मानसिक सजगता:सीटी स्कैन कराने पर कोरोना के साथ निमोनिया पीड़ित भी मिले, डॉक्टरों की सलाह मानी व कोरोना को हराया

लखीसराय6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कोविड निगेटिव होने के बाद परिजनों के साथ बैठे डॉक्टर अशोक कुमार सिंह। - Dainik Bhaskar
कोविड निगेटिव होने के बाद परिजनों के साथ बैठे डॉक्टर अशोक कुमार सिंह।
  • गंभीर रूप से संक्रमण होने के बावजूद दृढ़ इच्छाशक्ति से कोरोना को हराने वालों की जांबाज कहानियां,

डॉक्टर अशोक कुमार सिंह सर्जन सह सदर अस्पताल के उपाधीक्षक को कार्य के दौरान अप्रैल में बुखार और सर्दी खांसी की शिकायत हुई। 12 अप्रैल को सदर अस्पताल में जांच में कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि हुई। उसके बाद 13 अप्रैल को सीटी स्कैन कराया, जिसमें निमोनिया भी मिला।

बोले, दो दिनों की देरी होती तो आईसीयू का भी चक्कर जाता। खुद परिवार के सदस्यों के अलावा घरेलू नौकर, ड्राइवर एवं अन्य 11 लोग संक्रमित थे। सभी एक घर में कोरोना गाइडलाइंस फॉलो कर खुद इलाज शुरू किया। सबको सोने में परेशानी हो रही थी।

पूरी रात में मात्र दो से तीन घंटे ही सो पा रहे थे। खुद का इलाज करने के बाद भी जब पूरी तरह से ठीक नहीं हो रहे थे तो अपने क्लासमेट और बेगूसराय के कोविड-19 के नोडल पदाधिकारी डॉ अरुण कुमार सिंह तथा नवादा के सिविल सर्जन डॉ विमल कुमार से संपर्क स्थापित कर इलाज में सहयोग मांगा।

दोनों से मिले सलाह के आधार पर इलाज करते रहे। इसके अलावा सीएमसी वेल्लोर के वीडियो क्लिप देखकर भी इलाज करते रहे। सबसे अधिक खराब स्थिति में मैं और मेरी पत्नी अर्चना सिंह थे। फिलहाल ठीक हो गया हूं। दृढ़ इच्छाशक्ति और जीने की ललक ने कोरोना को हराने में काफी सहयोग दिया।

कभी निगेटिव थाउट नहीं आने दिया और अपना मनोबल ऊंचा रखा। उन्होंने बताया कि फिलहाल मानसिक सजगता सुस्त पड़ गई है। अभी सुनने में दिक्कत हो रही है। ब्लड प्रेशर और सुगर भी अनियमित हुआ है, लेकिन इन सब के बावजूद सभी स्वस्थ हैं।

नए मिले 145 पॉजिटिव, एक्टिव मरीज 1036

पिछले 24 घंटे में जिले के 145 मरीज मिले है। कुल संक्रमित 5531 वहीं एक्टिव मरीज 1036 हो गए हैं। वहीं बुधवार को 72 मरीज स्वस्थ हुए हैं। पिछले 24 घंटों के आंकड़ों के अनुसार जिले के विभिन्न क्षेत्रों में तीन लोगों की मौत कोरोना के कारण हुई है। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटों में चानन प्रखंड के संग्रामपुर के महेन्द्र पंडित(60), हसनुपर गांव के सुधाकर सिंह एवं बड़ी दुर्गास्थान के पास के राजकुमार की मौत कोरोना के कारण हुई है।

अबतक 4481 मरीज स्वस्थ हुए हैं। बुधवार को 72 मरीज होम आइसोलेशन से मुक्त हुए। 1018 एक्टिव मरीज होम आईसोलेशन में हैं। संक्रमण की वजह से जिले में 24 लोगों की मौतें भी हो चुकी है। 18 संक्रमित अस्पताल में इलाजरत जबकि 10 मरीजों को बेहतर इलाज के लिए रेफर किया जा चुका है।

प्राणायाम से हुआ विशेष फायदा: डॉ.सत्यम
सदर अस्पताल के स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर अविनाश कुमार सत्यम पत्नी और बच्चे सहित कोरोना पॉजिटिव हो गए थे। परिवार में छोटा बच्चा भी था। उसे संक्रमण से बचाने को एहतियात बरत रहे थे। घर पर हेल्दी डाइट के साथ योग, प्राणायाम से विशेष फायदा हुआ। नतीजा हुआ कि बहुत जल्द नेगेटिव भी हो गए। दृढ़ इच्छाशक्ति के बल पर कोरोना के मरीजों की लगातार सेवा कर रहा हूं। कोरोना के भय को दिल से हटाएं।

गले में खरांस आने पर 12 अप्रैल को सदर अस्पताल में जांच में पॉजिटिव मिले। आरटीपीसीआर रिपोर्ट नेगेटिव थी, लेकिन कोरोना के सभी सिम्टम्स थे। होम आइसोलेट रहे। घर पर गर्म पानी, दवा, गर्म खाना आदि लेने के साथ खुद ट्रीटमेंट कर खुद और परिवार को कोराना से मुक्त कराने में सफल हुए।

खबरें और भी हैं...