फोरलेन पुल का सुपर स्ट्रक्चर गिरा:खगड़िया में बारिश-आंधी में भरभराकर ढहा; 1711 करोड़ की लागत से हो रहा तैयार

खगड़िया2 महीने पहले

बिहार के भागलपुर-खगड़िया के बीच गंगा नदी पर बन रहा फोरलेन पुल बारिश-आंधी नहीं झेल पाया। शुक्रवार देर रात निर्माणाधीन पुल का सुपर स्ट्रक्चर नदी में गिर गया। तीन पिलरों के 36 स्लैब यानी करीब 100 फीट लंबा हिस्सा भरभराकर ढह गया। रात में काम बंद था, इसलिए जनहानि नहीं हुई।

पुल का निर्माण 2015 से चल रहा है। इसकी लागत 1710.77 करोड़ रुपए है। एसपी सिंगला कंस्ट्रक्शन लिमिटेड कंपनी इसे बना रही है। बिहार के पथ निर्माण मंत्री नितिन नवीन ने कहा कि पुल निगम के MD के साथ एक टीम वहां जाकर जांच कर रही है।

इसके अलावा IIT रुड़की और NIT पटना की टीम को भी जांच के भेजा जाएगा। रिपोर्ट आने पर मामले में आगे की कार्रवाई की जाएगी। निर्माण कंपनी के इंजीनियर भी मौके पर जांच कर रहे हैं।

भागलपुर जिले के सुल्तानगंज में बन रहा यह पुल खगड़िया और भागलपुर जिलों को जोड़ने के लिए बनाया जा रहा है। इस फोरलेन पुल का सुपर स्ट्रक्चर शुक्रवार को धराशायी हो गया। रात करीब 1 बजे आई तेज आंधी और बारिश को पुल का स्ट्रक्चर बर्दाश्त नहीं कर पाया। इसके कुल 36 स्लैब नदी में गिर गए।

सुल्तानगंज की तरफ से पोल नंबर 4,5,6 के बीच ढलाई का काम चल रहा था। इसके लिए ये स्ट्रक्चर बनाया गया था। इस सुपर स्ट्रक्चर को केबल पर खड़ा किया गया था। इसके बावजूद ये गिर गया। ये स्ट्रक्चर करीब 100 फीट से ज्यादा लंबाई का था। गनीमत रही कि कोई इसकी चपेट में नहीं आया।

इस पुल का निर्माण एसपी सिंगला कंस्ट्रक्शन लिमिटेड कंपनी की ओर से 1710.77 करोड़ रुपए की लागत से किया जा रहा है।

दूरी होगी कम, झारखंड से जुड़ जाएगा
ये पुल अगुवानी और सुल्तानगंज घाट (भागलपुर जिला) के बीच बन रहा है। यह पुल बरौनी खगड़िया एनएच 31 और दक्षिण बिहार के मोकामा, लखीसराय, भागलपुर, मिर्जाचौकी एनएच 80 को जोड़ेगा। बिहार के खगड़िया की ओर से 16 किलोमीटर और सुल्तानगंज की ओर से चार किलोमीटर लंबा एप्रोच रोड के जरिये उत्तर बिहार सीधे मिर्जा चौकी के रास्ते झारखंड से जुड़ जाएगा। पुल बनने से खगड़िया से भागलपुर आने के लिए 90 किलोमीटर की दूरी की मात्र 30 किलोमीटर रह जाएगी।

केबल के साथ गिरा पुल का हिस्सा।
केबल के साथ गिरा पुल का हिस्सा।

विधायक ने की जांच की मांग

उधर, घटना की सूचना के बाद मौके पर पहुंचे सुल्तानगंज के जदयू विधायक ललित नारायण मंडल ने कहा कि हमने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को इस संबंध में जानकारी दी है। जल्द ही जांच शुरू की जाएगी। उन्होंने आरोप लगाया कि ऐसा लगता है कि निर्माण के लिए घटिया सामग्री का इस्तेमाल किया गया था। मामले की उच्च स्तरीय जांच कराई जाएगी। दोषी को बचने नहीं दिया जाएगा।

स्थानीय लोगों ने पुल के निर्माण कार्य की जांच की मांग की है। उनका कहना है कि प्रशासन इस मामले को गंभीरता से ले और मामले की जांच करवाए।

घटना के बाद मौके पर पहुंचे पुलिस अधिकारी।
घटना के बाद मौके पर पहुंचे पुलिस अधिकारी।

JDU विधायक बोले- गुणवत्तापूर्ण कार्य नहीं होने से गिरा स्ट्रक्चर

CM नीतीश ने 8 साल पहले रखी थी आधारशिला
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 23 फरवरी 2014 को खगड़िया जिले के परबत्ता में पुल निर्माण की आधारशिला रखी थी। इसके बाद 9 मार्च 2015 को पुल निर्माण का काम शुरू हुआ था। पुल की लंबाई 3.160 किलोमीटर है।

पुल का 100 फीट का हिस्सा भरभराकर गिर गया।
पुल का 100 फीट का हिस्सा भरभराकर गिर गया।