक देखी गई। बताते चलें कि मकर संक्रांति के मौके पर गंगा स्नान और तिल दान करने का विशेष महत्व है। इसलिए इस मौके पर गंगा स्नान के उपरांत श्रद्धालुओं को विभिन्न मंदिरों में पूजा अर्चना करते देखा गया। वहीं पूजा अर्चना के उपरांत लोगों के द्वारा चुरा, दही, तिलकुट का भोजन किया गया। बताते चलें कि क्षेत्र में मकर संक्रांति को लेकर दूध की किल्लत रही। अमूमन 40 रुपए प्रति लीटर बिके वाली गाय का दूध 60 रुपए प्रति लीटर तथा भैंस का दूध 80 रुपए लीटर में लोगों ने खरीददारी की।

खबरें और भी हैं...