पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

आत्महत्या:खैनी के लिए 20 रुपए घर से लेकर निकले व्यक्ति की सुबह पेड़ से लटकी मिली लाश

लखीसराय11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मौत की घटना के बाद रोते-बिलखते परिजन।
  • किऊल नदी के किनारे की घटना, मृतक कवैया का रहने वाला था

आर्थिक परेशानी से तंग आकर एक युवक ने किऊल नदी के किनारे एक पेड़ से लटक फांसी लगा आत्महत्या कर ली। युवक की पहचान कवैया थाना क्षेत्र के जोड़ा मंदिर कवैया निवासी ब्रह्मदेव राम के पुत्र अरुण राम के रूप में की गई है। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया। हालांकि घटना के संबंध में फिलहाल एफआईआर दर्ज नहीं हुई है। मृतक के भाई सुनील राम और राकेश कुमार ने बताया कि आर्थिक स्थिति ठीक नहीं रहने के कारण फांसी लगाकर आत्महत्या की। युवक राजमिस्त्री का काम करता था। लॉकडाउन में काम बंद रहने के कारण आर्थिक तंगी की स्थिति बन गई थी। आर्थिक तंगी और कर्ज होने की वजह से घर में अनबन होता रहता था।

मृतक के गुप्तांग से निकल रहा था खून
पुलिस की पड़ताल में उनके गुप्तांग से खून का रिसाव होते देखा गया। डॉक्टर के अनुसार मृतक के गुप्तांग से स्वभाविक प्रक्रिया के तहत खून का रिसाव हुआ था। पोस्टमार्टम करने वाले चिकित्सक डॉ. विपिन कुमार ने बताया कि मृतक के गुप्तांग से खून का रिसाव हुआ था। उन्होंने कहा कि फांसी लगाकर झूलने के दौरान इंटरनल इंज्यूरी होने के कारण रक्तस्त्राव की संभावना होती है। रस्सी टाइट थी।

किऊल नदी के तरफ गए लोगों की नजर पड़ी झूलती लाश पर
परिवार के सदस्यों ने बताया कि मृतक अरुण राम गुरुवार की रात करीब आठ बजे खैनी के लिए 20 रुपया मांग कर घर से निकला था। पूरी रात नहीं लौटने पर परिजन परेशान रहे। सुबह में किऊल नदी के तरफ गए लोगों की नजर अरुण राम के झूलती हुई लाश पर पड़ी।

पुलिस मामले की कर रही है पड़ताल
युवक के फांसी लगाकर आत्महत्या करने की घटना हुई है। फिलहाल परिजन ने किसी तरह का फर्दबयान या आवेदन नहीं दिया है। पुलिस मामले की पड़ताल में जुटी हुई है। घटना के कारणों को भी तालाश रही है।
राजीव कुमार,थानाध्यक्ष,लखीसराय

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- पिछले कुछ समय से आप अपनी आंतरिक ऊर्जा को पहचानने के लिए जो प्रयास कर रहे हैं, उसकी वजह से आपके व्यक्तित्व व स्वभाव में सकारात्मक परिवर्तन आएंगे। दूसरों के दुख-दर्द व तकलीफ में उनकी सहायता के ...

और पढ़ें