पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गतिरोध:टाेपोलैंड के रैयतों को 13 तक नहीं मिला मुआवजा तो जमीन पर करने लगेंगे खेती

मुंगेर16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
एप्रोच पथ के 2 नंबर पिलर के समीप प्रदर्शन करते किसान। - Dainik Bhaskar
एप्रोच पथ के 2 नंबर पिलर के समीप प्रदर्शन करते किसान।
  • एप्रोचपथ निर्माण स्थल पर रैयत किसानों ने आमसभा कर लिया निर्णय
  • गंगा रेल सह सड़क पुल के एप्रोच पथ के लिए रैयत व प्रशासन में खींचतान जारी

गंगा रेल सह सड़क पुल के एप्रोच पथ के लिए अर्जित की जाने वाली जमीन का मुअावजा रैयतों के बीच वितरित नहीं होने से किसानों में आक्रोश है। इस मामले को लेकर रैयतों की आमसभा बुधवार को लाल दरवाजा स्थित एप्रोच पथ निर्माण स्थल के पिलर संख्या 2 के समीप संजय कुमार की अध्यक्षता में हुई। बैठक में रैयतों ने कहा कि मुख्यमंत्री का निर्देश था कि टोपोलैंड के किसानों को मुआवजा का भुगतान करने के बाद ही जमीन का अधिग्रहण किया जाए। लेकिन जिला प्रशासन बिना मुआवजा दिए आश्वासन दे-देकर एप्रोच पथ का निर्माण कार्य कराते आ रहा है। बैठक में सर्वसम्मति से अधिग्रहित जमीन के मुआवजा भुगतान हेतु डीएम, एडीएम, भूअर्जन पदाधिकारी और सदर अनुमंडल पदाधिकारी को आवेदन सौंपने का निर्णय लिया गया। बैठक में रैयतों ने सर्वसम्मति से एक स्वर में कहा कि डीएम संबंधित पदाधिकारियों एवं जिला भू अर्जन पदाधिकारी को मुआवजा भुगतान हेतु निर्देशित करें। यदि जिलाधिकारी द्वारा 13 जुलाई तक उनलोगों को मुआवजा राशि का भुगतान नहीं कराया जाता है तो निर्माण एजेंसी से अधिग्रहित जमीन खाली करवा कर किसानों को सुपुर्द कराएं। ताकि गरीब किसान उक्त जमीन पर खेती करके अपने परिवार का जीविकोपार्जन कर सके। अध्यक्षता करते हुए संजय कुमार ने कहा कि जिला प्रशासन द्वारा 02 जून को अधिग्रहित जमीन का मुआवजा राशि 3 लाख रुपया प्रति डिसमिल निर्धारित करते हुए एक माह के भीतर मुआवजा राशि भुगतान करने का आश्वासन दिया गया था।

आश्वासन के एक माह बाद भी मुआवजा नहीं मिला
रैयतों की अगुआई कर रहे संजय ने बताया कि मुआवजे के शीघ्र भुगतान के आश्वासन उत्साहित होकर रैयतों ने निर्माण एजेंसी और प्रशासनिक अधिकारी के साथ आम सहमति बनाकर नारियल फोड़ते हुए एप्रोच पथ के लिए अंतिम पिलर का निर्माण कार्य आरंभ कराया गया था। परंतु आश्वासन के एक माह बीत जाने के बावजूद अब तक जमालकित्ता मौजा में अर्जित किए गए जमीन के भूस्वामी रैयतांे के बीच प्रशासन द्वारा मुआवजा राशि का वितरण नहीं किया गया है।

आधी राशि देकर जमीन खाली करने का दिया नोटिस
वहीं दूसरी ओर माधोकित्ता मौजा में बसे 57 गृह स्वामियों को मकान का निर्धारित मुआवजा का आधा राशि का भुगतान कर भूअर्जन पदाधिकारी द्वारा जमीन खाली करने का नोटिस सभी गृहस्वामी को दे दिया गया है। बुधवार को बैठक में सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि यदि जिला प्रशासन द्वारा 13 जुलाई तक आश्वासन को मूर्त रूप देते हुए अधिग्रिहत जमीन के रैयतों के बीच मुआवजा राशि का भुगतान नहीं करता है तो किसान 14 जुलाई से अधिग्रहित जमीन पर खेती करने के लिए विवश होंगे।

आमसभा में मौजूद रहे दर्जनों रैयत, दिखाई एकजुटता
आमसभा में हेमंत कुमार, अज यादव, परमानंद महतो, गोविंद कुमार, अमरेश कुमार, मनोज यादव, रणविजय कुमार, विवेक कुमार, अनिकेत मंडल, अरूण यादव,मनोज साहनी, नीलम देवी, सुधा देवी, स्वाति सुमन,नन्दनी देवी, रूबी देवी, पूनम देवी, शांति देवी सहित काफी संख्या में रैयत मौजूद थे। उल्लेखनीय हो कि मुआवजे की मांग पर पहले जमालकित्ता के रैयतों ने भी विरोध-प्रदर्शन किया था।

खबरें और भी हैं...