पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

लापरवाही:24 घंटे में संचालित फर्जी नर्सिंग होम को बंद कराने का डीएम ने दिया था आदेश, तीन माह के बाद भी नहीं लिया कोई संज्ञान

खगड़ियाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पीएचसी प्रभारी ने कहा- एफआईआर के लिए थाना भेजा है पत्र, थानाध्यक्ष बोले- नहीं मिला है कोई आवेदन

जिलेभर में गैरकानूनी तरीके से बिना मानक और निबंधन के फर्जी नर्सिंग होम का बेखौफ संचालन हो रहा है। तकरीबन एक साल पहले हाईकोर्ट ने ऐसे नर्सिंग होम पर सख्त कार्रवाई करने का आदेश दिया था लेकिन अबतक जिले में एक भी फर्जी नर्सिंग के विरूद्ध कार्रवाई नहीं हुई है।

इतना ही नहीं विभागीय निर्देश के साथ डीएम आलोक रंजन घोष ने भी गत 3 सितंबर को आदेश पत्र जारी करते हुए सिविल सर्जन कार्यालय को अलौली पीएसची ने प्राप्त प्रतिवेदन के आधार पर 24 घंटे में कार्रवाई करने के आदेश दिया था।

डीएम के आदेश के तीन माह हो चुके हैं बावजूद अलौली में फर्जी नर्सिंग होम धड़ल्ले से संचालित हो रहे हैं। अवैध तरीके से संचालित ऐसे नर्सिंग होम में इलाज के नाम पर मरीजों की जिंदगी के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है।

उल्लेखनीय है कि अलौली पीएचसी प्रभारी डॉ. मनीष कुमार ने मामले में जिला स्तर से चिन्हित किए गए अलौली के 5 फर्जी नर्सिंग होम के विरूद्ध प्राथमिकी दर्ज करवाने हेतू गत 8 अक्टूबर को स्थानीय थाना में आवेदन भेजे जाने की बात कही है।

इसके साथ बीडीओ और सीओ को भी पत्र लिखे जाने की बात कही। जबकि अलौली थानाध्यक्ष प्रेन्द्र कुमार ने अलौली पीएचसी प्रभारी के दावे को नकारते हुए ऐसा कोई भी आवेदन प्राप्त नहीं होने की बात कही है।

ऐसे में समझा जा सकता है कि जिले में फर्जी नर्सिंग होम मामले में स्वास्थ्य विभाग की भूमिका किस हद तक सकारात्मक है। बताते चलें कि डीएम के आदेश के तीन माह बाद भी अलौली में संचालित फर्जी नर्सिंग होम के विरूद्ध कार्रवाई नहीं हो पाई है।

स्वास्थ्य विभाग से मिल रहा संरक्षण

उल्लेखनीय है कि फर्जी नर्सिंग होम मामले में कार्रवाई के लिए अलौली पीएचसी प्रभारी डॉ. मनीष कुमार ने गत 10 अगस्त को ही अपने जांच प्रतिवेदन में अलौली क्षेत्र में 29 फर्जी नर्सिंग होम, क्लिनिक, जांच घर एवं अल्ट्रासाउंड सेंटर की सूची जिला मुख्यालय को भेजी थी।

मगर सिविल सर्जन के तरफ से जिला स्तर से गठित टीम अलौली में फिर से जांच कर वहां मात्र 5 फर्जी नर्सिंग होम संचालित होने का प्रतिवेदन तैयार किया गया, जिसके बाद ऐसे फर्जी नर्सिंग होम के विरूद्ध प्राथमिकी दर्ज करते हुए सील करने की प्रक्रिया पूरी करने की बात कही गई थी, मगर अबतक एक भी ऐसे फर्जी नर्सिंग होम के विरूद्ध कोई कार्रवाई नहीं हो पाई है।

स्वीकारोक्ति: मेरे स्तर से जो हो सकता है, वह किया

हमारे स्तर से जो हो सकता है वह मैं कर चुका हूं। मैंने जांच कर पहले 29 फर्जी नर्सिंग होम की सूची जिला मुख्यालय को भेजा था, मगर वहां से सिर्फ पांच फर्जी नर्सिंग होम के विरूद्ध ही कार्रवाई करने हेतू प्रतिवेदन मिला। जिसके एवज में पत्र संख्या 587 के रूप में 8 अक्टूबर को प्राथमिकी के लिए अलौली थाना में आवेदन भेजा हूं।
-डॉ मनीष कुमार, प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी, अलौली

खुलासा: आवेदन मिलता तो दर्ज हो गई होती प्राथमिकी

मुझे अबतक नर्सिंग होम से संबंधित ऐसा कोई भी आवेदन नहीं मिला है, आवेदन मिलता तो प्राथमिकी दर्ज हो गई होती। उनके पास यदि दिए गए आवेदन का रिसीविंग है तो प्रस्तुत करें। -प्रेन्द्र कुमार, थानाध्यक्ष, अलौली

​​​​​​​​​​​​​​अलौली पीएचसी प्रभारी ने सीएस कार्यालय को फर्जी नर्सिंग होम, जांच घर की भेजी थी सूची

1 इंदिरा पॉली क्लिनिक, थाना रोड, अलौली। 2 राज अल्ट्रासांउड, अस्पताल रोड, अलौली। 3 सूर्या नर्सिंग होम, दुर्गा मंदिर के पीछे, अलौली। 4 निर्मला जांच घर, अस्पताल रोड, अलौली। 6 मां दुर्गा सेवा सदन, अस्पताल रोड अलौली। 7 साधना सेवा सदन, हरिजन स्कूल के समीप, अलौली। 8 ऊं साई सेवा सदन, हाईस्कूल फिल्ड के सामने अलौली। 9 आशिर्वाद क्लिनिक, अलौली। 10 गौतम जांच घर, चूड़ा मिल रोड, अलौली। 11 शिवम क्लिनिक, गम्हरिया, अलौली। 12 जनसेवा क्लिनिक हरिपुर, अलौली। 13 प्रिया जांच घर, हरिपुर, अलौली। 14 जीवन ज्योति क्लिनिक, एलास, अलौली। 15 सिटी लाइफ क्लिनिक, अस्पताल रोड, अलौली। 16 रिया हेल्थकेयर सेंटर, एलास, अलौली। 17 डॉ राकेश क्लिनिक, ज्वालापुर, अलौली। 18 नीलम जांच घर, चूड़ा मिल रोड, अलौली। 19 यादव क्लिनिक, गम्हिरया, अलौली। 20 द्रोपदी अल्ट्रासाउंड, हरिपुर अलौली। 21 उषा हेल्थ केयर हरिपुर।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां आपको कई सुअवसर प्रदान करने वाली हैं। इनका भरपूर सम्मान करें। कहीं पूंजी निवेश करने के लिए सोच रहे हैं तो तुरंत कर दीजिए। भाइयों अथवा निकट संबंधी के साथ कुछ लाभकारी योजना...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser