पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

योजना:महादलित इलाके को अभियान चलाकर करें कुपोषण मुक्त

मुंगेर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बैठक में मौजूद डीएम, डीडीसी व अन्य। - Dainik Bhaskar
बैठक में मौजूद डीएम, डीडीसी व अन्य।
  • 1 से 30 सितंबर तक मनाया जाएगा पोषण माह, कुपोषण मुक्ति के लिए चलाए जाएंगे विभिन्न अभियान

पोषण के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए आईसीडीएस डीपीओ के साथ सहयोगी विभाग के नोडल पदाधिकारी नियमित समन्वय स्थापित कर काम करें। खासकर महादलित और अनुसूचित जाति बहुल गांव व टोला में अभियान चलाकर समाज को कुपोषण मुक्त बनाने की दिशा में काम करें। उक्त बातें सोमवार को संग्रहालय सभागार में एक माह तक चलने वाले पोषण माह अभिमिश्रण कार्य योजना को सम्बोधित करते हुए डीएम नवीन कुमार ने कही। बताया कि जिला में 01 से 30 सितंबर तक पोषण माह मनाया जा रहा है। इस दौरान जिला भर में बच्चों एवं गर्भवती महिलाओं सहित अन्य लोगों को कुपोषण से मुक्ति दिलाने के लिए विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है। डीएम ने कहा िक अभियान को सफल बनाने के लिए शिक्षा, स्वास्थ्य, पंचायती राज, लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण, कल्याण, आपूर्ति जैसे विभाग और जीविका, केयर इंडिया, आईटीसी, डीआरडीए के अलावा सहयोगी संस्थाएं अपने यहां एक-एक नोडल अधिकारी का चयन कर आईसीडीएस डीपीओ से नियमित समन्वय स्थापित कर क्षेत्र में पोषक तत्वों से युक्त सामग्री उपलब्ध कराने के साथ ही कुपोषण मुक्त समाज बनाने के लिए लोगों को जागरूक करें। आईसीडीएस डीपीओ बंदना पांडेय ने पोषण माह के दौरान आंगनबाड़ी केन्द्रों के माध्यम से चलाए जाने वाले गतिविधि की जानकारी दी। डीपीओ ने बताया कि जिला में छह वर्ष तक के 55 प्रतिशत बच्चों का वजन कराया जा चुका है। प्रधानमंत्री मातृवंदन योजना में जिला ने 115 प्रतिशत उपलब्धि हासिल की है। पिछले 05 दिन में प्रधानमंत्री मातृवंदन योजना के तहत 600 आवेदन तथा मुख्यमंत्री कन्या उत्थान का 295 आवेदन प्राप्त हुआ है। प्रति आंगनबाड़ी 10 बच्चों का रिपोर्ट प्रतिदिन एप पर अपलोड किया जा रहा है। जिला के वैसे क्षेत्र जहां गरीबी और अशिक्षा की वजह से लोग सही पोषण के महत्व से अनभिज्ञ हैं उनके बीच पहुंच कर उन्हें सही पोषण के लिए जागरूक करने के साथ ही पोषण सामग्री की उपलब्धता भी सुनिश्चित करानी है।

खबरें और भी हैं...