पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पंचायत चुनाव:विकास नहीं करने वाले जनप्रतिनिधि निशाने पर

मानसी12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • महामारी में मुखिया व अन्य नहीं आ रहे थे नजर

5 वर्ष तक सत्ता के हनक के साथ रहे जनप्रतिनिधि से अब मतदाता मालिक विकास का हिसाब मांग रहे हैं। सीधे तो नहीं लेकिन बाईपास के सहारे पिछला हिसाब मांग अंगूठा दिखाते नजर रहे हैं। बावजूद हर हथकंडा अपनाने वाले जनप्रतिनिधि पिछला दरवाजा से भी पंचायत चुनाव जीत प्रतिनिधित्व करना चाह रहे हैं। कुछ ग्रामीणों ने नाम नहीं छापने के शर्त पर बताया कि कोरोना महामारी में जनता की सेवा करने वाले मुखिया सहित अन्य पंचायत प्रतिनिधि गायब रहे। गांव में वैक्सीनेशन के दौरान कोई रुचि नहीं ली। चुनाव नजदीक पहुंचा तो ग्रामीणों की खातिरदारी में लगे हुए हैं। कोविड से ग्रसित लोग गांव के क्वारेंटीन सेंटरों पर अपना 14 दिन गुजरा जनप्रतिनिधि एसी और कूलरों में रहे। गांव की गली नली अपने चहेते के घरों तक ही बनवाया। प्रखंड के हर पंचायत में इनका कार्यालय समाप्त होने तक सात निश्चित योजना पूरी नहीं हुई। कहीं बोरिंग फेल तो कही स्ट्रक्चर नीचे की वजह से पानी घरों तक नही पहुंच रहा। ग्रामीणों की माने ते जो जन प्रतिनिधि जनता जनार्दन की छोड़ अपना ही हित की बात करे। उसे दुबारा मौका नहीं देना चाहिए। विरासत संभालने वाले जनप्रतिनिधि को तो खास तौर पर बदल ही देना चाहिए।

खबरें और भी हैं...