आस्था:किराये का वाहन लेकर छठ के लिए सूरत और बनारस से आ रहे हैं प्रवासी

मुंगेर24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना संकट की वजह से लोग ट्रेनों से ज्यादा सुरक्षित निजी वाहनों को ही मान रहे हैं। चाहे दूरी हजारों किलोमीटर में ही क्यों ना हो। लोग किराये का वाहन लेकर सूरत, बनारस सहित अन्य जगहों से छठ पर घर लौट रहे हैं। सूरत से निजी वाहन से हजारों किमी का सफर तय कर बिनोद पाठक व उनके परिवार के अन्य सदस्य मुंगेर जिले में स्थित अपने गांव पहुंच गए। उसी तरह बनारस से भाड़े के वाहन से लगभग छह सौ किमी की दूरी तय अपने दो छोटे बच्चों के साथ पत्नी समेत विनोद गुप्ता जी अपने गांव छठ व्रत करने पहुंच गए। उन्होंने बताया कि गाड़ी से आने से कोरोना का खतरा भी नहीं रहा और घर भी पहुंच गए। उसी तरह भाड़े के वाहन से वह वापस भी जाएंगें। रास्ते में बच्चों की वजह से उन्हें थोड़ी परेशानी तो हुई, मगर सफर किसी तरह पूरा हो ही गया। इस तरह और भी लोग हैं, जो मीलों का सफर तय कर घर पहुंच रहे हैं। इधर ट्रेनों में टिकट नहीं मिलने से भी लोगों को किराए के वाहन से आना पड़ रहा है।

खबरें और भी हैं...