पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

साहब! कहां करेंगे मतदान:5 दिन में बेंगा के 20 घर कोसी नदी में समाए, अब बूथ पर संकट

किशनपुर5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कटाव करते हुए पक्की सड़क तक पहुंची नदी, यहीं झोपड़ी के स्कूल में है बूथ।
  • तटबंध के भीतर बसे गांवों में कटाव कर रही कोसी, आरडीओ कह रहे- वरीय को है जानकारी
  • प्राथमिक विद्यालय बेंगा बूथ नंबर-18 से 15 फीट नजदीक पहुंची कोसी

काेसी नदी एक बार फिर से तटबंध के भीतर बसे गावों में कोहराम मचाने लगी है। जिले के दो प्रखंड क्षेत्रों में कटाव से लोग हलकान हैं। अब लोग सवाल उठा रहे हैं कि जब लोकतंत्र के महापर्व को लेकर मतदान केंद्र को बचाने की कवायद नहीं चल रही है तो हमारे घरों की सुरक्षा पर प्रशासन क्या ध्यान देगा। कोसी के कटाव में सरायगढ़-भपटियाही प्रखंड के बनैनिया पंचायत के औराही गांव में 25 घर नदी में समा गए हैं। जबकि, सिहपुर के वार्ड 11 में भी कटाव जारी है। बनैनिया पंचायत के मुखिया श्याम कुमार यादव ने कहा कि औराही का 25 घर नदी में समा गया है। किशनपुर प्रखंड अंतर्गत पूर्वी कोसी तटबंध के भीतर बसे गावों में भीषण कटाव शुरू है। नदी के कटाव के कारण बौराहा पंचायत के वार्ड 02 स्थित बेंगा गांव के 43 से अधिक घर जल समाधि ले चुके हैं। बीते 05 दिनों में ही 20 घर नदी में विलीन हो गए। जबकि, 80 से अधिक घरों पर कटाव का खतरा मंडरा रहा है। नदी ने पक्की सड़क का कटाव भी शुरू कर दिया है। जो सड़क करीब आधा किलोमीटर कटाव की भेंट चढ़ चुकी है। वहीं, सड़क किनारे स्थित गांव के इकलौते सरकारी विद्यालय पर संकट गहरा गया है। बता दें कि इस विद्यालय में पोलिंग बूथ भी है। ग्रामीणों की मानें तो नदी तेजी से कटाव कर रही है। रविवार को नदी विद्यालय के करीब 15 फीट नजदीक पहुंच गई। वहीं, ग्रामीणों ने बताया कि बीते करीब दो माह के भीतर गांव सहित आसपास के 500 एकड़ से अधिक में लगी फसल कोसी नदी में समा चुकी है। वहीं, कटाव देख ग्रामीण अपना आशियाना खुद उजाड़ने काे विवश हैं।

70 साल में 10 बार कोसी में समा चुका विद्यालय
पंचायत के मुखिया उदय कुमार चौधरी ने बताया कि जब से कोसी के जलस्तर में कमी आई है। तब से कटाव जारी है। अभी प्राथमिक विद्यालय बेंगा समेत 80 घर पर कटाव का संकट मंडरा रहा है। 7 नवंबर को विधानसभा चुनाव को लेकर मतदान होना है। ऐसे में मतदान केन्द्र के अस्तित्व पर भी खतरा गहरा गया है। लोगों ने कहा कि मामले को लेकर आरडीओ एवं सीओ को पूर्व में सूचना दी गई है। विभागीय स्तर से कटावरोधी कार्य शुरू नहीं किया गया है। करीब 70 वर्ष पुराना प्राथमिक विद्यालय बेंगा अब तक करीब 10 बार कोसी नदी की धारा में समा चुका है। बीते वर्ष 2016 में भी विद्यालय कोसी में विलीन हो गया था। जिसके बाद ग्रामीणों के सहयोग से झोपड़ी बनवाकर विद्यालय संचालन शुरू कराया गया था। इस विद्यालय में गांव के करीब 400 बच्चे नामांकित हैं। मुखिया ने कहा कि कटाव की जद में आए 15 परिवारों की सूची 25 अगस्त एवं 08 परिवारों की सूची 16 अक्टूबर को सीओ कार्यालय में उपलब्ध कराया गया है। बीते दो माह के दौरान कोसी के कटाव की जद में आने वाले परिवारों के समक्ष रहने-खाने की समस्या उत्पन्न हो गई है।

डूब गई खेती में लगाई गई प्रति एकड़ 10 हजार रुपए की पूंजी
स्थानीय गुलाब राय, नीतीश राय, रामानंद राय, युगेश्वर साह, शंभू साह, संझा देवी, सुमिन्दर राम, देवीलाल राम सहित अन्य पीड़ितों ने कहा कि हमारा घर बीते पांच दिनों में कोसी नदी में कट चुका है। विभागीय स्तर से किसी प्रकार की सहायता नहीं दी गई है। जबकि पूर्व में 23 लोगों का घर कटाव की भेंट गया था। पीड़ितों ने कहा कि धान की खेती के लिए प्रति एकड़ 10 हजार रुपए लागत आई थी। किसानों को अच्छी फसल होने के कारण बढ़िया पैदावार की उम्मीद थी। लेकिन 500 एकड़ में लगी फसल कोसी नदी के कटाव की भेंट चढ़ गई।

व्यस्तता के कारण नहीं दिया मुआवजा
15 पीड़ित परिवारों की सूची राजस्व कर्मचारी द्वारा सौंपी गई है। 8 लोगों की जांच के लिए निर्देश दिया गया है। चुनाव में व्यस्तता के कारण मुआवजा उपलब्ध कराने में देर हो रही है।
- संध्या, सीओ, किशनपुर

विभाग को दी गई है बूथ की जानकारी
कोसी की धारा में विद्यालय पर कटाव के संकट की जानकारी मिली है। इस संबंध में उच्चाधिकारी को सूचित कर दिया गया है। जैसा दिशा निर्देश मिलेगा, वैसा किया जाएगा।
-अजीत कुमार, आरडीओ

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपने विश्वास तथा कार्य क्षमता द्वारा स्थितियों को और अधिक बेहतर बनाने का प्रयास करेंगे। और सफलता भी हासिल होगी। किसी प्रकार का प्रॉपर्टी संबंधी अगर कोई मामला रुका हुआ है तो आज उस पर अपना ध...

और पढ़ें