पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

तैयारी:पंचायत चुनाव का ले वोटरों को रिझाने में जुटे संभावित प्रत्याशी

खगड़ियाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कई ग्राम पंचायतों में भोज-भात का दौर भी शुरू

पंचायत चुनाव के आहट मिलते ही गर्मी और उमस के बीच ग्रामीण क्षेत्रों में चुनावी बयार बहने लगी है। एक तरफ मुखिया, सरपंच और जिला पार्षद ग्रामीण मतदाताओं को लुभाने के लिए उनका हालचाल लेने के लिए कड़ी धूप में घर से लेकर उनके खेतों तक पहुंच जा रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ खेतीबाड़ी में मशगूल किसान अभी उनको भाव देते नहीं दिख रहे। ऐसे में लगभग सभी पंचायती जनप्रतिनिधि अपने अपने भविष्य को लेकर गुणा भाग करने में लगे हुए हैं। कई ग्राम पंचायतों में तो भोज- भात देने की चर्चा भी शुरू हो गई है और पंचायत जनप्रतिनिधि अपनी गठरी को खोलने को लेकर तैयार बैठे हैं। मानसी क्षेत्र से सटे ग्राम सैदपुर, पूर्वी ठाठा, पश्चिमी ठाठा, बलहा, अमनी आदि क्षेत्रों में पंचायत प्रतिनिधि अपनी- अपनी कुर्सी की सलामती को लेकर भागदौड़ शुरू कर चुके हैं। सबसे ज्यादा चर्चा मुखिया पद के लिए हो रही है। वहीं पहली बार वार्ड पद के लिए भी काफी गहमागहमी देखी जा रही है।

5 साल का हिसाब देने में मुखिया के छूट रहे पसीने
इस बार 5 साल के बाद मुखिया के चेहरे पर पहली बार परेशानी की झलक देखी जा रही है। ग्रामीणों में भी इस बार अपनी परेशानी को लेकर प्रतिनिधियों को माफ करने के मूड में नहीं दिख रहे हैं। मामला चाहे आवास का हो, शौचालय का हो, राशन का हो, विधवा पेंशन का हो, जॉब कार्ड का हो या मनरेगा द्वारा जुड़े किसी कार्य का हर वोटर अपने अपने जनप्रतिनिधि से सवाल पूछ रहे हैं और जनप्रतिनिधिगण अगली बार का झांसा देकर उन्हें रिझाने में लगे हुए हैं। कई पंचायतों में तो ग्रामीणों के तेवर देखकर पहले से ही अंदाजा हो रहा है कि इस बार मुखिया का पद सुरक्षित नहीं रह गया है। ऐसे में अपने शुभचिंतकों की सलाह पर मुखिया देर रात तक ग्रामीणों से मिलजुलकर उनकी शिकायतों को दूर करने के प्रयास में लगे हुए हैं।

खबरें और भी हैं...