झड़प:पुलिस पिकेट हटाने को ले भिड़े दो पक्ष

मुंगेर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • अवैध हथियार निर्माण पर नकेल को हसनपुर में खुला है पिकेट, पुलिस के सामने ही हाथापाई

एसपी द्वारा मुफ्फसिल थानान्तर्गत हसनपुर में अवैध आग्नेयास्त्र के निर्माण और शराब तस्करी पर नकेल कसने के उद्देश्य से पुलिस पिकेट खोला गया था। अब पुलिस पिकेट पंचायत भवन से हटाने को लेकर कुछ लोग अड़े हैं। जबकि कुछ लोग पुलिस पिकेट वहीं रहने के पक्ष में हैं। शुक्रवार की शाम इसी विवाद को सुलझाने के लिए पुलिस पदाधिकारियों की टीम हसनपुर पंचायत भवन में पंचायत प्रतिनिधियों के साथ बैठक कर रहे थे। बैठक के दौरान पुलिस के समक्ष ही दोनों गुट आपस में भिड़ गए और हाथापाई करने लगे। बाद में पुलिस के हस्तक्षेप से मामला शांत करा दिया गया। शनिवार को हसनपुर के दर्जनों ग्रामीण मुफ्फसिल थाना पहुंच कर थानाध्यक्ष से पुलिस पिकेट वहीं पर रहने देने का आग्रह किया। मुफ्फसिल थानान्तर्गत कटरिया पंचायत के हसनपुर पंचायत भवन में एसपी के आदेश पर पुलिस पिकेट खोला गया था। जहां एक पुलिस पदाधिकारी एवं जवानों को तैनात किया गया था। लेकिन कुछ दिनों में ही पुलिस पिकेट को वहां से हटाने को लेकर कुछ लोग गोलबंद होने लगे। इसकी जानकारी पुलिस पदाधिकारियों को मिलने पर एसपी कार्यालय में तैनात इंसपेक्टर दलजीत झा, मुफ्फसिल सर्किल इंस्पेक्टर बलराम प्रसाद एवं थानाध्यक्ष कौशलेंद्र कुमार शुक्रवार की शाम पिकेट पहुंचे और ग्रामीणों के साथ इसी मुद्दे पर बैठक कर रहे थे। एक गुट का कहना है कि पिकेट से झंडोत्तोलन में दिक्कत होगी।

पिकेट में बढ़ाई गई जवानों की संख्या
मुफ्फसिल थानाध्यक्ष कौशलेंद्र कुमार ने बताया िक मुखिया के नेतृत्व में कुछ लोग शनिवार को थाना पहुंचे थे, जो पुलिस पिकेट वहीं रखने की मांग कर रहे थे। उन्होंने कहा कि पुलिस पिकेट वहां से नहीं हटाने का निर्णय हो चुका है। पिकेट में पहले तैनात एक पुलिस पदाधिकारी एवं दस जवान तैनात थे। अब जवानों की संख्या में बढ़ोतरी कर दी गई है।

पिकेट खुलने से बढ़ी असामाजिक तत्वों की परेशानी
बता दें कि एसपी ने छह दिन पूर्व ग्रामीणों की मांग पर वर्षों से खाली पड़े हसनपुर पंचायत भवन में पुलिस पिकेट खुलवाया था। पिकेट में 05 मोटर साइकिल उपलब्ध कराते हुए क्षेत्र में अवैध हथियार निर्माण और शराब कारोबार पर रोक लगाने के लिए लगातार गश्ती करने का निर्देश जवानों को दिया गया था। पिकेट खुलने के बाद पुलिस जवानों द्वारा लगातार क्षेत्र में गश्ती करने से असमाजिक तत्वों के साथ ही हथियार व शराब कारोबारी की परेशानी बढ़ गयी थी।

खबरें और भी हैं...