पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

ऐसे हुआ खुलासा:नगर परिषद की फर्जी मुहर बना फर्जी आर्किटेक्ट सुमन सिंह बैंकों से दिलाता रहा लोगों कोे होम लोन

लखीसराय4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
लखीसराय नगर परिषद कार्यालय में इसी फर्जी नक्शा को लेकर पहुंचा था लाभुक, नक्शे पर फर्जी आर्किटेक्ट की जांच हुई तब हस्ताक्षर से खुला फर्जीवाड़ा। - Dainik Bhaskar
लखीसराय नगर परिषद कार्यालय में इसी फर्जी नक्शा को लेकर पहुंचा था लाभुक, नक्शे पर फर्जी आर्किटेक्ट की जांच हुई तब हस्ताक्षर से खुला फर्जीवाड़ा।
  • एक लाभुक अपने घर का नक्शा लेकर नगर परिषद कार्यालय पहुंचा तो पता चला कि नक्शा फर्जी है, इस पर साइन करने वाला आर्किटेक्ट भी नप में कार्यरत नहीं है

नगर परिषद के नाम पर भवनों के फर्जी नक्शा पास कराने का खुलासा हुआ है। एक फर्जी आर्किटेक्ट का कारनामा पकड़े जाने पर यह खुलासा हुआ है। यह फर्जी आर्किटेक्ट अब तक लाखों रुपए का चूना नगर परिषद को लगा चुका है।

मामला पकड़े जाने के बाद नगर परिषद फर्जी आर्किटेक्ट की तलाश कर रहा है। नगर परिषद की मानें तो भवन के नक्शे पर नगर परिषद का मुहर लगाकर बैंक एवं एलआईसी के होम फाइनेंस डिविजन से लोन पास कराया जा रहा है। नगर परिषद ने इस मामले को तब पकड़ा, जब एक व्यक्ति नगर परिषद की लगी मुहर वाला नक्शा लेकर नप कार्यालय पहुंच गया। जब इसकी पूरी तरह से तहकीकात की गई तो नक्शा पर जिस आर्किटेक्ट का आम अंकित था, उस नाम का कोई भी रजिस्टर्ड आर्किटेक्ट नहीं मिला।

तब पता चला कि यह कोई फर्जी आर्किटेक्ट है, जो फर्जी नक्शा पास कराकर लोगों को हाेम लोन दिलवाता है। ऐसे कई मामले हैं जिसमें फर्जी नक्शा के आधार पर फर्जी अर्किटेक्ट ने नगर परिषद को चूना लगाकर होम लोन पास करा दिया। अब सबकी जांच चल रही है, इसमें एक बड़े फर्जीवाड़े का खुलासा होने की संभावना है।

आर्किटेक्ट सुमन सिंह कौन है ? नप को नहीं पता
आर्किटेक्ट सुमन सिंह कौन हैं, नगर परिषद इसका पता लगा रही है। पकड़े गए नगर परिषद के फर्जी नक्शे पर आर्किटेक्ट सुमन सिंह का नाम अंकित है। नक्शे पर नगर परिषद की मोहर भी लगी है। बैंक एवं एलआईसी की मिली भगत से फर्जी नक्शा बनाने का काम सालों से चल रहा है। अब कितने फर्जी नक्शों पर लोन पास कराया गया है, नगर परिषद इसकी जांच में जुटी है।

नक्शा बनाने का यह है प्रावधान
शहरी क्षेत्र में भवन बनाने के पहले नगर परिषद से नक्शा पास कराना होता है। नगर पालिका एक्ट के तहत बिना नक्शा के मकान बनाने पर 10 लाख का जुर्माना है। जमीन के कागजात की जांच के बाद नप के आर्किटेक्ट नक्शा बनाते फिर नगर परिषद के अंतिम मुहर के बाद ही वैध माना जाता है।

प्रति नक्शे पर नप को 20 हजार नुकसान
प्रत्येक नक्शे पर नप को 8000 रुपए की आय होती है। प्रत्येक तल के निर्माण पर 10,000 रुपए एवं 1 प्रतिशत लेबर टैक्स भी है। एक नक्शे पर 20,000 हजार रुपए की आमदनी पर चूना लगाया है।

जिम्मेवार कौन, नप, बैंक या एलआईसी पहले क्यों नहीं चला पता
फर्जी नक्शा पर लोगों को लोन दिलाने के लिए कौन जिम्मेवार है। नगर परिषद की व्यवस्था या फिर होम लोन देने वाले प्रबंधन। नक्शा जांच करने की किसकी जिम्मेवारी है। यहां होम लोन देने वाली फाइनेंस कंपनी भी अपनी जिम्मेवारी से भाग रहे हैं। उल्टे नगर परिषद को ही दोषी मान रहे हैं। इतने दिनों से यह फर्जीवाड़ा चल रहा था तो पहले नगर परिषद को क्यों पता नहीं चला।

भास्कर सवाल

  • जिले में अब तक कितने भवन के नक्शे फर्जी हस्ताक्षर से पास हुए, नक्शा सत्यापित करने वालों ने पहले क्यों नहीं की जांच ?
  • अकेले फर्जी आर्किटेक्ट इस कार्य में संलिप्त है या बैंक और दूसरी लोन देने वाली एजेंसी के कितने लोग भी फर्जीवाड़े में शामिल हैं ?

नक्शा के नाम पर लाेगों को लूट रहा नप : होम फाइनेंस मैनेजर
एलआईसी होम फाइनेंस के मैनेजर चंद्रमणी कुमार सिंह नगर परिषद के नाम पर भड़के। कहा, नगर परिषद को नक्शा बनाने का अधिकार ही नहीं है। नप परिषद ने नक्शा बनाने के नाम पर लूट मचा रखी है। लोन देने के लिए कंपनी को नक्शे की जरूरत नहीं होती। फिर भी अतिक्रमण और सरकारी जमीन पर निर्माण न हो इसलिए नक्शा लिया जाता है। फर्जी नक्शे पर कुछ नहीं बोले।

फाइनेंस मैनेजर को नहीं है नगर पालिका एक्ट की जानकारी : ईओ
नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी डा. विपिन कुमार ने कहा कि एलआईसी के फाइनेंस मैनेजर को नगर पालिका एक्ट जानकारी नहीं है। फर्जी आर्किटेक्ट क पता लगा रहे हैं। फर्जी नक्शे पर अब तक कितने लागों को लोन दिया गया। यह भी पता करने की कोशिश की जा रही है। आर्किटेक्ट सुमन सिंह पर फर्जीवाड़ा के मामले में एफआइआर दर्ज कराई जाएगी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज कई प्रकार की गतिविधियां में व्यस्तता रहेगी। साथ ही सामाजिक दायरा भी बढ़ेगा। आप किसी विशेष प्रयोजन को हासिल करने में समर्थ रहेंगे। तथा लोग आपकी योग्यता के कायल हो जाएंगे। कोई रुकी हुई पेमेंट...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser