महापर्व की तैयारी सुस्त:किऊल के कई घाटों पर दलदल तो कई जगह अथाह पानी, सीओ बोले- गोताखोर रहेंगे तैनात

लखीसरायएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
किऊल नदी का जलस्तर कमने के बाद दलदल और कीचड़ की भरमार। - Dainik Bhaskar
किऊल नदी का जलस्तर कमने के बाद दलदल और कीचड़ की भरमार।
  • घाट निर्माण के लिए मात्र 3 दिन का समय, तेजी से करना होगा काम
  • लखीसराय व जमुई में किऊल नदी के किनारे हजारों श्रद्धालु भगवान भास्कर को देते अर्घ्य

लोकआस्था के महापर्व की तैयारी लखीसराय में अभी तक रफ्तार नहीं पकड़ सकी है। पहले अर्घ्य में अब मात्र तीन दिन का समय बाकी रह गया है। लेकिन शहर के मुख्य घाटस्थल किऊल नदी के किनारे अभी तक समुचित व्यवस्था नहीं हो सकी है। बीते तीन-चार दिन में किऊल का जलस्तर काफी तेजी से कमा है। जैस-जैसे नदी में पानी कम हो रहा चारों ओर दलदल फैल रहा है। इससे घाटाें काे तैयार करने में नगर परिषद की परेशानी बढ़ रही है। नया बाजार में नदी काफी हद तक सूख चुकी है। पुरानी बाजार क्षेत्र में पानी कम जरूर हुआ है, लेकिन पानी के भीतर काफी गहराई है। शनिवार को सदर अंचल के सीओ संजय पंडित ने किऊल नदी के विभिन्न घाटों का निरीक्षण किया। कहा पुरानी बाजार इलाके मं अब भी कई घाट खतरनाक है। वहां बैरिकेडिंग की जरूरत है। नप के कार्यपालक पदाधिकारी आशुतोष चौधरी ने बताया कि जलस्तर कमने से चारो ओर से कीचड़ और दलदल बनता जा रहा है। एेसे में बैरिकेडिंग में परेशानी हो रही है। पड़िया पोखर में बेरिकेडिंंग कर दिया गया है।

नया बाजार इलाके में अधिक कीचड़
नया बाजार इलाके में छठ व्रतियों को ज्यादा परेशानी हो सकती है। आने वाले तीन चार दिनों में जल स्तर में और भी कमी की संभावना है। इलाके में नदी की चौड़ाई ज्यादा है। नदी में छाड़न का रूप ले लिया है। कीचड़ और दलदल फैला है। घाटों को दुरस्त नहीं किया गया तो व्रती एवं श्रद्धालुओं की परेशानी बढ़ सकती है। नदी के दोनों छोर पर श्रदालुओं भारी भीड़ होती है। पश्चिम में शहरी क्षेत्र और पूरब में ग्रामीण क्षेत्र के व्रती और श्रद्धालु अर्घ्य के लिए किऊल नदी तट पर पहुँचते हैं।

छठ को लेकर किऊल नदी घाट का निरीक्षण करते सदर अंसल के सीओ।
छठ को लेकर किऊल नदी घाट का निरीक्षण करते सदर अंसल के सीओ।

कहीं नदी गहरी तो कहीं पानी ही कम
पुरानी बाजार क्षेत्र में नदी की गहराई ज्यादा है। वहां सुरक्षा के लिए बेरिकडिंग की जरूरत है। नदी में श्रद्धालुओं को कई तरह की परेशानी झेलनी पड़ सकती है। छठ में अब मात्र 3 दिन शेष है। 10 नवंबर को पहला अर्घ्य दिया जाएगा।

पिपरिया में गंगा व हरोहर की धार तेज
पिपरिया| लोक आस्था का महापर्व छठ पूजा को लेकर दियारा क्षेत्र में जोर शोर से तैयारी हो रही है। भक्तों द्वारा बांस का सूप की खरीदारी खूब हो रही है। प्रखंड प्रशासनिक पदाधिकारी द्वारा हरोहर नदी और गंगा के घाटों का निरीक्षण किया गया। सीओ रामजी प्रसाद सिंह और थानाध्यक्ष राजकुमार साहू ने संयुक्त रूप से मुड़वरिया गांव स्थित हरोहर नदी, सुमन चौक रामचंद्रपुर, तरी टोला, रामनगर, रहाटपुर, डीह पिपरिया, पथुआ आदि घाटों का निरीक्षण किया।सीओ और थानाध्यक्ष ने बताया कि गंगा और हरोहर नदी में पानी का जलस्तर बढ़ा हुआ है और तेज धार भी है।

खबरें और भी हैं...