काली पूजा:विसर्जन में सांप्रदायिक सौहार्द की मिसाल; श्रद्धालुओं के साथ चले मुस्लिम समुदाय के लोग, पिलाया शरबत

मुंगेर24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
शनिवार को सोझी घाट पर विसर्जन को जाती मां बड़ी काली की प्रतिमा। - Dainik Bhaskar
शनिवार को सोझी घाट पर विसर्जन को जाती मां बड़ी काली की प्रतिमा।
  • हसनपुर सहित शहर में स्थापित अन्य काली प्रतिमाओं का गंगा में हुआ विसर्जन
  • सीताकुंड में आरती के समय डीएम-एसपी व पुलिस बल के साथ दोनों समुदाय के लोग थे मौजूद

सांप्रदायिक दृष्टिकोण से संवेदनशील माने जाने वाले हसनपुर की मां काली की प्रतिमा सहित शहर में स्थापित सभी काली प्रतिमाओं का विसर्जन शनिवार को शांति व सौहार्दपूर्ण माहौल में हुआ। हसनपुर से निकले प्रतिमा विसर्जन जुलूस ने साम्प्रदायिक सौहार्द की मिसाल देखने को मिली। आरती के लिए सीताकुंड जाने के दौरान मुस्लिम बहुल बरदह मोहल्ले में जगह-जगह मुस्लिम समुदाय के लोगों ने विसर्जन जुलूस में शामिल पूजा समिति सदस्यों का गुलाब फूल देकर व गले लगाकर ना सिर्फ स्वागत किया। बल्कि प्रतिमा विसर्जन जुलूस में मुस्लिम समुदाय के लोग शामिल होकर सीताकुंड आरती स्थल तक पहुंचे। आरती के पश्चात पुन: बरदह के रास्ते सौहार्दपूर्ण माहौल में मां काली की प्रतिमा के कल्याणचक तीनबटिया मोड़ तक वापस आने तक मुस्लिम समुदाय के लोग प्रतिमा विसर्जन जुलूस में शामिल रहे। हालांकि प्रशासन द्वारा विसर्जन जुलूस के दौरान कल्याणचक तीनबटिया मोड़ से सीताकुंड तक सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम किया गया था। तीनबटिया मोड़ से पूजासमिति के 101 और शांति समिति के 55 कुल 156 लोगों को ही जुलूस में जाने की अनुमति दी गई थी।

शरबत पिलाते मुस्लिम धर्मावलंबी के सदस्य।
शरबत पिलाते मुस्लिम धर्मावलंबी के सदस्य।

40 मजिस्ट्रेट और 1200 जवान तैनात
डीएम नवीन कुमार, एसपी जे जगुन्नाथ रेड्‌डी, एडीएम विद्यानंद सिंह, एसडीओ खुशबु गुप्ता, डीएसपी नंदजी प्रसाद सहित 40 दंडाधिकारी व 1200 पुलिस बल के जवान जुलूस के दौरान शांति व सौहार्दपूर्ण माहौल कायम करने में तैनात रहे। हसनपुर की काली प्रतिमा के अलावा शहर में स्थापित मां काली की सभी प्रतिमाओं का विसर्जन शनिवार को शांति व सौहार्दपूर्ण माहौल में संपन्न हो गया।

जगह-जगह किया गया स्वागत| बरदह निवासी पूर्व जिला पार्षद परवेज चांद, साहब मल्लिक, शोएब सरदार, जियाउर रहमान, मेहरूद्दीन, जसीमुद्दीन, मेंहदी इमाम, तबरेज, मेहताब, एहतेशाम ने बरदह में जगह-जगह पूजा समिति के सदस्यों का स्वागत किया।

ड्रोन कैमरा से रखी जा रही थी नजर| प्रशासन द्वारा हसनपुर की प्रतिमा विसर्जन के लिए सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम किया गया था। शहरी क्षेत्र के आस पास के सभी थानों की पुलिस को हसनपुर से बरदह तक के 01 किलोमीटर की दूरी में तैनात करते हुए 14 स्थानों पर दंडाधिकारी को तैनात किया गया था। सदर एसडीओ खुद सुबह 7 बजे से भीड़ पर नजर रख रही थी। विसर्जन जुलूस के दौरान भीड़ पर निगरानी के लिए ड्रोन कैमरा लगाया गया था। छतों पर से वीडियोग्राफी कराते हुए पुलिस बल को भी तैनात किया गया था।

खबरें और भी हैं...