आस्था:नवरात्र के दूसरे दिन कीजिए बड़हिया की मां बाला त्रिपुर सुंदरी के पवित्र पिंड का दर्शन

बड़हिया19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कश्मीर की मां वैष्णो देवी के भक्त शिरोमणि श्रीधर ओझा ने अपने पैतृक ग्राम बड़हिया में जनकल्याण के लिए स्थापित सिद्ध मंगलापीठ मां बाला त्रिपुरसुन्दरी का मंदिर आज भी लोक आस्था का केन्द्र बना हुआ है। यूं तो प्रतिदिन हजारों श्रद्धालु माता के मंदिर में अपना मत्था टेककर मन की मुरादें प्राप्त करते हैं। मगर प्रत्येक मंगलवार और शनिवार को मंदर में भक्तों की भारी भीड़ जमा होती है। मां बाला त्रिपुर सुंदरी जगदम्बा का मंदिर बड़हिया में पवित्र गंगा नदी के तट पर स्थित है। ऐसी मान्यता है कि मां के दरबार में हाजिरी लगाने तथा सच्चे दिल से प्रार्थना करने के बाद लोगों की सभी मुरादें पूरी हो जाती है। तभी तो दिन-प्रतिदिन मां के दरबार में आनेवाले भक्तजनों की संख्या में अप्रत्याशित बढ़ोत्तरी हो रही है। मां के श्रद्धालुओं का मानना है कि मां के शरण में जो भी आया, मां ने किसी को खाली हाथ नहीं लौटाया। फोटो एंड कंटेंट : शशिकांत मिश्रा

खबरें और भी हैं...