पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बाढ़ से बचाव:36.2 मीटर पहुंचा गंगा का जलस्तर, निचले इलाकों में फैलने लगा पानी, बचाव की तैयारियों में जुटा प्रशासन

मुंगेर25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बुधवार को टिकारामपुर दियारा क्षेत्र में फैला बाढ़ का पानी, मुख्य धार में नाव जबकि खेतों में फैले पानी में नहाते बच्चे। - Dainik Bhaskar
बुधवार को टिकारामपुर दियारा क्षेत्र में फैला बाढ़ का पानी, मुख्य धार में नाव जबकि खेतों में फैले पानी में नहाते बच्चे।
  • जाफरनगर, सीताचरण, हिरणमार गांवों के खेतों में आया पानी, 48 घंटे होती रहेगी वृद्धि
  • जिले के 6 प्रखंड के 33 पंचायतें बाढ़ से होती प्रभावित, 89 आश्रय स्थल का किया गया चयन

गंगा का जलस्तर फिर बढ़ने लगा है। बुधवार दोपहर गंगा का जलस्तर 36.2 मीटर मापा गया। केंद्रीय जल आयोग से मिली सूचना के अनुसार जलस्तर में अभी बढ़ोतरी की संभावना बनी हुई है। जलस्तर में बढ़ोतरी के कारण गंगा से सटे निचले इलाके में अब पानी फैलने लगा है। बुधवार को गंगा की तेज धार में जलकुंभी आदि जलीय पौधे को तेज धार के साथ बहते देखा गया। जिससे देख नाविकों ने अंदेशा जताया कि गंगा के ऊपरी हिस्से से अधिक मात्रा में पानी आ रहा है। जाफरनगर पंचायत के सीताचरण वासियों की परेशानी बढ़ने लगी है। जलस्तर बढ़ने के कारण वहां के शत प्रतिशत निवासियों को अपने मवेशियों तथा परिवार के सभी सदस्यों के साथ सुरक्षित स्थान को पलायन करना पड़ता है। जिले के 6 प्रखंडों के कुल 33 पंचायत जल से प्रभावित होते हैं। इनमें सदर प्रखंड का कुतलुपुर, जाफरनगर, टीकारामपुर, तारापुर दियारा, महुली, मय, नौवागढ़ी उत्तरी तथा नौवागढ़ी दक्षिणी जबकि बरियारपुर का कल्याण टोला, हरिणमार, झौवाबहियार, करहरिया पश्चिम, करहरिया दक्षिण, बरियारपुर पश्चिम, पड़िया, निरपुर, करहरिया पूर्वी, बरियारपुर उत्तरी तथा रतनपुर पंचायत, जमालपुर प्रखंड का सिंघिया, पड़हम, रामपुरकला, इंदरूख पश्चिम तथा ईटहरी, धरहरा का बाहाचौकी, हेमजापुर तथा शिवकुंड, हवेली खड़गपुर का तेलियाडीह, अग्रहण, बहिरा तथा नाकी एवं असरगंज का अमैया तथा चौड़गांव पंचायत शामिल है।

40 प्रकार की आवश्यक दवा का किया गया भंडारण
बाढ़ के दौरान किसी भी प्रकार के जलजनित एवं अन्य संक्रामक बीमारियों से निपटने के लिए 40 प्रकार की दवाओं का भंडारण किया गया है। जिसमें सर्पदंश, क्लोरीन टेबलेट, ओआरएस, हेलोजन टेबलेट, एंटिबायोटिक, ब्लीचिंग पाउडर आदि शामिल है। 14876 पॉलीथीन शीट्स भी रखा गया है।

89 शरण स्थल चयनित, कटाव की स्थिति से निपटने का निर्देश
बाढ़ प्रभावितों के सुरक्षित आवासन के लिए 8 अंचलों में कुल 89 शरण स्थल की भी पहचान की गई है। जिसमें सदर प्रखंड में 30, जमालपुर में 16, धरहरा में 13, बरियारपुर में 19, हवेली खड़गपुर में 5 तथा असरगंज में कुल 6 शरण स्थल की पहचान की गई है।

पीड़ितों के बचाव के लिए 240 नावों की हुई व्यवस्था
बाढ़ के दौरान राहत एवं बचाव कार्य को सुचारू रुप से संचालित करने के लिए जिला प्रशासन के द्वारा कुल 240 नावों की व्यवस्था की गई है।

बबुआ घाट की कई सीढ़ियां पानी में डूबीं।
बबुआ घाट की कई सीढ़ियां पानी में डूबीं।

145 लाइफ जैकेट मौजूद 200 की हो रही खरीदारी
जानमाल की क्षति को कम करने के लिए तथा लोगों को सुरक्षित नदी से बाहर निकालने के लिए जिला प्रशासन के पास कुल 145 लाइफ जैकेट उपलब्ध है। जबकि 200 अतिरिक्त लाइफ जैकेट की खरीददारी की जा रही है। जिले में गंगा का अलार्मिंग जलस्तर 38.33 मीटर है।

गंगा के जलस्तर पर रखी जा रही है नजर
बाढ़ की स्थिति से निपटने के लिए जिला प्रशासन ने पूरी व्यवस्था कर ली है। हर प्रखंडों से प्रतिदिन वर्षापात का आंकड़ा जुटाया जा रहा है। गंगा के जलस्तर पर भी लगातार नजर रखी जा रही है। 89 शरण स्थल चिह्नित किए गए हैं।
-आनंद उत्सव, आपदा प्रभारी।

खबरें और भी हैं...