पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्रेरक:एसपी कुमार आशीष बोले-पूजा कुमारी, राहुल कुमार, सुमन कुमार व गौतम कुमार। ने सूबे में बढ़ाया मान

किशनगंजएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

नाैकरी मिलने के बाद भी अफसर बनने की ललक में चार कांस्टेबल दारोगा बन गए हैं। गुरुवार को बिहार पुलिस अवर सेवा आयोग द्वारा दारोगा व सहायक जेल अधीक्षक के पदों के लिए घोषित रिजल्ट के बाद इनका चयन अंतिम रूप से हुआ है। गया सत्तोपूर, गुरारो के राहुल कुमार, मिराठी सुलतानगंज भागलुपर के गौतम कुमार, मोहनियां सोन्धी भभुआ की पुजा कमारी पिता अजय सिंह, रजौन बांका के समन कुमार पिता केदार प्रसाद मोदी व बीबीगंज थाने में पदस्थापित चालक सिपाही हनुमन्त की पत्नी चिंता कुमारी का चयन दारोगा पद के लिए हुआ है।

ये सभी किशनगंज पुलिस में तैनात हैं। जिला बल में पदस्थापित चार युवा कांस्टेबल ने सिपाही की नौकरी में रहते हुए अधिकारी बनने का सपना साकार किया है।दारोगा पद पर चयनित राहुल कुमार से पूछा गया की सबसे ज्यादा व्यस्त माने जाने वाले विभाग में रहने के बाद भी अधिकारी बनने का सपना कैसे संजोया। इस पर उन्होंने कहा कि अगर आपको आगे बढ़ने की ललक और कुछ कर गुजरने की तमन्ना होगी तो आप निश्चित ही सफलता हासिल कर सकते हैं। सुमन, पूजा, चिंता व गौतम ने कहा कि आप बेहतर करना चाहते हैं तो ये आपको ही तय करना होगा की तैयारी के लिए कौन समय उपयुक्त होगा। सभी ने किशनगंज एसपी कुमार आशीष को सफलता के लिए प्रेरणीय बताते हुए कहा है कि एसपी सर ने हम लोगों को हमेशा ही कुछ बेहतर करने के लिए प्रेरित किया। उनके कई सारे मोटिवेट करने वाली बातों को भी पढ़ा है। हमें किसी भी मामले में कुछ जानना या परेशानी होती थी तो वे जब भी लाइन आते थे।

उनसे बात कर जानकारी ले लेता था। एसपी कुमार आशीष ने कहा कि डयूटी के साथ साथ तैयारी करना आसान नही है। किशनगंज में तैनात पुलिस कर्मियों ने ये कर दिखाया है कि ललक हो तो इंसान किसी भी मंजिल तक आसानी से पहुंच सकते हैं। उन्होंने कहा कि सभी अपने अभिवावक के साथ किशनगंज पुलिस का नाम सूबे में रोशन किया है।

खबरें और भी हैं...