पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bhagalpur
  • 11 Former Councilors And Heads Of Councilors From 4 Seats Trying Luck, Equation Will Change; Former Mayor, Deputy Mayor And Sap Chairman Of Sultanganj Are Also In The Field

बिहार विधानसभा चुनाव:4 सीटों से 11 पार्षद-पूर्व पार्षद व मुखिया आजमा रहे किस्मत, बदलेंगे समीकरण; पूर्व मेयर, डिप्टी मेयर और सुल्तानगंज की नप सभापति भी मैदान में

भागलपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

(मदन) जिले के सात विधानसभा सीटों पर दो चरणों में होने वाले चुनावी दंगल के लिए मैदान पूरी तरह से तैयार हो गया है। दोनों ही मुख्य गठबंधन एनडीए और महागठबंधन ने मैदान में अपने खिलाड़ियों को उतार दिया है। इसके साथ ही इस बार मैदान में कुछ ऐसे चेहरे भी उतरकर ताल ठोक रहे हैं, जो गठबंधन के खिलाड़ियों के समीकरण बिगाड़ भी सकते हैं।

ये लोग किसी वार्ड या जिला परिषद के पार्षद, पूर्व पार्षद, पूर्व मेयर, डिप्टी मेयर, सभापति या मुखिया पति हैं। जिले की सात में से चार विधानसभा सीटों में अब तक इनकी संख्या 11 है। हालांकि आगे इनकी संख्या बढ़ भी सकती है। अभी सुल्तानगंज और कहलगांव सीट पर नामांकन की प्रक्रिया पूरी हुई है। पांच और सीट पर प्रक्रिया अभी चल ही रही है। 16 अक्टूबर के बाद स्थिति साफ हो जाएगी।

विधायकी की चाहत में दल बदला, फिर सत्ता संग्राम में कूदे
पार्षद रहे प्रत्याशी ने अलग-अलग विधानसभा सीटों से चुनाव लड़ने के लिए अब तक कई जतन किए हैं। पहले दल बदले। फिर वहां से टिकट लिये। नीलम देवी राजद से लोजपा में गयी। टिकट नहीं मिलने पर अशोक कुमार आलोक ने राजद छोड़ बसपा का दामन थामा।

डिप्टी मेयर राजेश वर्मा चुनाव से ठीक पहले भाजपा से लोजपा में गए और अब मैदान में उतरे हैं। शबाना आजमी कल तक भाजपा में थीं और अब जाप के टिकट पर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही हैं। जिनलोगों को किसी दल से टिकट नहीं मिला वे निर्दलीय लड़ेंगे। पूर्व मेयर दीपू भुवानिया जदयू व्यावसायिक प्रकोष्ठ से जुड़े थे और अब निर्दलीय चुनाव लड़ेंगे।
गोपालपुर-नाथनगर से मैदान में उतरे जिप सदस्य बिगाड़ सकते हैं खेल
अभी तक तीन जिला परिषद सदस्य अलग-अलग दल या निर्दल चुनाव लड़ रहे हैं। नाथनगर से बसपा के टिकट पर जिला परिषद सदस्य अशोक कुमार आलोक चुनाव लड़ रहे हैं। ये कुछ दिन पहले तक राजद में थे और वहां से टिकट मिलने की आस लगाए थे। लेकिन जब टिकट नहीं मिला तो दल बदला और हाथी पर सवार हो गए।

गोपालपुर से जिप सदस्य शबाना आजमी जाप के टिकट पर मैदान में उतर गयी हैं। इस्माइलपुर से जिप सदस्य विपिन मंडल भी निर्दलीय मैदान में ताल ठोकने की तैयारी में हैं। ये वहां के बने बनाये खेल को बिगाड़ सकते हैं। ये दोनों रंगरा एनडीए के वोट बैंक में सेंधमारी कर सकते हैं। जबकि अशोक कुमार आलोक महागठबंधन के वोट बैंक में सेंधमारी कर सकते हैं।

नप सभापति और अध्यक्ष पति भी बदल सकते हैं समीकरण
सुल्तानगंज से राजद की बागी व सुल्तानगंज नगर परिषद की सभापति नीलम देवी लोजपा के टिकट पर चुनाव लड़ रही हैं। ये महागठबंधन के वोट बैंक में सेंधमारी कर सकती हैं। नगर पंचायत नवगछिया की अध्यक्ष प्रीति कुमारी के पति प्रेम सागर उर्फ डब्ल्यू यादव के लोजपा से गोपालपुर विस सीट पर चुनाव मैदान में उतरने की चर्चा है। ये चुनाव लड़ते हैं तो एनडीए के वोट बैंक में सेंधमारी कर सकते हैं।

खबरें और भी हैं...