भागलपुर / मायागंज और सदर अस्पताल में 295 की जांच, एक भर्ती, 232 होम क्वारेंटाइन

मायागंज अस्पताल में जांच को लगी लाइन। मायागंज अस्पताल में जांच को लगी लाइन।
X
मायागंज अस्पताल में जांच को लगी लाइन।मायागंज अस्पताल में जांच को लगी लाइन।

  • एसडीएम और सिटी डीएसपी ने दोनों अस्पतालों का लिया जायजा, दिए जरूरी निर्देश
  • मेडिकल कॉलेज अस्पताल में 215 परदेशियों की स्क्रीनिंग से एमसीएच वार्ड में बढ़ी भीड़

दैनिक भास्कर

Mar 26, 2020, 12:11 PM IST

भागलपुर. सर्दी-खांसी, बुखार की शिकायत पर कोरोना की आशंका में सदर अस्तपताल और मेडिकल कॉलेज (मायागंज) अस्पताल में बुधवार को जांच के लिए 295 मरीज पहुंचे। इनमें 232 मरीजों को होम क्वारेंटाइन की सलाह दी गई। मेडिकल कॉलेज अस्पताल में 214 को होम क्वारेंटाइन किया गया, जबकि एक संदिग्ध को भर्ती किया गया है। 

सदर अस्पताल में 18 को होम क्वारेंटाइन किया गया। सदर अस्पताल में 80 मरीज जांच के लिए पहुंचे थे। इनमें बाहर से यात्रा कर आए 18 लोगों को डॉक्टरों ने 14 दिनों के लिए होम क्वारेंटाइन की सलाह दी। एक व्यक्ति में कोरोना के लक्षण दिखने पर उसे मेडिकल कॉलेज अस्पताल रेफर किया गया। डॉक्टरों ने बताया, अधिकतर लोगों को सामान्य सर्दी-खांसी थी। उन्हें दवा और सलाह देकर घर भेजा।

मेडिकल कॉलेज अस्पताल में 215 पहुंचे
देश में लॉकडाउन होने के बाद बाहर से लौटे 215 लोगों की मेडिकल कॉलेज अस्पताल के एमसीएच वार्ड में स्क्रीनिंग हुई। इसमें मिरजानहाट इलाके के एक संदिग्ध को भर्ती कर क्वारेंटाइन में रखा गया। बाकी 214 को होम क्वारेंटाइन किया गया। संदिग्धों की बढ़ती संख्या देख अस्पताल प्रबंधन ने बड़े हॉल में जांच की व्यवस्था की थी। लोग गाड़ियों में भर-भरकर जांच के लिए पहुंचे। कई गाड़ियों को पुलिस ने पकड़ कर जांच के लिए अस्पताल भेजा। इससे इस हॉल में भी इमरजेंसी जैसे हालात बन गए।

एक दिन में आए 50 से ज्यादा के फोन
सदर अस्पताल के कंट्रोल रूम में 50 से ज्यादा लोगों के कॉल आए। इसमें झौवा कोठी के पास एक व्यक्ति के बाहर से आने की सूचना मिली। उन्हें मोहल्ले के लोगों ने जांच करवाने की सलाह दी, लेकिन वह नहीं गया। इसके बाद उसके घर एंबुलेंस के साथ मेडिकल टीम भेजी गई। फिर उसे मेडिकल कॉलेज अस्पताल ले जाया गया।

अब भी समय है, लोगों से मिलना छोड़ें
एमसीएच वार्ड की तैयारी का जायजा लेने एसडीएम आशीष नारायण और सिटी डीएसपी राजवंश सिंह दोपहर 12 बजे पहुंचे। उन्होंने कोरोना मरीजों के इलाज के लिए बने वार्ड का जायजा लिया। ऑक्सीजन सिलेंडर, सेफ्टी किट, दवा व अन्य संसाधन देखे। इसके बाद अधीक्षक चेंबर में इलाज व अन्य तरह की जानकारी ली। शाम छह बजे सदर अस्पताल में भी एसडीएम ने आइसोलेशन वार्ड का जायजा लिया। प्रबंधन को जरूरी निर्देश दिए। कॉल सेंटर पर कितनी कॉल आई, कितने की स्क्रीनिंग हुई, सेफ्टी किट कितने हैं? यह सब जानकारी ली।

इलाज में नहीं होगी देरी
नए आइसोलेशन वार्ड के फर्स्ट फ्लोर पर एक कमरे में छह बेड अभी कोरोना पॉजिटिव के लिए सुरक्षित हैं। इसी वार्ड में नर्सिंग स्टेशन व ड्यूटी डॉक्टरों के चेंबर बनाए गए हैं। इससे इलाज में देरी नहीं होगी। - डॉ. आरसी मंडल, अधीक्षक

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना