पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मांग:संविदाकर्मी को 21 और आउटसोर्सिंग वालों को 18 हजार वेतन दे नगर निगम

मुंगेर19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
शहर में प्रदर्शन करते निगम के सफाई कर्मी मजदूर। - Dainik Bhaskar
शहर में प्रदर्शन करते निगम के सफाई कर्मी मजदूर।
  • 10 सूत्री मांगों के समर्थन में आज से अनिश्चितकाली हड़ताल पर रहेंगे निगम के सफाईकर्मी
  • राज्यस्तरीय हड़ताल समाप्त होने पर काम पर लौटने की अपील

दस सूत्री मांगों को लेकर नगर निगम के सफाई कर्मी आज से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए है। हड़ताल पर जाने से पहले निगम के सफाई कर्मियों ने मंगलवार को बिहार लोक बॉडीज इंप्लाइज फेडरेशन महासंघ के आह्वान पर पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत जुलूस निकाला। निगम कार्यालय से जुलूस निकलकर जुबली वेल चौक, गांधी चौक सहित शहर के मुख्य मार्गों का भ्रमण किया। तत्पश्चात जुलूस पुन: निगम कार्यालय पहुंचा, जहां सफाई कर्मियों ने जमकर प्रदर्शन किया। जुलूस का नेतृत्व नगर निगम सफाई कर्मचारी महासंघ के महामंत्री ब्रह्मदेव महतो कर रहे थे। जुलूस में हीरालाल राउत, शनिचर राउत, प्रेम कुमार, रंजन राउत, रीता देवी, रेणु देवी, विमला देवी सहित सैकड़ों सफाई कर्मी शामिल थे। बह्मदेव महतो ने कहा कि दस सूत्री मांगों के समर्थन में निगम में कार्यरत स्थायी, दैनिक और ऑटसोर्सिंग पर कार्यरत निगम के लगभग 900 सफाई कर्मी के अलावा निगम में कार्यरत कर्मचारी मंगलवार से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाएंगे। सफाई कर्मियों के अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने के कारण एक बार फिर से शहर की सफाई व्यवस्था बाधित होगी। और शहर में जगह जगह कूड़ा का अंबार लगने से शहरवासियों को परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। नगर निगम में फिलहाल नगर आयुक्त और उपनगर आयुक्त का पद रिक्त रहने के कारण सफाई के लिए वैकल्पिक व्यवस्था भी नहीं की जा सकती है।

सेवा स्थायी करने व वेतन वृद्धि की मांग करे रहे सफाईकर्मी
ब्रहमदेव महतो ने बताया कि कि 3 सितम्बर को संघ के पदाधिकारियों के साथ नगर विकास एवं आवास विभाग के सचिव की वार्ता विफल हो जाने के कारण मंगलवार से अनिश्चित कालीन हड़ताल का आह्वान किया गया है। सभी दैनिक, स्थायी और ऑउटसोर्सिंग पर कार्यरत सफाई कर्मी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर रहेंगे। हड़ताल से पूर्व सोमवार को मांगों के समर्थन में जुलूस निकाला गया। नगर निगम में कार्यरत सफाई कर्मियों की 10 सूत्री मांगों में दैनिक और संविदा पर कार्यरत सफाई कर्मियों का स्थायीकरण करने, निगम में आउटसोर्सिंग की व्यवस्था समाप्त कर निगम के अधीन सफाई कर्मियों से काम कराने, सफाई कर्मियों की सेवा स्थायी होने तक संविदा कर्मियों को 21 हजार तथा आउटसोर्सिंग वालों को 18 हजार रुपया प्रतिमाह भुगतान करने, वेतन विसंगति दूर करने, निगम कर्मियों को सातवां वेतनमान लागू करने, पेंशन लागू करने, अनुबंध पर बहाली प्रारंभ करने की मांग शामिल है।

शहरवासियों को झेलनी पड़ेगी हड़ताल से परेशानी
नगर निगम के सफाई कर्मियों की हड़ताल का खामियाजा शहरवासियों को झेलना पड़ेगा। कोविड-19 संक्रमण के बीच शहर में साफ-सफाई का कार्य ठप होने से शहरवासियों को परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। नगर आयुक्त और उपनगर आयुक्त का पद रिक्त रहने के कारण निगम प्रशासन सफाई की वैकल्पिक व्यवस्था भी करा पाने में असमर्थ है।

हड़ताल समाप्त होने पर काम पर लौटने की अपील
राज्यस्तरीय हड़ताल समाप्त होने की स्थिति में नगर निगम के सफाई कर्मियों से हड़ताल को आगे नहीं खींचने की अपील महापौर मेयर रूमा राज ने संघ के पदाधिकारियों से वार्ता के दौरान की है। मेयर ने कहा है कि सफाई कर्मियों की स्थानीय स्तर पर जो भी मांगें हैं, उसका नगर आयुक्त के आने पर समाधान करने का प्रयास किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...