भागलपुर में मुखिया प्रत्याशी को मारी दो गोली:एक कंधा छूकर गई, दूसरी कनपटी में फंसी; रिश्ते के भतीजे-पोते ने ही मारा

भागलपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अखिलेश्वर मंडल का इलाज मायागंज अस्पताल में चल रहा है जहां वे खतरे से बाहर बताये जा रहे हैं। - Dainik Bhaskar
अखिलेश्वर मंडल का इलाज मायागंज अस्पताल में चल रहा है जहां वे खतरे से बाहर बताये जा रहे हैं।

चुनाव लड़ना एक अधेड़ को उस वक्त महंगा पड़ गया, जब उसे पास के ही रहने वाले अपने भतीजे और पोते ने मिलकर गोली मारकर घायल कर दिया। घटना नवगछिया के खरीक थाना क्षेत्र के नवादा गांव की है। बताया जाता है कि वार्ड संख्या 5 निवासी क्रांति मंडल के पुत्र अखिलेश्वर मंडल (54) को पास के ही कन्हैया कुमार और संगम कुमार ने गोली मार दी। फिलहाल घायल अखिलेश्वर मंडल का इलाज मायागंज अस्पताल में चल रहा है जहां वे खतरे से बाहर बताये जा रहे हैं। अखिलेश्वर मंडल को एक गोली कंधे को छू कर निकली है, जबकि दूसरी गोली उनके कनपटी में फंसी हुई है।

ऐसे हुई घटना

घायल के पुत्र राहुल कुमार ने बताया कि पिताजी शुक्रवार रात बगल के ही झौंअ गांव में काली पूजा देखने गए थे। उसी क्रम में लौटते वक्त पास के ही रहने वाले दो युवक ने उन्हें गोली मार दी। घायल ने बताया कि वह जिस समय काली पूजा मेला देखने के लिए झौंअ गांव जा रहे थे, उस वक्त कन्हैया और संगम जुआ खेल रहे थे। जब वे मेला पहुँचे तो उन्होंने देखा कि वहां पर दोनों मौजूद थे। मैंने मेला का 4 चक्कर काटा, चारों चक्कर में वह मेरे बगल से निकले।

उन्होंने बताया कि वे जब लौट रहे थे, तभी बाइक पर आकर कन्हैया ने पहले उनका रास्ता रोका और उन पर गोली चला दी जिसमें वह बाल-बाल बचे। फिर दूसरी गोली चलाया जो कंधे को छूती हुई निकल गई। उसके बाद वह दोनों बाइक रोककर मेरे साथ हाथापाई करने लगे, जिसमें मुझे उन दोनों ने पास के गड्ढे में ढकेल दिया और फिर अंधेरे का फायदा उठाकर दोनों में से एक ने गोली चलाई जो मेरे कनपटी में लगी।

मामला चुनाव से है जुड़ा

अखिलेश्वर मंडल ने बताया कि वे चुनाव में अपने पंचायत अकिदतपुर से वार्ड 5 में पंच पद के लिए उम्मीदवार बने थे। 3 नवम्बर को चुनाव था, जिसका अभी रिजल्ट अभी नहीं आया है। चुनाव के दौरान हल्की-फुल्की बहसबाजी हुई थी।

घायल ने पूर्व में गोली चलाने वाले के कुत्ते को मारा था

घायल अखिलेश्वर मंडल ने बताया कि हम दोनों का बासा एक ही जगह पर है। कुछ महीने पूर्व मेरे फसल की बर्बादी उसके कुत्ते ने खोद कर कर दी थी। जिस पर मैंने उसके कुत्ते को मारा था और उसे भी भला-बुरा कहा था। शायद हो सकता है, उसी बात को लेकर उसने मुझ पर गोली चलाई हो।

मंडल ने बताया कि कन्हैया कुमार और संगम कुमार उसके रिश्ते में भतीजे और पोते लगते हैं, जो बगल के ही रहने वाले हैं। बचपन से ही दोनों चोरी करते हैं। दोनों कई बार चोरी करते हुए पकड़े भी गए हैं। परिजनों ने बताया कि घटना की सूचना पुलिस को दी गई थी, लेकिन लगभग 14 घंटे के बाद भी पुलिस फर्द बयान के लिए अस्पताल नहीं पहुंची।

इधर खरीक थानाध्यक्ष पंकज कुमार ने बताया कि मामला जमीन से जुड़ा हुआ है। कौन सा जमीन है, कितना जमीन है, यह स्पष्ट नहीं हो पाया है। क्योंकि अभी तक घायल पक्ष का फर्द बयान नहीं आया है। फर्द बयान आने के बाद विशेष जानकारी मिल पाएगी।