पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बाढ़ का कहर:मंझोक गांव में महानंदा ने बनाई नई धारा, सड़क बहा ले गई नदी, 30 हजार की आबादी प्रभावित

किशनगंज10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मजारशरीफ मंझौक पर कटाव का खतरा, यहीं महानंदा ने नई धारा बना ली है। - Dainik Bhaskar
मजारशरीफ मंझौक पर कटाव का खतरा, यहीं महानंदा ने नई धारा बना ली है।
  • बाढ़ का पानी उतरते ही महानंदा मचा रही तबाही, सैकड़ों एकड़ जमीन डूबी
  • हाल पूछते ही रोने लगी महिलाएं, कहा चार दिन किसी तरह बच्चों का जीवन बचाया
  • मजार शरीफ सहित मदरसे पर कटाव का खतरा, पहले लोगों की थीे उपजाऊ जमीन

बाढ़ का पानी उतरते ही महानंदा नदी द्वारा मचाई गई तबाही के निशान प्रखंड के दौला और महीनगांव पंचायत में नजर आने लगे हैं। मंगलवार को भास्कर की टीम ग्राउंड रिपोर्ट लेने इस पंचायत के बाढ़ प्रभावित गांवों में पहुंची। बाढ़ का तांडव ऐसा था कि मंझोल चौक से ही करीब दो किलोमीटर आगे महानंदा की मुख्य धारा बह रही थी, जो अब यहां से एक नई धारा बनाकर बह रही है। अपनी आंखों से ग्रामीणों ने अपनी तबाही देख रहे हैं। सैकड़ों एकड़ जमीन और बड़े-बड़े पेड़ नदी लील चुकी है। ग्रामीणों ने कहा आगे क्या होगा पता नहीं।  टीम शहर के हलीम चौक से महीनगांव पंचायत के डीलर चौक के आगे तक सबकुछ सामान्य है। इसके आगे बढ़ते ही टूबानगर के पास महानंदा के उप लाने के बाद पानी सड़क के किनारे नजर आने लगा। यहां सड़क पर पानी चढ़ आया था एवं दो से तीन फीट तक पानी सड़क पर था। यहीं सड़क किनारे महदुल हुदा अली इस्लामी टुबानगर मदरसा है। मदरसे की चहारदीवारी के पीछे पानी है। यहीं पास में रहनेवाले तस्लीम ने बताया कि कल तक हमारे घर में दो फीट पानी था। जो पानी अभी दिख रहा है यह नदी नहीं है बल्कि जब नदियां उफनाई तो पानी यहां तक आ गया। पानी में तेज बहाव है।

सैकड़ों एकड़ जमीन व बड़े पेड़ लील चुकी है नदी 
मंझोक चौक से ही करीब से करीब एक किलोमीटर मजार शरीफ है। यह बाबा शमसुल हुदा की मजार है जिसपर ग्रामीणों की बड़ी आस्था है। प्रत्येक साल यहां उर्स का आयोजन होता है। इस पर अब कटाव का खतरा है। ग्रामीण बेहद दुखी है। ग्रामीण तनवीर ने धारा दिखाई कहा कि यहां इसी साल हमने मिर्च की खेती की थी अब यहां से महानंदा बह रही है। महानंदा की मुख्य धार यहां से दो किलोमीटर दूर थी। अपनी आंखों से हम अपनी तबाही देख रहे हैं। सैकड़ों एकड़ जमीन और बड़े-बड़े पेड़ नदी लील चुकी है।  

बलिया मंझोक सड़क पूरी तरह क्षतिग्रस्त
यहां से आगे बढ़ने पर बलिया-मंझोक सड़क पर रस्सियां बंधी दिखी। आगे पानी का रेत था। ग्रामीणों ने अपने पेड़, बांस आदि काटकर सड़कों को बचाने के लिए ऐसा किया था पर सड़क को पूरी तरह नहीं बचा पाए। आधी सड़क नदी बहा ले गई। यहां तंजीम राही, समीजा खातून, खैरुल हक, प्रीतम शर्मा आदि मिले। पूछते ही समीजा खातून फफक कर रो पड़ी। कहा चार दिन अपने बच्चों के साथ किसी तरह जीवन को बचाया बस यहीं समझिए। कोई पूछने तक नहीं आया। अपने पेड़ पौधे काटकर सड़क के किनारे रस्सियों से डाला। 10 जुलाई से पानी बढ़ना शुरु हुआ था। आज मंगलवार को जाकर पानी उतरा है।

मंझोक चौक पर ग्रामीणों का चेहरे उदास
आगे मंझोक चौक पर ग्रामीणों का मेला लगा है। पर सबके चेहरे उदास हैं। सामने मंझोक गांव से एक नाव आती दिख रही है। यह टोला चारों ओर पानी से अब भी घिरा है। पानी का बहाव कम होने पर नाव चल रही है एवं कुछ ग्रामीण नाव से अपने घरों का जाकर मुआयना कर वापस सड़क पर आ रहे हैं। इसमें से दो रास्ते पर से आज मंगलवार को ही पानी हटा है।

विभाग ने शुरू किया काम, दो नाव भी दी गई
96 घंटा पानी ठहरने के बाद ही आपदा प्रबंधन विभाग उसे बाढ़ मानता है। मंझोक यादव टोला में कटाव हो रहा है। इसकी सूचना डीएम को दी गई है। यहां बाढ़ नियंत्रण एवं जल निस्सरण विभाग के द्वारा काम शुरु कर दिया गया है। आज मैं खुद प्रभावित क्षेत्र में गया था। यहां दो नाव परिवहन के लिए दिया गया है।
सफी अख्तर,सीओ

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज घर के कार्यों को सुव्यवस्थित करने में व्यस्तता बनी रहेगी। परिवार जनों के साथ आर्थिक स्थिति को बेहतर बनाने संबंधी योजनाएं भी बनेंगे। कोई पुश्तैनी जमीन-जायदाद संबंधी कार्य आपसी सहमति द्वारा ...

    और पढ़ें