वासंती नवरात्र आज:कलश स्थापना का मुहूर्त सुबह 5.28 से 10.14 बजे तक

मुंगेर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • विभिन्न मंदिरों में कोरोना के नियमों का पालन करते हुए कलश स्थापित कर होगी पूजा

इस बार चैत्र नवरात्रि 13 अप्रैल यानी मंगलवार से प्रारंभ हो रही है। जबकि, 21 अप्रैल को इसका समापन होगा। नवरात्रि के नौ दिनों तक मां दुर्गा के अलग-अलग स्वरूपों की उपासना की जाएगी। मंदिरों और पूजा पंडालों में वैदिक मंत्रोच्चार के साथ कलश स्थापना कर भगवती की अराधना की जाएगी। पूजा को लेकर बाजारों में खरीदारी भी की गई। हालांकि पूजा पर कोरोना का असर भी देखा जा रहा है। लगातार दो बार से कोरोना संक्रमण को लेकर चैत्र मास की नवरात्रि में मंदिरों में पूजा-पाठ बंद हैं। सरकार की ओर से जारी गाइडलाइन के अनुसार केवल घरों में ही पूजा-पाठ होगा। इस साल नवरात्रि के पहले दिन ब्रह्म मुहूर्त, अभिजीत मुहूर्त, सर्वार्थ सिद्धि योग और अमृत सिद्धि योग आदि शुभ मुहूर्त रहेंगे। इन्हीं शुभ मुहूर्त में घरों में कलश का स्थापना की जाएगी। मुंगेर के पुरोहित पंडित कौशल किशोर पाठक की मानें तो इस नवरात्र मां दुर्गा की सवारी घोड़ा(अश्व) है। जबकि, प्रस्थान नर वाहन (मानव कंधे) पर होगा।

कलश स्थापना के शुभ मुहूर्त

मंगलवार को 13 अप्रैल 2021 को कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त सुबह पांच बजकर 28 मिनट से सुबह 10 बजकर 14 मिनट तक है। जबकि, दूसरा कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त सुबह 11 बजकर 56 मिनट से दोपहर 12 बजकर 47 मिनट तक है। नवरात्रि के दौरान मां दुर्गा के अलग-अलग स्वरूपों की नौ दिन पूजा-अर्चना की जाती है। मां दुर्गा की कृपा पाने के लिए भक्त नौ दिन तक व्रत करते हैं।

कब किस देवी की होगी पूजा-अर्चना
13 अप्रैल नवरात्रि प्रतिपदा मां शैलपुत्री की पूजा
14 अप्रैल नवरात्रि द्वितीया मां ब्रह्मचारिणी की पूजा
15 अप्रैल नवरात्रि तृतीया मां चंद्रघंटा की पूजा
16 अप्रैल नवरात्रि चतुर्थी मां कुष्मांडा की पूजा
17 अप्रैल नवरात्रि पंचमी मां स्कंदमाता की पूजा
18 अप्रैल नवरात्रि षष्ठी मां कात्यायनी की पूजा
19 अप्रैल नवरात्रि सप्तमी मां कालरात्रि की पूजा
20 अप्रैल नवरात्रि अष्टमी मां महागौरी की पूजा
21 अप्रैल नवरात्रि नवमी मां सिद्धिदात्री की पूजा

चैत्र नवरात्रि पर इस बार घरों में ही होगी पूजा
चैत्र नवरात्रि पर लोग व्रत रखकर घरों में पूजा पाठ भी करते हैं। अष्टमी की रात्रि में ग्रामीण क्षेत्रों में माता का विशेष पूजा होता है। इस चैत्र नवरात्र पर माता से कोरोना संक्रमण को लेकर अपने घर-परिवार के सदस्यों के बेहतर स्वास्थ्य के लिए भी लोग कामना करेंगे।

खबरें और भी हैं...