पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

विश्व पर्यावरण दिवस:वृक्ष राज की पूजा की उसके बाद गले मिलीं और चूम कर कहा-आपके कारण ही धरती पर जीवन है संभव

मुंगेर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पर्यावरण दिवस पर कार्यक्रम के बाद जय प्रकाश उद्यान पार्क में वृृक्ष की पूजा के बाद गले मिलकर चूमतीं महिला वनरक्षी। - Dainik Bhaskar
पर्यावरण दिवस पर कार्यक्रम के बाद जय प्रकाश उद्यान पार्क में वृृक्ष की पूजा के बाद गले मिलकर चूमतीं महिला वनरक्षी।
  • तीन महिला वनरक्षियों ने कहा,आप हमें प्राण वायु देते हैं इसलिए हे वृक्ष राज, आपको बारंबार प्रणाम
  • रैली के बाद जयप्रकाश उद्यान में हर हाल में पेड़-पौधों को बचाने और लोगों को भी जागरूक करने का लिया संकल्प

विश्व पर्यावरण दिवस पर शुक्रवार को जयप्रकाश उद्यान में जागरूकता रैली में शामिल होने के लिए आईं तीन महिला वन रक्षक संध्या कुमारी, उजाला कुमारी एवं कुमारी छाया सेन ने पर्यावरण दिवस पर पौधों को हर हाल में संरक्षण करने का संकल्प लिया। विभाग की ओर से आयोजित जागरूकता रैली खत्म होने के बाद जब अधिकतर कर्मी अपने घर चले गए तब ये तीनों महिला वनरक्षकों ने जयप्रकाश उद्यान में वृक्ष राज पीपल की पूजा की एवं गले मिलकर चूमा भी। तीनों महिला कर्मियों ने बताया कि आज विश्व पर्यावरण दिवस है। 
     लोग पेड़ की रखवाली कम करते हैं और कटाई ज्यादा करते हैं। लेकिन वैसे लोगों को यह पता नहीं कि जिस पेड़ को हम काटते हैं उसी पेड़ के पत्तों से हमें शुद्ध हवा अर्थात प्राणवायु ऑक्सीजन मिलती है। हमलोगों ने पर्यावरण को स्वच्छ एवं शुद्ध बनाए रखने के लिए आज वृक्ष राज की पूजा-अर्चना कर उनसे सांसें देते रहने का वरदान मांगा। 
आज भी है चिपको आंदोलन का महत्व

तीनों वनरक्षियों ने बताया कि भारत में 1970 में उत्तराखंड में चिपको आंदोलन में भी महिलाओं की अहम भूमिका थी। तब भी धरती पर जीवन के लिए अत्यावश्यक पेड़ों को कटने से बचाने के लिए महिलाओं ने जान की बाजी लगा दी थी। आज भी उसी स्तर पर हम सबको मिलकर काम करना होगा तभी हम पर्यावरण बचा सकेंगे और धरती को रहने लायक स्थान अपने लिए और आने वाली पीढ़ियों के लिए बनाए रख सकेंगे।

चिपको आंदोलन की तस्वीर

सन 1970 में उत्तराखण्ड राज्य (तब उत्तर प्रदेश का भाग)के चमोली में चिपको आंदोलन हुआ था। इसकी उपलब्धि ये रही कि इसने केंद्रीय राजनीति के एजेंडे में पर्यावरण को एक सघन मुद्दा बनाया। चिपको के सहभागी तथा कुमाऊ विवि के प्रो. डॉ.शेखर पाठक के अनुसार, “भारत में 1980 का वन संरक्षण अधिनियम और यहां तक कि केंद्र सरकार में पर्यावरण मंत्रालय का गठन भी इसी वजह से ही संभव हो पाया।”

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज जीवन में कोई अप्रत्याशित बदलाव आएगा। उसे स्वीकारना आपके लिए भाग्योदय दायक रहेगा। परिवार से संबंधित किसी महत्वपूर्ण मुद्दे पर विचार विमर्श में आपकी सलाह को विशेष सहमति दी जाएगी। नेगेटिव-...

    और पढ़ें