मांग:खगड़िया-कुशेश्वरस्थान रेल परियोजना के साथ हाे रही भेदभाव की नीति: राकेश सिंह

खगड़ियाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सुनील राम को ज्ञापन सौंपते समिति के सदस्य। - Dainik Bhaskar
सुनील राम को ज्ञापन सौंपते समिति के सदस्य।
  • भारतीय रेल यात्री सुविधा समिति ने सौंपा आवेदन, यात्रियों के सुविधाओं के लिए की मांग
  • सोमवार एवं शुक्रवार को विशेष रूप से रेल पुलिस बल की तैनाती सुनिश्चित करने की मांग

खगड़िया जिसे मुगल शासक अकबर ने अपने मंत्री टोडरमल को इस क्षेत्र की जमीन पैमाइश की जिम्मेदारी सौंपी थी। पर वे जमीन की पूरी पैमाइश नहीं कर सके। इस कारण इस क्षेत्र को (फर्क) अलग कर दिया। कारण यह है कि यह क्षेत्र कठिन मैदानों, नदियों व सघन जंगलों से घिरा हुआ था। यही वजह है कि इस क्षेत्र को फरकिया नाम दिया गया जो आज खगड़िया के नाम से जाना जाता है। यहां पूर्व रेलमंत्री सह पदम भूषण से सम्मानित स्व. रामविलास पासवान ने खगड़िया-कुशेश्वरस्थान रेल परियोजना को अपने रेलमंत्री रहते हुए स्वीकृति प्रदान की थी। आज भी इस योजना के साथ (फर्क) भेदभाव की नीति अपनाई जा रही है। मंगलवार को भारतीय रेल यात्री सुविधा समिति के सदस्य सुनील राम को लिखित आवेदन देकर उक्त बातें बताते हुए पूर्वी रेलवे कोलकाता क्षेत्रीय रेलवे उपयोगकर्ता सलाहकार समिति के सदस्य राकेश कुमार सिंह ने इस रेल परियोजना को जल्द पूरा कराने का अनुरोध किया ताकि यहां के आम अवाम को लाभ मिल सके और खगड़िया के लोगों का सपना पूरा हो सके।

17 वर्ष बाद भी पूरा नहीं हुआ खगड़िया-कुशेश्वर स्थान रेल परियोजना
खगड़िया-कुशेश्वरस्थान रेल परियोजना 17 वर्ष में भी पूरी नहीं हो सका है। इस परियोजना को वर्ष 1998 में स्वीकृति मिली और कार्य 2003 में शुरू हुआ था। 44 किलोमीटर लंबी इस परियोजना में अब तक खगड़िया से इचरूआ तक महज 14 किलोमीटर ही पटरी बिछाई गई है। इस बीच इसका बजट 162 करोड़ से बढ़कर 575 करोड़ पहुंच गया। लेकिन 17 वर्ष बाद भी यह परियोजना आवंटन के अभाव में अटकी हुई है।

ट्रेन के ठहराव एवं यात्री सुविधाओं की मांग
धमारा घाट स्टेशन का नाम मां कात्यायनी धाम स्टेशन किया जाए।
सोमवार एवं शुक्रवार को सभी ट्रेनों का ठहराव धमारा घाट स्टेशन पर किया जाय और साथ ही सोमवार और शुक्रवार को मंदिर में विशेष पूजा अर्चना होती है, इसलिए सोमवार एवं शुक्रवार को समस्तीपुर से सहरसा के बीच एक अतिरिक्त ट्रेन चलाई जाए।
धार्मिक स्थल होने के कारण यहां जानकी एवं वैशाली ट्रेन का ठहराव दिया जाए।
रैकपॉइंट, महिला शौचालय, यात्री शेड का विस्तार, पानी टंकी की सुविधा का प्रबंध किया जाए।
सोमवार एवं शुक्रवार को विशेष रूप से रेल पुलिस बल की तैनाती सुनिश्चित की जाए।
- खगड़िया रेलवे स्टेशन के बाहरी परिसर में पदम भूषण से सम्मनित खगड़िया के लाल पूर्व केंद्रीय मंत्री स्व. रामविलास पासवान की आदमकद प्रतिमा लगाई जाए।
सहरसा भाया खगड़िया बेगूसराय मेन लाइन से हावड़ा ट्रेन की मांग वर्षो से की जा रही रेलवे इस मांग को पूरा कराया जाए।
सोनपुर रेलमंडल के अधीन आने वाले स्टेशनों के राजस्व को देखते हुए राजधानी एक्सप्रेस सहित गरीब नवाज एक्सप्रेस ट्रेन का ठहराव खगड़िया स्टेशन पर दिया जाए।

खबरें और भी हैं...