अब तक 13 मौतें:कोरोना से बुजुर्ग की मौत, पॉजिटिव आने के अगले दिन अस्पताल के रास्ते में तोड़ा दम

किशनगंज6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिले में रिकार्ड 113 संक्रमित मरीज मिले, एक्टिव मरीजों की संख्या बढ़कर हुई 801

जिले में मंगलवार की देर शाम एक बुजुर्ग की मौत कोरोना से होने की पुष्टि हुई है। मृतक की पहचान ठाकुरगंज निवासी 62 वर्षीय मोहम्मद मुस्लिम के रूप में हुई है। तबियत खराब होने के बाद 26 अप्रैल को उसने कोविड टेस्ट करवाया था। पॉजिटिव रिपोर्ट आने के अगले दिन उसे डेडिकेटेड कोविड केयर सेंटर लाया जा रहा था, लेकिन रास्ते में ही उसने दम तोड़ दिया।

कोरोना के दूसरे वेब में अबतक जिले में 13 लोगों की मौत हो गयी है। हालांकि पिछले वर्ष के आंकड़े को जोड़ दिया जाए तो मरने वालों की संख्या 29 है। बुधवार को जिले में रिकार्ड 113 संक्रमित नए मरीज मिले हैं। कोरोना के पहले और दूसरे वेब में एक दिन में कोरोना मरीज मिलने का यह सबसे अधिक संख्या है।

कोरोना के बढ़ते संक्रमण के चेन को तोड़ने का प्रयास जिला प्रशासन द्वारा लगातार किया जा रहा है। जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग ट्रेसिंग, टेस्टिंग, ट्रीटमेंट, वेक्सीनेशन एवं जागरूकता पर फोकस कर रही है। गुरुवार को भी डीएम आदित्य प्रकाश ने समाहरणालय परिसर से छह प्रचार रथ को रवाना किया।

यह रथ नगर परिषद क्षेत्र में लगातार घूमकर लोगों को घरों से अनावश्यक बाहर नहीं निकलने, मास्क लगाकर ही निकलने, सामाजिक दूरी बनाने, लक्षण दिखाई देने पर टेस्ट करवाने, वेक्सीन लेने सहित कोविड प्रोटोकाल के नियमों का पालन करने के प्रति जागरूक करेगी।

उम्रदराज लोग घरों में ही अधिक समय बिताएं : सिविल सर्जन
सिविल सर्जन डॉ श्रीनंदन ने बताया कि बुजुर्ग लोगों को अपना अधिकांश समय घरों में ही बिताना चाहिए। बाहर से मिलने के लिए आने वाले मेहमानों या अन्य किसी से सीधे संपर्क में आकर मिलने से पूरी तरह परहेज करना चाहिए। यदि मिलना जरूरी है तो एक मीटर के दूरी पर रहकर मुलाकात करें।

बुजुर्गों से कहा गया है कि यदि वह घर में अकेले रह रहे हों तो अपने पड़ोसिंयों को इस बात की जानकारी जरूर दें। ताकि समय समय पर आवश्यक वस्तुएं उनके दवारा उपलब्ध करायी जा सके। बुजुर्ग को सलाह दी गई कि बर्थ डे पार्टी, वैवाहिक समारोह या धार्मिक सभाओं में बिल्कुल हिस्सा नहीं लें। घर में रहने के दौरान खुद को घरेलू कामकाज में व्यस्त रख एक्टिव रहें। खांसते व छींकते समय टिश्यू पेपर या रूमाल का इस्तेमाल करें।

यदि बुखार, कफ या सांस लेने में तकलीफ या स्वास्थ्य से जुड़ी अन्य समस्याएं होती हैं तो नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र से संपर्क कर चिकित्सीय परामर्श प्राप्त करें। आपके साथ नहीं रहने वाले परिवार के सदस्य, रिश्तेदार व दोस्तों आदि से फोन कॉल या वीडियो काॅफ्रेंसिंग से बात करें और जरूरत पड़ने पर मदद प्राप्त करें।

खबरें और भी हैं...