• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bhagalpur
  • As Soon As The Patient Arrived At The Kovid Center, The Oxygen Plant Got Power Trip, Breathed From The Cylinder, Referred 1

सदर में मॉकड्रिल:कोविड सेंटर में मरीज के आते ही ऑक्सीजन प्लांट का पावर हुआ ट्रिप, सिलेंडर से दी सांस, 1 को किया रेफर

भागलपुर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कोविड केयर सेंटर में मॉकड्रिल के दौरान सीएस व अन्य। - Dainik Bhaskar
कोविड केयर सेंटर में मॉकड्रिल के दौरान सीएस व अन्य।

सदर अस्पताल में काेराेना मरीजाें के इलाज के लिए बने काेविड केयर सेंटर में पहले ही दिन शुक्रवार को ऑक्सीजन प्लांट ने धाेखा दे दिया। दाेपहर 1 बजे सेंटर में माॅकड्रिल के लिए जैसे ही ऑक्सीजन प्लांट ऑन किया। पावर ट्रिप हो गया और उसे बंद कर दिया गया। इसके बाद मरीज के बेड पर रखे जंबाे सिलेंडर से ऑक्सीजन मास्क लगाकर चेक किया ताे फ्लाे ठीक आ रहा था। सीएस डाॅ. उमेश शर्मा ने अस्पताल प्रबंधन से ऑक्सीजन प्लांट वाली एजेंसी को ठीक कराने के निर्देश दिए। हालांकि माॅकड्रिल में प्रबंधन पुरानी व्यवस्था में पास कर गया, पर नई व्यवस्था में फेल हो गया।

दोपहर 1 बजे अस्पताल के बाहर एक एंबुलेंस में ड्राइवर विवेकानंद काे लिटाकर अकाउंटेंट आदित्य दास काेविड सेंटर पहुंचे। उसने कहा, मेरे भाई की तबीयत खराब है। मौके पर सीएस, डीपीएम फैजान, मैनेजर और अस्पताल प्रभारी डाॅ. राजू माैजूद थे। पीपीई किट में एक नर्स ने मापने के बाद कहा, ऑक्सीजन 72% है। जल्द भर्ती करना होगा। नर्स ने मरीज काे उपरी तल पर बने वार्ड में बेड पर लिटाया और ऑक्सीजन सिलेंडर से सांस देने लगी। डाॅ. अमित शर्मा ने दवा देने को पर्चे पर लिखकर नर्स काे निर्देश दिया। इस माॅकड्रिल में प्रबंधन पास हाे गया, पर व्यवस्था अभी पुख्ता नहीं है।

अभी ये है सुविधा

  • ऑक्सीजन कंसट्रेटर, दाे वेंटिलेटर, 70 बेड पर जंबाे सिलेंडर।
  • हर पाली में एक आयुष डॉक्टर, नर्सिंग और फाेर्थ ग्रेड स्टाफ।
  • जंबाे सिलेंडर से 24 घंटे सांस देने की है व्यवस्था।

इधर, माॅकड्रिल, उधर मरीज को किया रेफर
अस्पताल में माॅकड्रिल में सीएस से लेकर पूरी टीम लगी थी। इसी बीच 1.30 बजे रानीतालाब से 75 वर्षीय वृद्ध काे लेकर परिजन पहुंचे। यहां डाॅ. अमित शर्मा ने उनका ऑक्सीजन लेवल मापा ताे वह 88% था। उनके फेफडे में कफ था। गले से घरघराहट की आवाज आ रही थी। उसे बीपी व डायबीटिज की शिकायत थी। यह देख डाॅक्टर ने कहा, मायागंज ले जाइए। यहां एसिम्टोमेटिक या ज्यादा गंभीर न हो, उन्हें ही रखने की सुविधा है।

खबरें और भी हैं...