पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

विशेष बैठक:नप अध्यक्ष की कुर्सी पर अविश्वास का खतरा वित्तीय अनियमितता समेत कई गंभीर आरोप

किशनगंज2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वार्ड पार्षद सुशांत गोप के नेतृत्व में ईओ को आवेदन सौंपते पार्षद। - Dainik Bhaskar
वार्ड पार्षद सुशांत गोप के नेतृत्व में ईओ को आवेदन सौंपते पार्षद।
  • वार्ड-24 के पार्षद के नेतृत्व में असंतुष्ट पार्षदों ने ईओ को सौंपा आवेदन
  • आवेदन पर 16 पार्षदों के मुहर युक्त हस्ताक्षर

नगर परिषद के अध्यक्ष पद पर अविश्वास का खतरा मंडराने लगा है। शुक्रवार को वार्ड-24 के पार्षद सह भाजपा जिलाध्यक्ष सुशांत गोप के नेतृत्व में असंतुष्ट पार्षदों का एक प्रतिनिधिमंडल नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी को आवेदन सौंपा। आवेदन में नगर परिषद के अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव को लेकर विशेष बैठक बुलाए जाने की मांग की गई है। आवेदन में 16 पार्षदों के मुहर युक्त हस्ताक्षर हैं।

शहर में 34 वार्ड है। इन पार्षदों ने नगर परिषद अध्यक्ष पर सभी वित्तीय अनियमितताओं पर सहमति देने, अन्य पार्षदों के साथ अशोभनीय व्यवहार करने, सरकारी राशि का बंदरबांट करने, सभी वित्तीय अनियमितताओं में सहयोग करने व जन कल्याणकारी योजनाओं में रुचि नहीं लेने का आरोप लगाया है। बताते चलें पार्षदों का कार्यकाल पूरा होने में एक वर्ष शेष है।

अविश्वास प्रस्ताव के लिए विशेष बैठक बुलाए जाने की मांग करनेवालों में सुशांत गोप, अजमेरी खातून, अनवर आलम, विजय देव, देवेन यादव, दीपाली सिंह, आमना बेगम अंसारी, शुकला दास, जेबा यासमीन, जमशेद आलम, गौसिया बेगम, जानकी देवी, पिंकी देवी, अजमुन निशा, मनोज कुमार हांसदा व फरहीन बेगम के हस्ताक्षर हैं।

नगर परिषद के पार्षदों का चुनाव मई 2017 में हुआ था। जून 2017 में अध्यक्ष व उपाध्यक्ष पद के लिए हुए चुनाव में जानकी देवी अध्यक्ष व जमशेद आलम उपाध्यक्ष चुने गए, लेकिन दो वर्ष बाद 2019 के अगस्त में इन दोनों के खिलाफ पार्षदों ने अविश्वास प्रस्ताव लाया जो सफल रहा।

खबरें और भी हैं...