परेशानी:नौहट्टा के गांवों में मोबाइल नेटवर्क फेल रहने से परेशान हैं लोग, जीओ का नेटवर्क भी खराब

नौहट्टाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के डिजिटल इंडिया का सपना नौहट्टा प्रखंड में सफल नहीं हो रहा है। दोनों प्रखण्ड के सोन नदी किनारे बसे गांवो के मोबाईल उपभोक्ता झारखण्ड राज्य के मोबाईल नेटवर्क पर आश्रित है। सबसे अधिक बुरा हालत नौहट्टा प्रखण्ड के बान्दु गांव का है। इस गांव के घर में मोबाइल नेटवर्क नहीं मिलता है। जबकि अकेले बान्दु गांव में एयरटेल और जिओ के हजारों उपभोक्ता है और सभी उपभोक्ता नेटवर्क नहीं रहने के कारण परेशान है। कही बात करने के लिए उपभोक्ताओं को घर से बाहर कही मैदान में या सोन नदी के किनारे निकलना पड़ता है।

तब जाकर कही बात होता है। शाम होते ही इस गांव में इंटरनेट काम करना बंद कर देता है। उपभोक्ताओं ने जिओ और एयरटेल के क्षेत्रीय से लेकर वरीय अधिकारियों तक नेटवर्क और इंटरनेट के स्पीड से जुड़ा शिकायत दर्जनों बार किया, परन्तु कोई करवाई नही हुआ। एक बान्दु ही नही सोन नदी किनारे बसे अधिकांश गांव में झारखण्ड राज्य का मोबाईल नेटवर्क काम करता है। उसी के नेटवर्क से लोग बाहरी दुनिया से सम्पर्क स्थापित करते है। पूरे प्रखण्ड में मोबाईल नेटवर्क का लुका छिपी का खेल जारी है। जिसके कारण मोबाईल उपभोक्ताओं को घोर कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। कई उपभोक्ताओं ने एयरटेल और जिओ के क्षेत्रीय कार्यालय तक फोन करके नेटवर्क में सुधार करने का आग्रह किया, परन्तु कोई करवाई सुधार की दिशा में नही हो सका ।

खबरें और भी हैं...