पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लेटलतीफी:तीन साल में नहीं सुलझा जमीन विवाद शहर में गड्‌ढे खोज कचरा फेंक रही नप

किशनगंज20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
शहर से सटे टेउसा पंचायत के महेशबथना पंचायत में नप द्वारा खरीदी गई जमीन। - Dainik Bhaskar
शहर से सटे टेउसा पंचायत के महेशबथना पंचायत में नप द्वारा खरीदी गई जमीन।
  • 12 वर्ष पूर्व बनाए गए ट्रेंचिंग ग्राउंड का लोग कर रहे विरोध, कचरा फेंकने की समुचित व्यवस्था नहीं
  • खाता-खेसरा गलत दर्ज होने से चार एकड़ जमीन रजिस्ट्री नहीं हो सकी

कचरा प्रबंधन के लिए नगर परिषद द्वारा तीन वर्ष पूर्व टेउसा पंचायत के महेशबथना में खरीदी गई 12 एकड़ जमीन का विवाद अब तक नहीं सुलझ पाया है। जानबूझकर या तकनीकी भूल से खाता खेसरा गलत दर्ज हो जाने के कारण लगभग चार एकड़ जमीन पर भूस्वामी ने दावा कर दिया कि यह जमीन रजिस्ट्री ही नहीं की गई। इसका खुलासा होते ही नगर परिषद के जिम्मेदारों के कान खड़े हो गए। काफी हाथ पैर मारने के बाद जमीन मालिक चार एकड़ जमीन पुनः रजिस्ट्री करने को तैयार हुए। लेकिन अब भी पेंच बरकरार है। निबन्धन कार्यालय द्वारा भी जमीन के निबन्धन पर रोक लगा रखा है। नप के ईओ कुछ भी बताने से बचते नजर आए। 12 वर्ष पूर्व टेउसा पंचायत के ही ढेकसारा में नगर परिषद द्वारा कचरा प्रबंधन के लिए तीन एकड़ जमीन की घेराबंदी कर कचड़ा फेंकना शुरू किया था। लेकिन आवासीय इलाका होने के कारण इसका विरोध शुरू हो गया। स्थानीय लोगों द्वारा शिकायत किया गया कि दुर्गन्ध के कारण घर में रहना मुश्किल हो गया है। बच्चों और बुजुर्गों को सांस की तकलीफें बढ़ गयी है। स्थानीय लोगों ने ट्रेंचिंग ग्राउंड में ताला जड़कर सड़क पर प्रदर्शन किया था। उसके बाद नगर प्रशासन के द्वारा शहर में ही जहां तहां कचरा फेंका जाने लगा। खगड़ा मेला ग्राउंड के एक दर्जन तालाबनुमा गड्ढे इन कचरे से भर दिए गए। यहीं आफिसर्स कालोनी और एसडीएम कार्यालय भी है। यहीं शिक्षा विभाग के बीआरसी के चारों ओर इतना कचड़ा फेंका गया कि वहां के कर्मचारियों को काम करना मुश्किल होने लगा।

जहां-तहां कचरा फेंकने से लोग परेशान
अब नगर परिषद जहां तहां गड्ढा देख कचड़ा फेंक रहा है। शहर में भी कचड़ा जहां तहां पसरा रहता है। शहर के 34 वार्ड में 20 वार्ड की साफ सफाई का दायित्व एनजीओ के जिम्मे है। बांकी 14 वार्ड का दायित्व नप के हवाले है।

स्टेडियम में जलजमाव का बड़ा कारण बना है कचरा
मेला परिसर के दर्जनों गड्ढों सहित यहीं मौजूद स्टेडियम के चारों ओर के गड्ढों को कचरे से भर दिए जाने का नतीजा ये हुआ कि बारिश का पानी जो इन गड्ढों के जरिए भूगर्भ में जाता था, वह रुक गया। नतीजा मेला कैंपस सहित स्टेडियम में जलजमाव होने लगा। अब हर बरसात में क्षेत्र में जलजमाव होने लगा है। एक वर्ष पूर्व लोगों की शिकायत पर डीएम ने केस करने का निर्देश दिया था। बावजूद लोग चोरी-छिपे कचरा फेंक रहे हैं।

कचरा डंपिंग को लेकर जल्द मिल जाएगी जमीन
नप के ईओ दीपक कुमार ने कहा कि जल्द ही महेशबथना में खरीदी गई जमीन का मामला साफ हो जाएगा। एक दो दिनों में शेष चार एकड़ जमीन का भी निबन्धन हो जाएगा। उसके बाद जमीन की घेराबंदी शुरू कर दिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...