आत्महत्या का मामला:कोरोना की वजह से गई नौकरी, आर्थिक तंगी से परेशान अधेड़ ने की आत्महत्या

मुंगेर8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोरोना के पहले कटक के एक फैक्ट्री में काम करते थे अधड़े

कोरोना काल में आर्थिक तंगी से जूझ रहे नयारामनगर थाना क्षेत्र के पड़हम फरदा निवासी 55 वर्षीय जर्नादन साह ने गुरुवार की देर रात घर में ही सल्फॉस की गोली खाकर आत्महत्या कर ली। देर रात को ही जनार्दन साह को परिजनों ने सदर अस्पताल लाया जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। जानकारी के अनुसार जनार्दन साह के घर के सभी सदस्य गुरुवार की रात जब घर में थे। रात 8 बजे पत्नी खाना देने गयी, पर उन्होंने खाना लौटा दिया। रात लगभग 9 बजे जर्नादन साह अचानक उल्टी करने लगे। उल्टी में गंध आने पर परिजनों को शंका हुआ और तत्काल उसे लेकर सदर अस्पताल पहुंचे। जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गयी। डॉक्टर ने बताया कि सल्फास का सेवन करने से उक्त व्यक्ति की मौत हुई है। विलाप करते परिजनों ने बताया कि मृतक उड़ीसा के कटक में एक फैक्ट्री में काम करता था। वर्ष 2020 में कोरोना काल में लॉकडाउन लगने के बाद उसकी नौकरी चली गयी। इसके बाद से वह घर पर ही रह कर दैनिक मजदूरी कर परिवार का भरण पोषण कर रहा था। इस बीच पुन: 2021 में लगे लॉकडाउन में रोजगार मिलना बंद हो गया। जिसके कारण वह तनाव में रहने लगा था। उसकी आर्थिक लगातार खराब हो रही थी। कोरोना में रोजगार छिन जाने से तनाव में चल रहे जनार्दन साव कोरोना की तीसरी लहर में इस कदर परेशान हो गए कि जहर खाकर आत्महत्या कर ली।
परिवार पर रोजी-रोटी की समस्या हुई उतपन्न
मृत जनार्दन के बड़े बेटे संजीत शादी-व्याह में वीडियोग्राफी करते हैं, कोरोना के कारण उसका भी काम प्रभावित है। छोटा बेटा अजीत गांव में ही रह कर प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करता है। परिजनों का कहना था कि जनार्दन की मौत के बाद परिवार के समक्ष रोजी-रोटी की समस्या उत्पन्न हो गयी है। लोगों ने परिवार को आर्थिक सहायता देने की मांग की है।

खबरें और भी हैं...