अनलॉक-5:सरकारी स्कूलों में नगण्य दिखी छात्रों की उपस्थिति

मुंगेर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मॉडल स्कूल में पहले दिन मात्र चार छात्र पढ़ते दिखे। - Dainik Bhaskar
मॉडल स्कूल में पहले दिन मात्र चार छात्र पढ़ते दिखे।
  • 124 दिन बाद खुले 9-10वीं के क्लास रूम, निजी विद्यालय में विद्यार्थियों का किया गया स्वागत

124 दिनों बाद एक बार फिर से शनिवार से राज्य सरकार के निर्देश के बाद सभी उच्च तथा उच्च माध्यमिक विद्यालय खुल गए। इसके तहत हर दिन 50 प्रतिशत विद्यार्थियों को विद्यालय आना है। लेकिन विद्यालय खुलने के पहले दिन सरकारी विद्यालयों में विद्यार्थियों की उपस्थिति नगण्य देखी गई। जबकि निजी विद्यालयों में यह संख्या अपेक्षाकृत अधिक थी। शनिवार को पहले दिन जिला मुख्यालय स्थित उपेंद्र ट्रेनिंग एकेडमी, टाउन उच्च विद्यालय, मॉडल उच्च विद्यालय, जिला स्कूल आदि में बच्चों की उपस्थित नगण्य दिखी। इसके कारण अधिकांश वर्ग कक्ष खाली दिखे तो एकाध वर्ग में दो-चार विद्यार्थियों को बैठा देखा गया। सरस्वती विद्या मंदिर पुरानीगंज में विद्यालय खुलने पर पहले दिन विद्यालय के प्रधानाचार्य को अन्य सहायक शिक्षकों के साथ विद्यालय पहुंचने वाले विद्यार्थियों का स्वागत करते देखा गया। प्रधानाचार्य नीरज कुमार कौशिक ने कहा कि विद्यालय रूपी इस मंदिर के भगवान हमारे छात्र-छात्राएं ही हैं और पुजारी के रूप में यहां शिक्षक कार्यरत हैं। इतने दिनों के बाद भगवान इस मंदिर में आए हैं। इनका स्वागत तिलक लगाकर एवं विद्यालय को भव्य रूप से सजाकर किया जा रहा है। जबकि सोमवार को विद्यालय आने वाले हर बच्चे के बीच टॉफी वितरित किया जाएगा। वहीं दूसरी ओर प्लस टू उच्च विद्यालय नौवागढ़ी के प्रभारी प्रधानाध्यापक डा. कृष्ण मुरारी कुमार ने बताया कि विभागीय निर्देशानुसार पहले ही विद्यालय परिसर को साफ करवा दिया गया था।

स्कूल खुलने से पहले की गई साफ-सफाई
इधर विद्यालय खुलने से पहले विद्यालय प्रबंधन द्वारा विद्यालय परिसर सहित हर वर्ग कक्ष सहित बेंच-डेस्क आदि की सफाई की गई थी। वहीं वर्ग कक्ष को सैनिटाइज किया गया था। जनता उच्च विद्यालय तौफिर दियारा के प्रभारी प्रधानाध्यापक पंकज रंजन ने बताया कि विद्यालय खुलने से पहले अच्छी तरह विद्यालय परिसर की साफ-सफाई कराई गई। जबकि हैंडवाश, सेनेटाइजर की व्यवस्था की गई थी। बरामदे पर जागरूकता के पोस्टर लगाए।

खबरें और भी हैं...