पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

शराबबंदी वाले बिहार में दरोगा का नशा उतार दिया:नशे में धुत दरोगा ने बाइक सवार को रोका, गालियां दी; धौंस दिखाकर वसूली करनी चाही तो युवकों ने गाड़ी से खींचकर पीटा

मुंगेरएक महीने पहले
मुंगेर में दारोगा को गाड़ी से खींचकर पीटा।

बिहार में पुलिस की क्या छवि है, यह आप खुद देख लीजिए। यहां बीच रास्ते में गाड़ी से खींचकर पुलिस को पीटा जाता है, लेकिन वह खामोश रह जाती है। यह शराफत नहीं, बल्कि दामन में दाग का उदाहरण है। दारू पिए मुफस्सिल थाने के दारोगा ने चेकिंग के नाम पर बाइक सवार को रोका तो युवकों ने उन्हें जमकर पीटा। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, शराब के नशे में धुत दारोगा ने युवकों को रोक कर उन्हें भद्दी-भद्दी गालियां दीं और धौंस दिखाकर उनसे वसूली करने की कोशिश की। इतनी देर में वहां लोगों की भीड़ लग गई। भीड़ में से ही किसी ने उकसाया कि पुलिस को मारो-मारो, इसके बाद युवक उत्तेजित हो गए।

पुलिस कह रही लॉकडाउन का पालन करा रहे थे
दारोगा के साथ मौजूद पुलिस का कहना था कि लॉकडाउन के दौरान युवकों से गाड़ी के कागज दिखाने को कहा तो वे मारपीट पर उतारू हो गए और दारोगा का कालर पकड़ लिया। खूब भद्दी-भद्दी गालियां भी दीं।

शराबबंदी वाले बिहार में पुलिस शराब पीती कहां से है
जैसा कि प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि दारोगा दारू के नशे में धुत था तो ऐसे में बड़ा सवाल यह उठता है कि शराबबंदी वाले बिहार में दारोगा जी को दारू मिली कहां। जिन पर शराबबंदी कानून लागू करने की जवाबदेही है, वे ही अगर शराब पीकर ऐसी हरकत करेंगे तो पब्लिक के बीच पुलिस की क्या इमेज रह जाएगी। लोगों के अनुसार, युवकों ने कानून हाथ में लिया, यह गलत था, लेकिन पुलिस भी दोषी है।

SDPO को कार्रवाई का निर्देश
इस मामले में SP ने कहा है कि SDPO को कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया है। बीच रास्ते पर पुलिस के साथ मारपीट की घटना पर पुलिस हरकत में आ गई है। जांच-पड़ताल तेज कर दी गई है। स्थानीय लोगों से युवकों का नाम-पता पूछा जा रहा है। ग्रामीणों की मानें तो पुलिस गश्ती वाहन का चालक कन्हैया भीड़ में शामिल कई ग्रामीणों को पहचानता है।

खबरें और भी हैं...