त्योहार:मकर संक्रांति पर तिल, गुड, चावल, तिलवा का हुआ दान

हवेली खड़गपुर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

सूर्य के मकर राशि में प्रवेश करने के बाद सूर्य दक्षिणायन से उत्तरायण हो जाता है। इसी के साथ खरमास की भी समाप्ति हो जाती है। तब ठप पड़े मांगलिक कार्य भी प्रारंभ हो जाता है। लिहाजा इस अवसर पर मकर सक्रांति का त्यौहार मनाए जाने की परम्परा है। खड़गपुर में भी शुक्रवार को मकर संक्रांति का पर्व धूमधाम से मनाया गया। हालांकि सूर्य के मकर राशि में प्रवेश करने को लेकर पंडितों द्वारा यह बताया गया कि यह योग शुक्रवार की देर शाम होना है। इसलिए कुछ लोगों ने मकर सक्रांति का त्यौहार शनिवार को मनाने का निर्णय लिया है।जबकि अधिकांश लोगों ने शनिवार को तिल स्पर्श नहीं किया जाता है इसी को लेकर शुक्रवार को ही त्यौहार मनाया। शुक्रवार को श्रद्धालुओं ने स्नान के बाद स्थानीय मंदिरों में पूजा अर्चना कर सुख शांति एवं समृद्धि की कामना की वहीं दान पुण्य किया। सुबह से ही मंदिरों में भक्तों का तांता लगना शुरू हो गया, जो घंटों तक जारी रहा। लोगों ने तिल, गुड, चावल, तिलवा, तिलकुट आदि का दान किया।

खबरें और भी हैं...