पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

अचानक गिरा हॉस्टल भवन:शुक्र है कि स्कूल बंद था

मुंगेरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • चुरंबा रोड स्थित एमडब्ल्यूएम उच्च विद्यालय परिसर में 100 बेड वाले अल्पसंख्यक छात्रावास का भवन गिरा
  • ...वरना 49 बच्चों की जिंदगी आफत में होती
  • लॉकडाउन से पहले उक्त हॉस्टल में रहते थे 49 बच्चे यदि स्कूल खूला होता मुंबई जैसी घटना की होती पुनरावृति
  • 2004 में हुआ था उद्घाटन, मात्र 16 वर्ष में भवन हुआ ध्वस्त

पूरबसराय चुरंबा रोड स्थित एमडब्ल्यूएम उच्च विद्यालय परिसर में 15 साल पहले बना 100 बेड वाले अल्पसंख्यक छात्रावास का तीन मंजिला हॉल शनिवार की शाम करीब 4 बजे ढह गया। गनीमत रही कि कोरोना के कारण अभी स्कूल बंद चल रहा है, जिस कारण हॉस्टल में कोई बच्चा नहीं रह रहा है। जानकारी के अनुसार छात्रावास में लॉकडाउन के पहले 49 मुस्लिम बच्चे रहकर मैट्रिक से ऊपर की पढ़ाई करते थे। लॉकडाउन के कारण अल्पसंख्यक छात्रावास बंद था और सभी बच्चे घर गए थे। अगर, दुर्घटना के समय बच्चे रहते तो 49 बच्चों की जिंदगी पर आफत आ जाती। दुर्घटनास्थल पर जमे मलबे को देखकर इसका सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है। छात्रावास में एक चपरासी मो. नजमी कक्ष में थे। उन्होंने ही इसकी सूचना विभाग को फोन पर दी। ग्रामीणों ने इसकी सूचना एसडीओ को दी। सूचना पर अल्पसंख्यक कल्याण पदाधिकारी स्निग्धा स्नेहा व सदर बीडीओ वीणा मिश्रा मौके पर पहुंची। पदाधिकारियों ने कहा कि छात्रावास के लगभग 30X50 साइज का हॉल, जिसमें मेस चलता था, ढहकर गिरा है, इसकी जांच कराई जाएगी।

कम से कम 50 वर्ष चलना चाहिए भवन
भवन निर्माण प्रमंडल के वर्तमान कार्यपालक अभियंता एनके प्रसाद ने कहा कि कोई भी भवन कम से कम 50 वर्ष तक चलना चाहिए। महज 15 साल में अगर भवन ढह कर पूरी तरह गिरा है तो निश्चित रूप से कहा जा सकता है कि गुणवत्तापूर्ण निर्माण कार्य नहीं हुआ है। तत्कालीन कार्यपालक पदाधिकारी राधे बैठा के समय का यह काम है, इसलिए इस संबंध में वह ज्यादा कुछ नहीं कह सकते, लेकिन इतना जरूर है कि कोई भी भवन कम से कम 50 साल जरूर चलना चाहिए।

1.86 लाख से बना था भवन
एमडब्ल्यूएम उच्च विद्यालय पूरबसराय परिसर में 100 बेड वाले अल्पसंख्यक छात्रावास का निर्माण 1 करोड़ 86 लाख रुपए से भवन प्रमंडल मुंगेर ने कराया था। जिसका शिलान्यास 2001 और उद्घाटन 2004 में तत्कालीन कला, संस्कृति एवं युवा विभाग के राज्यमंत्री मोनाजिर हसन की मौजूदगी में तत्कालीन अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री शकील अहमद खां ने किया था। तत्कालीन विभागीय कार्यपालक अभियंता राधे बैठा के कार्यकाल में उक्त कार्य हुआ था।

जर्जर स्थिति की दी थी जानकारी

छात्रावास के चपरासी मो. नजमी ने बताया कि भवन की जर्जरता से विभाग को कई बार अवगत कराया गया था। 15 अगस्त को झंडोत्तोलन के लिए पहुंचे जिला अल्पसंख्यक कल्याण पदाधिकारी को आवेदन देकर जर्जर भवन से अवगत कराया गया था। दुर्घटना के बाद छात्रावास का जायजा लेने पहुंची अल्पसंख्यक कल्याण पदाधिकारी स्निग्धा स्नेहा ने कहा कि जर्जर भवन की मरम्मत के बाबत भवन प्रमंडल विभाग को लिखा गया है।

गिरे छात्रावास का जायजा लेने के बाद जिला कल्याण पदाधिकारी ने कहा कि 16 वर्ष में भवन ढहकर गिरना निर्माण कार्य पर सवाल खड़ा करता है। इसकी जांच के लिए जिलाधिकारी को लिखा जाएगा।
- स्निग्धा स्नेहा, जिला अल्पसंख्यक कल्याण पदाधिकारी, मुंगेर

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपने विश्वास तथा कार्य क्षमता द्वारा स्थितियों को और अधिक बेहतर बनाने का प्रयास करेंगे। और सफलता भी हासिल होगी। किसी प्रकार का प्रॉपर्टी संबंधी अगर कोई मामला रुका हुआ है तो आज उस पर अपना ध...

और पढ़ें