पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bhagalpur
  • Munger
  • If The Contractor And Management Do Not Need Operation, The Work Will Be Closed For The Next Several Months, The Work Of The MTP Center Was To Be Completed In The Month, Incomplete Even After One Year

सरकारी चाल:ठेकेदार व प्रबंधन को ऑपरेशन की जरूरत नहीं तो अगले कई माह तक बंद रहेगा काम,  माह में होना था एमटीपी सेंटर का काम पूरा, एक साल बाद भी अधूरा

मुंगेर10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
एमटीपी सेंटर का ऑपरेशन कक्ष।
  • अधूरे सेंटर के कारण इस बार नहीं हो सका जनसंख्या नियंत्रण पखवाड़ा, एमटीपी सेंटर में एक कर्मी है प्रतिनियुक्त

सदर अस्पताल के महिला वार्ड में प्रसव कक्ष से सटा एमटीपी सेंटर एक साल बाद भी तैयार नहीं हुआ है। कार्यकारी ठेकेदार काम छोड़कर फरार है और अस्पताल प्रबंधन भी उस पर कार्रवाई नहीं कर रहा। इनकी लापरवाही के कारण एमटीपी सेंटर में अब तक पानी और बिजली कनेक्शन नहीं है। सेंटर के मुख्य दरवाजे और खिड़की में शीशा भी नहीं लगा है।

इस कारण महिलाओं का बंध्याकरण पुरुष ऑपरेशन थिएटर में होता है। इसके लिए प्रसव वार्ड से प्रसव पीड़ित महिलाओं को सड़क पार कर ऑपरेशन थियेटर तक लाना पड़ता है। अगर, एमटीपी स्थित महिला ओटी चालू होता है तो गर्भवतियों का सीजेरियन प्रसव कक्ष से सटे एमटीपी में ही हो जाएगा। सेंटर का काम पूरा नहीं होने से इस साल महिलाओं का बंध्याकरण नहीं हुआ। बता दें राज्य स्वास्थ्य समिति द्वारा प्रतिवर्ष सदर अस्पताल को 900 महिला बंध्याकरण और 300 पुरुष नसबंदी का लक्ष्य मिलता है। इस साल कोरोना के कारण लक्ष्य तो नहीं मिला है, लेकिन एमटीपी सेंटर चालू नहीं होने से एक भी महिला बंध्याकरण नहीं हुआ।

बता दें कि अगस्त 2019 में रोगी कल्याण समिति के मद से एमटीपी सेंटर के जीर्णोद्धार का काम ठेकेदार को दिया था, जिसे 2 माह में पूरा करना था। पिछले माह ठेकेदार अधूरा काम छोड़ फरार हो गया। सेंटर का जीर्णोद्धार करते हुए प्रसव वार्ड से जोड़ महिला ऑपरेशन थियेटर बनाया गया है।

हर हफ्ते शिविर लगा 3 दिन होता था बंध्याकरण

पिछले वर्ष अगस्त के पूर्व तक हर सोमवार, बुधवार और शुक्रवार को शिविर लगाकर महिला बंध्याकरण किया जाता था। हर शिविर में महिला सर्जन डॉ. निर्मला गुप्ता द्वारा औसतन 20-25 महिलाओं का बंध्याकरण किया जाता था। मार्च में लॉकडाउन के बाद महिला बंध्याकरण रोक दिया गया।

अब संक्रमण लगभग समाप्त हो चुका है और सदर अस्पताल में सभी काम सुचारू रूप से होने लगे हैं, ऐसे में अधूरे एमटीपी सेंटर को देखकर नहीं लगता कि इस वर्ष बंध्याकरण शुरू हो पाएगा। 14 जुलाई को जनसंख्या नियंत्रण दिवस पर सदर अस्पताल में जनसंख्या नियंत्रण पखवाड़ा मनाया जाता था। इसमें महिलाओं को बंध्याकरण के लिए प्रोत्साहित करने के लिए काउंसिलिंग की जाती थी पर एमटीपी सेंटर बंद रहने के कारण इस वर्ष पखवाड़ा नहीं मनाया जा सका।

एमटीपी सेंटर में एक कर्मी है प्रतिनियुक्त पिछले वर्ष अगस्त के पहले तक एमटीपी सेंटर में तीन कर्मी प्रतिनियुक्त थे। इसमें एक स्टाफ नर्स, एक ओटी असिस्टेंट और एक वार्ड अटेंडेंट थे। मार्च में स्टाफ नर्स सेवानिवृत्त हो गई। जुलाई में ओटी असिस्टेंट का स्थानांतरण हो गया। इनके स्थान पर किसी की प्रतिनियुक्ति अस्पताल प्रबंधन द्वारा नहीं की गई है। जुलाई के पहले तक तत्कालीन उपाधीक्षक डॉ. सुधीर कुमार नोडल थे।

ठेकेदार को कहा है-सेंटर को जल्द करें हैंडओवर
कोरोना संक्रमण के कारण महिला बंध्याकरण का काम बंद था। अर्द्ध निर्मित एमटीपी सेंटर को अस्पताल को हैंडओवर करने के लिए ठेकेदार को लिखा गया है। शीघ्र एमटीपी सेंटर में बंध्याकरण शुरू करा दिया जाएगा।
- डॉ. पुरुषोत्तम कुमार, सीएस

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय की गति आपके पक्ष में हैं। आपकी मेहनत और आत्मविश्वास की वजह से सफलता आपके नजदीक रहेगी। सामाजिक दायरा भी बढ़ेगा तथा आपका उदारवादी रुख आपके लिए सम्मान दायक रहेगा। कोई बड़ा निवेश भी करने के लिए...

और पढ़ें