सुकन्या व ग्रामीण डाकघर बीमा योजना में गबन:लाभुकों से किश्तें ले पोस्टमास्टर ने पासबुक में की फर्जी इंंट्री, खाते में जमा नहीं किए रुपए

लखीसराय9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • लाभुकों की पासबुक में की 80 हजार की इंट्री, पर अकाउंट में निकले सिर्फ एक हजार, इस तरह के 200 मामले खुले

लखीसराय जिले के पिपरिया प्रखंड के रामनगर ब्रांच पोस्ट ऑफिस में दो सौ से अधिक गरीब व मजदूरों के सुकन्या समृद्धि योजना एवं ग्रामीण डाक बीमा योजना में करीब दो करोड़ रुपए की राशि गबन का मामला सामने आया है। ब्रांच पोस्टमास्टर ने ग्रामीणों द्वारा जमा की गई राशि गबन कर पासबुक पर खुद ही फर्जी तरीके से राशि जमा चढ़ा दी। जमा की गई राशि का प्रीमियम पूरा होने पर लाभुक पोस्ट ऑफिस से राशि की निकासी करने पहुंचे तो इसका खुलासा होने लगा। खुलासा होने के बाद ब्रांच पोस्टमास्टर गणेश प्रसाद सिंह पिछले एक साल से लापता हैं। लाभुक राशि लेने के लिए पोस्ट ऑफिस का चक्कर काट रहे हंै। राशि नहीं मिलता देख ग्रामीणों ने इसकी शिकायत लखीसराय में सहायक डाक अधीक्षक उमाशंकर प्रसाद से की। एक सप्ताह पूर्व रामनगर एवं तरी टोला गांव पहुंचकर पाेस्ट ऑफिस की जांच की एवं जमाकर्ताओं से पूछताछ की। पोस्ट ऑफिस के साइट पर जमा राशि की पड़ताल में हेराफेरी सामने आई। रविवार को लखीसराय के सहायक डाक अधीक्षक उमाशंकर प्रसाद, पोस्टमास्टर मनीष कुमार एवं एक अन्य डाक विभाग के कर्मी ब्रांच पोस्टमास्टर गणेश प्रसाद सिंह के पश्चिमी कार्यानंदनगर स्थित आवास पर छापेमारी कर घर में रखे छह रजिस्टर काे जब्त किया। गणेश प्रसाद सिंह घर से फरार थे। बताया जाता है कि दो सौ पासबुक में ब्रांच पोस्टमास्टर ने दो करोड़ से अधिक रुपएे का गबन किया है। इसमें रामनगर, तरी टोला एवं रहटपुर गांव के गरीब व मजदूर जमाकर्ता शामिल है। जांच में इसका खुलासा होगा। बताया जाता है कि राशि गबन में डाक विभाग के कई अधिकारियों की भी संलिप्तता है। निष्पक्ष व पारदर्शी जांच में कई अधिकारियों के गर्दन भी इसमें फंसेंगे। यह हेराफेरी दस साल से हो रही थी।

सहायक डाक अधीक्षक व लखीसराय के पोस्टमास्टर ने छापेमारी कर पिपरिया ब्रांच के पोस्टमास्टर के घर से जब्त किए छह रजिस्टर, 10 साल से कर रहा था फर्जीवाड़ा, राशि के लिए लाभुक लगा रहे चक्कर
200 खाताधारियों की प्रीमियम राशि भी पोस्ट मास्टर अपने पास रखे रहे
तरी टोला के गोपाल यादव, राजीव कुमार, अनीता कुमारी, नूतन कुमारी, नूरी देवी, रेणु देवी, किरण देवी, गणेश यादव, प्रमोद यादव समेत दो सौ लोगों का ब्रांच पोस्ट मास्टर गणेश प्रसाद सिंह ने रामनगर पोस्ट ऑफिस में खाता खुलवाया। सभी खाताधारक बीमा पॉलिसी की राशि 10 वर्षों से जमा कर रहे हैं। राशि जमा करने के दौरान सिर्फ पासबुक पर फर्जी तरीके से रुपए जमा कर दिए जाते थे। लेकिन डाक विभाग के एकाउंट में चढ़ाया ही नहीं जाता था। पोस्ट मास्टर कई जमाकर्ता के पासबुक अपने पास ही रखे हुए हैं। तरी टोला के गोपाल यादव का खाता संख्या 82966046597 में 33 हजार तीन सौ रुपए चढ़ा हुआ है, लेकिन जांच में मात्र 1000 रुपए जमा हैं। सुनीता देवी का खाता संख्या 8296046581 में 80 हजार रुपए के बदले मात्र 1500 रुपए जमा हंै। इस तरह से 200 खाताधारियों का प्रीमियम राशि प्रधान कार्यालय लखीसराय के बदले पोस्ट मास्टर अपने पास रखे रहा।

सुकन्या व पॉलिसी के लिए राशि जमा की लेकिन बीमा नहीं हुआ
रामनगर निवासी मनीष कुमार, कल्पना देवी, राजीव कुमार, प्रमोद यादव, गणेश यादव आदि लोगों ने बताया कि पोस्ट ऑफिस में मुख्यमंत्री सुकन्या समृद्धि योजना एवं ग्रामीण डाक बीमा (आरपीएलआई) के लिए पोस्ट ऑफिस में खाता खुलवा कर प्रीमियम राशि 10 वर्षों से खता में जमा कर रहे हैं। ब्रांच पाेस्ट मास्टर गणेश 200 खाताधारकों से रुपए वसूलते रहे लेकिन किसी का पॉलिसी नहीं हुआ है। प्रीमियम पूरा होने पर पहले तो टाल मटोल किया अब एक साल से लापता है। जमाकर्ताओं ने कहा कि मेहनत मजदूरी करके रुपए जमा किया था कि भविष्य में काम आएगा लेकिन उसके पहले गबन कर लिया गया।

अधिकारी से पूछताछ करते ही मैनेज का देने लगे प्रलोभन
डाक विभाग में गबन का खुलासा होते ही इस मामले में डाक विभाग के अधिकारी से पूछताछ की जाने लगी तो रिपोर्टर को मैनेज करने के लिए मोबाइल की घंटी बजने लगी। डाक विभाग के कर्मी व अधिकारियों के द्वारा खबर को फिलहाल नहीं प्रकाशित करने एवं घर पर आकर मिलने का प्रलोभन दिया जाने लगा। बताया जाता है कि इस मामले में मुख्यालय के अधिकारियों की भी संलिप्तता है। एक माह से मामले को दबाने मैनेज करने का प्रयास किया जा रहा था। रिपोर्टर के हाथ खबर लगने के बाद डाक विभाग के अधिकारियों के चेहरे पर हवाइयां छूटने लगी है।
बड़ी गड़बड़ी आई सामने, चल रही जांच : सहायक डाक अधीक्षक
सहायक डाक अधीक्षक उमाशंकर प्रसाद ने बताया कि जमाकर्ता से पासबुक एवं राशि का डिटेल मांगा गया है। कुछ पासबुक का डिटेल मिला है। डाक विभाग के एकाउंट पर मिलान कर जांच की जा रही। कई मामले में गड़बड़ी सामने आई है। जांच के बाद दोषी के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई होगी।


खबरें और भी हैं...