विरोध:सरकार की दोहरी नीति की मार सह रहे शिक्षकेत्तर कर्मचारी, मांगंे पूरी नहीं हुई तो तेज होगा आंदोलन

मुंगेर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मांगों को लेकर धरने पर बैठे एचएस कॉलेज शिक्षकेत्तर कर्मचारी संघ के सदस्य। - Dainik Bhaskar
मांगों को लेकर धरने पर बैठे एचएस कॉलेज शिक्षकेत्तर कर्मचारी संघ के सदस्य।
  • बिहार राज्य विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालय कर्मचारी महासंघ ने दिया धरना, अध्यक्ष ने कहा
  • मुंगेर विवि के सभी 17 अंगीभूत कॉलेजों के शिक्षकेत्तर कर्मियों ने दिया एकदिवसीय धरना

बिहार राज्य विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालय कर्मचारी महासंघ के अह्वान पर शुक्रवार को मुंगेर विश्वविद्यालय के सभी 17 अंगीभूत कॉलेजों के शिक्षकेत्तर कर्मचारी एक दिवसीय धरना पर बैठे तथा प्राचार्य का घेराव किया। इस बाबत जानकारी देते हुए महासंघ के प्रक्षेत्र अध्यक्ष गुंजेश कुमार सिंह और प्रक्षेत्र मंत्री रविंद्र कुमार ने बताया कि बिहार के सभी कालेजों में कार्यरत शिक्षकेत्तर कर्मी बिहार सरकार की दोहरी नीति का मार सह रहे हैं। हालत यह है कि सरकार के ही पत्र को शिक्षा विभाग मानने के लिए तैयार नहीं है। इसके कारण शिक्षकेत्तर कर्मचारियों की आर्थिक और मानसिक स्थिति खराब होती जा रही है। ऐसे में कर्मचारी हारकर हाई कोर्ट में याचिका दायर कर रहे हैं। ऐसे में जब न्यायालय आदेश जारी करता है तो सरकार उसके विरोध में उच्चतम न्यायालय चली जाती है। यदि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कर्मचारियों की जायज मांग पूरी नहीं करते हैं तो आने वाले समय में उनको कर्मचारियों द्वारा बहुत तोहपुा देंगे। उन्होंने बताया कि महासंघ के अह्वान पर विश्वविद्यालय के सभी 17 अंगीभूत कालेजों के शिक्षकेत्तर कर्मियों ने एक दिवसीय धरना प्रदर्शन किया तथा प्राचार्य का घेराव किया। बिहार राज्य विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालय कर्मचारी महासंघ के अह्वान पर आयोजित एक दिवसीय धरना प्रदर्शन के तहत शुक्रवार को आरडी एंड डीजे कॉलेज के भी शिक्षकेत्तर कर्मी धरना पर बैठे। जिसमें सभी शिक्षकेत्तर कर्मी अपनी मांगों के समर्थन में धरना पर डटे रहे। इस धरना का नेतृत्व महासंघ के प्रक्षेत्रीय मंत्री सह डीजे कॉलेज शिक्षकेत्तर कर्मचारी संघ के सचिव रविंद्र कुमार ने किया।

मांग पूरी नहीं होने पर आंदोलन जारी रखने की दी चेतावनी
मौके पर धरनार्थियों को संबोधित करते हुए रविंद्र कुमार ने कहा कि सरकार एवं विश्वविद्यालय प्रशासन अगर हमारी मांगों पर यथाशीध्र निदान नहीं निकालती है तो सभी शिक्षकेत्तर कर्मचारी चरणाबद्ध आंदोलन जारी रखेंगे। इसके बाद कर्मियों ने प्राचार्य को अपना मांग पत्र सौंपा। मौके पर कर्मी विजय कुमार यादव, हसन निजामी, वीरेंद्र ठाकुर, बाल किशोर यादव, विनोद कुमार शर्मा, हरिराज पंडित, अजय कुमार दास, कमल राउत आदि मौजूद थे।

धरने पर बैठे जेएमएस कालेज के शिक्षकेत्तर कर्मी।
धरने पर बैठे जेएमएस कालेज के शिक्षकेत्तर कर्मी।

शिक्षकेत्तर कर्मियों ने जेएमएस कॉलेज में भी दिया धरना
वहीं दूसरी ओर जेएमएस कॉलेज में भी शिक्षकेत्तर कर्मचारियों ने संघ के अध्यक्ष नजरुल इस्लाम के नेतृत्व में धरना दिया। जिसे संबोधित करते हुए सचिव ब्रजेश कुमार ने कहा कि आज बिहार सरकार की दोहरी नीति के दंश बिहार के सभी कालेजों में कार्यरत हमारे साथी झेल रहे हैं। सरकार के ही पत्र को शिक्षा विभाग मानने को तैयार नहीं है। यदि कर्मचारियों की जायज मांगों को पूरा नहीं किया गया तो शिक्षकेत्तर कर्मियों का आंदोलन और तेज होगा।

शिक्षकेत्तर कर्मियों को 4 महीने से नहीं मिला है वेतन, प्राचार्य का किया घेराव
हवेली खड़गपुर| जब से तिलकामांझी विश्वविद्यालय से अलग हटकर मुंगेर विश्वविद्यालय बना है ,तभी से विभिन्न महाविद्यालय की स्थिति सुधरने के बदले और बिगड़ती जा रही है। खड़गपुर के इकलौते अंगीभूत डिग्री कॉलेज हरि सिंह महाविद्यालय तो और खस्ताहाल में पहुंच गया है। कर्मियों की कमी से जूझ रहे कॉलेज के पूर्व प्राचार्य ने अपनी असमर्थता जताते हुए कई बार अपना त्यागपत्र सौंप दिया, लेकिन स्थिति फिर भी जस की तस रही। अब प्राचार्य का तबादला कर दिया गया है और अब यह प्रभार के भरोसे चल रहा है। हालिया परेशानी शिक्षकेत्तर कर्मचारियों के वेतन को लेकर जुड़ा है। इसी को लेकर शुक्रवार को बिहार राज्य विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालय कर्मचारी संघ के आह्वान पर हरि सिंह महाविद्यालय शिक्षकेतर कर्मचारी संघ ने चरणबद्ध आंदोलन की धमकी देते हुए धरना दिया।

खबरें और भी हैं...