पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

तैयारी:गरीबों के हक के आवाज के लिए सदा खड़े रहे रामविलास पासवान

खगड़िया9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
तैयारी में जुटे लोजपा जिलाध्यक्ष और कार्यकर्ता। - Dainik Bhaskar
तैयारी में जुटे लोजपा जिलाध्यक्ष और कार्यकर्ता।
  • आज शहरबन्नी गांव में श्रद्धांजलि कार्यक्रम का आयोजन, चिराग पासवान अपने परिवार के साथ होंगे उपस्थित

बिहार में परिवर्तन के नायक लोकनायक जयप्रकाश नारायण के आंदोलन के परिवर्तन के शंखनाद करने वाले बिहार के बेटा खगड़िया का लाल रामविलास पासवान के बरसी के मौके पर 15 सितंबर को यानि 12 बजे अलौली के शहरबन्नी गांव में श्रद्धांजलि कार्यक्रम का आयोजन किया गया है। जिसमें रामविलास पासवान के पुत्र चिराग पासवान पूरे परिवार के साथ उपस्थित रहेंगे। उक्त बातें प्रेस विज्ञप्ति जारी कर संयुक्त रूप से लोजपा जिलाध्यक्ष शिवराज यादव एवं पूर्व रेलवे के सदस्य सह लोजपा नेता राकेश कुमार सिंह ने कही। राकेश ने कहा कि स्व. रामविलास पासवान गरीब किसान मजदूर के हक के आवाज के लिए सदा खड़े रहे। बाबा साहब भीमराव अंबेडकर का पैगाम शिक्षित बनो, संगठित रहो, संघर्ष करो के ऐलान के महानायक हम सबके श्रद्धेय रामविलास पासवान की प्रथम बरसी पर उनके पैतृक गांव श्रद्धांजलि कार्यक्रम के लिए सभी जिलेवासियों एवं सभी राजनीतिक दलों के सदस्यों को आमंत्रित किया जाता है।

“मैं उस घर में दीया जलाने चला हूं जहां सदियों से अंधेरा रहा है”
उन्होंने कहा कि श्रद्धेय पासवान अपने राजनीतिक जीवन में हमेशा राष्ट्रहित और जनकल्याण को सर्वोपरि रखा। उनके द्वारा दिया गया संकल्प “मैं उस घर में दीया जलाने चला हूं जहां सदियों से अंधेरा है” उनकी वंचितो के प्रति संवेदनशीलता को दर्शाता है। उनके द्वारा स्थापित पार्टी लोजपाके राष्ट्रीय अध्यक्ष सह सांसद चिराग पासवान को पांडव जैसा वनवास भेजने का षड्यंत्र बिहार के मठाधीश द्वारा किया गया, लेकिन पासवान की आत्मा और बिहार की जनता चिराग के साथ है और देश के हजारों लाखों कार्यकर्ता चिराग पासवान के साथ संबल बनकर इस संकट से मुक्ति का शंखनाद करेगा।

मुख्यमंत्री ने अपने व्यवहार से बिहारी को लज्जित करने का किया काम: जिलाध्यक्ष
लोजपा जिलाध्यक्ष शिवराज यादव ने कहा कि स्व. रामविलास पासवान देश की राजनीति में जीवन के 50 साल दिया है। उनके बरसी पर पटना में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार श्रद्धांजलि भी अर्पित ना कर सकें। कहीं न कहीं नीतीश कुमार ने अपने व्यवहार से पूरे बिहारी को लज्जित करने का काम किया है। मुख्यमंत्री ने रामविलास पासवान साहब के प्रति अपनी ओछी मानसिकता का परिचय दिया एवं अपना दलित विरोधी चेहरे को उजागर किया। जो राज्य के मुख्यमंत्री होने के नाते यह कतई शोभा नहीं देता है। उन्होंने पूरे बिहार को शर्मशार किया है। जिलाध्यक्ष ने कहा कि रामविलास पासवान किसी जाति या पार्टी के नेता नहीं बल्कि पूरे भारत के उन महान विभूतियों में से एक थे। जिन्होंने सभी समाज का कल्याण की सोचते थे। ऐसे नेता की बरसी कार्यक्रम में राज्य के मुख्यमंत्री का शामिल नहीं होने पर खगड़िया लोजपा मुख्यमंत्री की घोर निंदा करती है।

खबरें और भी हैं...