पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मांग:प्री-मानसून से खेती नहीं हुई, किसानाें काे फसल क्षति मुआवजा की मांग करना होगा

खगड़िया2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
किसान पंचायत सभा को संबोधित करते किसान न मंच के प्रदेश अध्यक्ष। - Dainik Bhaskar
किसान पंचायत सभा को संबोधित करते किसान न मंच के प्रदेश अध्यक्ष।
  • फसल का नुकसान हुआ ज्यादा लेकिन डीएओ जल बहाव क्षेत्र मान क्षति का रकवा कर रहे कम: टुड्डू

लोकतंत्र के लोक शाही में राज नेताओं ने राज तंत्र का साम्राज्य स्थापित कर लिया। अब किसान के कोख से नहीं नेताओं के कोख से नेता पैदा ले रहे हैं। इसलिए किसान का आवाज नहीं उठ रहा है। उक्त बातें महादलित महिला किसानों मजदूरों के बीच खर्रा धार ग्राम में किसान पंचायत यात्रा के क्रम में किसान पंचायत सभा को संबोधित करते हुए बिहार किसान मंच के प्रदेश अध्यक्ष धीरेंद्र सिंह टुडू ने कही। उन्होंने डीएओ पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि, इस वर्ष गंगा में बाढ़ 30 वर्षो का रिकॉर्ड तोरा है और प्री मानसुन मई में आने से जल-जमाव अत्यधिक हुई है। जिससे फसल का नुकसान ज्यादा हुई है लेकिन डीएओ को जल बहाव क्षेत्र मान कर फसल क्षति का रक्वा कम कर रहे हैं। जबकि इस बार 2016-17 से ज्यादा फसल नुकसान हुआ है। गुड्डू ने कहा कि खेती योग्य भूमि में जल जमाव पहले हो गई। सरकार भी इस बात को स्वीकार किया है कि, प्री मानसुन के कारण खेती नहीं हो सकी है। ऐसे किसानों को भी मुआवजा दिया जाएगा, लेकिन डीएओ जल जमाव के क्षेत्र को फसल क्षति नहीं मानते हैं। डीएओ के खिलाफ किसानों को एक जुट होकर संघर्ष करना होगा। पहले याश के तूफान में भी बर्बाद हुए अब बाढ़ ने डूबा दिया: अनिल किसान अनिल कुमार यादव ने कहा कि पहले याश के तूफान में भी बर्बाद हुए अब बाढ़ ने डूबा दिया। खगड़िया जिला मे 2 लाख हेक्टेयर फसल क्षति हुई लेकिन कृषि विभाग द्वारा लगभग 30 हजार हेक्टेयर फसल का ही जांच कर रहा है। उन्होंने किसानों से अपील करते हुए कहा कि हमे अपने संघर्ष के लिए आगे आना होगा और 16 सितंबर को किसानों के धरना प्रदर्शन में भाग ले कर फसल क्षति मुआवजा की मांग करना होगा। किसान सूर्य नारायण वर्मा ने कहा कि मजदूर किसान एक दूसरे के पूरक हैं। इनके बगैर खेती किसानी जिंदा नहीं रह सकता है। देश का ये दोनों किसान और मजदूर हाथ है। ये दोनों कमजोर हो गया तो देश कमजोर हो जाएगा। खेती बचेगी तो आवाम और मजदूर बचेंगे। इसलिए किसान के संघर्ष में मजदूर के बिना संघर्ष सफल नहीं होगा। इसलिए 16 सितंबर के धरना प्रदर्शन मे भाग लें। उक्त किसान सभा खर्रा धार महा दलित टोला के बंगला सामूहिक दरवाजे पर हुई। जिसकी अध्यक्षता राजकुमार पोद्दार ने किया तथा सभा को चंदन कुमार, बिपिन सिंह, राकेश सिंह, मिथलेश कुमार, मलकु सदा, शांति देवी, काजल देवी ने भी संबोधित किए।

खबरें और भी हैं...