पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

लापरवाही:खुले में शौच पर 50 रुपए जुर्माना लेकिन 45 लाख के जो टॉयलेट कबाड़ हुए उस पर कार्रवाई तक नहीं

भागलपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शहर में बने फेब्रिकेटेड टॉयलेट की ऐसी ही जर्जर हालत कमोबेश सभी जगह है। - Dainik Bhaskar
शहर में बने फेब्रिकेटेड टॉयलेट की ऐसी ही जर्जर हालत कमोबेश सभी जगह है।
  • पहले के बने टॉयलेट-यूरिनल की देखरेख नहीं, हुए जर्जर, अब निगम का नया फरमान
  • निगम के सभी 51 वार्ड ओडीएफ प्लस, फिर भी सुविधा सिर्फ कागजाें में

नगर निगम के सभी 51 वार्डाें काे खुले में शाैचमुक्त ओडीएफ प्लस घाेषित किया गया है। यह व्यवस्था भी बनी है कि किसी भी व्यक्ति काे खुले में शाैच करते पाया तो पहली बार 50 रुपए और उसके बाद 100 रुपए का जुर्माना, जबकि यूरिन करते पाए जाने पर भी 50 रुपए का जुर्माना नगर निगम वसूलेगा। लेकिन सवाल यह है कि आखिर लाेग टाॅयलेट के लिए कहां जाएं?

पहले बने सभी बायाे व स्मार्ट टाॅयलेट कबाड़ हो गए। स्मार्ट सिटी प्राेजेक्ट से साढ़े चार साल में शहर के मुख्य चाैक-चाैराहे और सड़क किनारे करीब 45 लाख से अधिक की लगात से डेढ़ दर्जन शाैचालय व टाॅयलेट बनाए गए। लेकिन हालत यह है कि एक भी इस्तेमाल के लायक नहीं है। केवल सड़काें के किनारे 14 एल्युमीनियम शीट वाले टाॅयलेट बनाए थे।

इनमें एक की लागत करीब डेढ़ लाख थी। लेकिन अब उसमें से ज्यादातर उखाड़ लिए गए हैं और बचे-खुचे के दरवाजे व दीवार में दरार आ चुकी है। ऐसे में लाेगाें के लिए कोई भी सुविधा घर नहीं है। ऐसी हालत में निगम प्रशासन की बनाई नई व्यवस्था कितनी कारगर हाेगी? यह सवालाें के घेरे में है।

जानिए, शहर में पहले से बनाए गए टाॅयलेट और यूरिनल की क्या है हालत
1. मायागंज अस्पताल के पास 6.92 लाख से 2015 में ही शाैचालय बना था। लेकिन अब तक वहां व्यवस्था दुरुस्त नहीं की जा सकी है। गंदगी फैली है। दुर्गंध इतनी है ताे लाेग इस्तेमाल नहीं करना चाहते। दरवाजे की हालत भी खराब है।
2. बरारी पुल घाट के पास पांच साल पहले से शाैचालय बनना शुरू हुआ, लेकिन अब भी उसे सही ढंग से नहीं बन सका। उसका इस्तेमाल ढंग से नहीं हाे पा रहा है। जबकि पर्व-त्याेहार पर घाट पर दूर-दराज से सैकड़ाें महिलाएं आती हैं।
3. जिला स्कूल के पास 2016 में 8.50 लाख से हाईटेक शाैचालय बना। लेकिन अब तक चालू नहीं किया जा सका। जबकि इस रास्ते पर दाे बालिका, एक बालक हाईस्कूल है। आसपास कई निजी अस्पताल भी हैं। लेकिन स्थिति यह है कि यहां ताला लटका है।
5. शहर में सड़काें के किनारे 14 जगहाें पर स्मार्ट टाॅयलेट बनाए गए। इसे एल्युमीनियम शीट्स से बनाया गया। तिलकामांझी से सैंडिस कंपाउंड हाेते हुए कचहरी चाैक, घूरन पीर बाबा चाैक से तिलकामांझी, बड़ी पाेस्ट ऑफिस से घंटाघर के बीच समेत कई जगहाें पर 21 लाख से टाॅयलेट बने। लेकिन अब ज्यादातर के नामाेनिशान मिट चुके हैं। कुछ के केवल अवशेष हैं। इस्तेमाल लायक एक भी नहीं है।
6. नाथनगर के आउट पाेस्ट लेन में 6.50 लाख से शाैचालय बना। लेकिन अब तक इस्तेमाल नहीं हाे सका। आदमपुर चाैक के पास भी बने शाैचालय बेकार हाेने लगे हैं। इसके अलावा सदर अस्पताल के पास के शाैचालय में हमेशा गंदगी रहती है। ये सब इस्तेमाल के लायक नहीं हैं।

स्वच्छता के पैमाने पर हाेटल से लेकर स्कूलाें तक हाेगा सर्वे
स्वच्छता सर्वेक्षण की तैयारी शुरू हाे गई है। इसके तहत शहर के हाेटल, रेस्तरां, सरकारी व प्राइवेट स्कूल, विवाह भवन, सरकारी व निजी अस्पताल, नर्सिंग हाेम, सरकारी कार्यालय, बैंक, पाेस्ट ऑफिस की रैंकिंग होनी है। इन श्रेणी में पहले तीन स्थान प्राप्त करने वाले संस्थानाें काे नगर निगम अलग-अलग सम्मानित करेगा। 6 बिंदुओं पर सर्वे का आकलन हाेगा।

इनमें गीला व सूखा कचरा काे अलग रखना, गीले कचरे की प्राेसेसिंग करना, कचरे की और आसपास की सफाई, महिला-पुरुष व दिव्यांग के लिए अलग शाैचालय, पार्किंग सुविधा और काेविड-19 के प्राेटाेकाॅल का पालन शामिल है। निगम की विशेष टीम सर्वे करेगी। इसके लिए सभी संस्थानाें को तैयारी करने को कहा गया है।
अब नगर निगम की शिकायत स्वच्छता एप से कर सकते हैं
अब निगम से जुड़े स्वच्छता काे लेकर शिकायत एप से भी की जा सकती है। केंद्र सरकार के आवास व शहरी विकास मंत्रालय ने स्वच्छ भारत मिशन के तहत स्वच्छता एप की शुरुआत की है। प्रभारी नगर आयुक्त के मुताबिक इस एप से नगर निगम से संबंधित समस्या के निपटारा के लिए शिकायत दर्ज की जा सकती है। इसके बाद एप से मिली शिकायत का निपटारा किया जाएगा। लाेग अपने माेबाइल फाेन में प्ले स्टाेर से डाउनलाेड कर सकते हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- व्यक्तिगत तथा पारिवारिक गतिविधियों में आपकी व्यस्तता बनी रहेगी। किसी प्रिय व्यक्ति की मदद से आपका कोई रुका हुआ काम भी बन सकता है। बच्चों की शिक्षा व कैरियर से संबंधित महत्वपूर्ण कार्य भी संपन...

    और पढ़ें