पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गांजा की लूट:कंचनजंगा ट्रेन से खगड़ा रेल फाटक के पास गिरी गांजे से भरी बोरी, ले भागे लोग

किशनगंज18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
खगड़ा रेलवे फाटक के पास फेंके गए गांजे को उठाते लोग। - Dainik Bhaskar
खगड़ा रेलवे फाटक के पास फेंके गए गांजे को उठाते लोग।
  • जांच में जुटी जीआरपी और आरपीएफ की टीम, टीम को किसी प्रकार का मादक पदार्थ बरामद नहीं हुआ, लोगों ने कहा-ट्रेन से फेंकी गई थी गांजे की बोरी

शहर के खगड़ा रेलवे फाटक के समीप कंचनजंगा से गांजा का बैग गिरने के बाद लोगों में लूटने की होड़ मच गई। लूटने वालों में पुरुषों के साथ महिलाएं भी पीछे नहीं हटी। चंद मिनटों में गांजा के पुड़िया को चुनकर लोग भाग खड़े हुए। जानकारी जब तक किशनगंज आरपीएफ को मिली, तब तक बहुत लेट हो चुका था। लोग गांजा लूटकर मौके से भाग खड़े हुए। सूचना पर आरपीएफ की टीम मौके पर पहुंची। हालांकि आरपीएफ की टीम को किसी प्रकार का मादक पदार्थ बरामद नहीं हुआ। टीम को सूचना मिली थी कि रविवार को चलती ट्रेन से किसी के द्वारा रेलवे गुमटी के पास मादक पदार्थ फेका गया है। इसकी सूचना आरपीएफ व रेल थाना की पुलिस को जैसे ही मिली टीम के कान खड़े हो गए। सूचना मिलते ही आरपीएफ की टीम मौके पर पहुंची। हालांकि टीम को मौके से ऐसा कोई भी नशीला पदार्थ बरामद नहीं हुआ। टीम ने आसपास के लोगों से मामले की पड़ताल भी की। इस संबंध में कोई भी कुछ बोलने को तैयार नहीं था। इधर, आशंका जताई जा रही है कि ट्रेन में तस्करी का सामान ले जाया जा रहा होगा, लेकिन आरपीएफ व जीआरपी की चेकिंग के कारण नशीला पदार्थ को ट्रेन के बाहर फेंक दिया गया होगा। टीम मामले में कई बिंदुओं पर जांच कर रही है। गहराई से जांच के बाद ही कई रहस्यों से पर्दा उठ सकता है। रेलवे गुमटी के असपास रहने वाले लोगों की माने तो कंचनजंगा एक्सप्रेस ट्रेन खगड़ा रेलवे गुमटी से गुजर रही थी। तभी ट्रेन की बोगी से एक बोरी नीचे फेंका गया था। इसके बाद देखते ही देखते लोग वहां जुटने लगें और बोरी में रखा पदार्थ गायब हो गया। रेल थानाध्यक्ष सतीश कुमार ने कहा कि आरपीएफ की टीम वहां पहुंची थी। लेकिन किसी प्रकार का संदिग्ध वस्तु नहीं मिला है। मामले की पड़ताल की जा रही है। पूछताछ में गांजा लूट की बात सामने आई है।

गांजा तस्करों से सांठ-गांठ का संदेह
जीआरपी ने हर बिंदु पर जांच शुरू कर दी है। आशंका है कि जिस स्थानीय तस्कर को गंजा की बोरी लेनी थी। वह समय पर नही पहुंच सका। जिसके कारण ट्रेन में सवार गांजा तस्कर ने बोरी को नीचे गिरा दिया। स्थानीय लोगों की नजर पड़ी और गांजा लूट लिए। दूसरी आशंका जताई गई है कि स्टेशन में जीआरपी व आरपीएफ के भय से बोरी को तस्कर नीचे फेंक दिया। ट्रेन की रफ्तार तेज होने के कारण वह उतर नहीं सका। बता दें कि बिहार में शराब बंदी के बाद सूखे नशा के आदि हो गए हैं। युवाओं में गांजा के साथ स्मैक का लत पूरी तरह लग गया है। इसको लेकर तस्कर तरह तरह के हथकंडे अपना रहे हैं। इसका खुलासा तब हुआ जब लोगों ने ही गांजा से भरी बोरी को लूट ली।

खबरें और भी हैं...