असामाजिक वायरस:भागलपुर में शब-ए-बारात के सामूहिक फातिहा से रोका तो पुलिस पर फायरिंग, होमगार्ड का एक जवान चोटिल

भागलपुर2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
एसपी सुशांत कुमार सरोज समेत आसपास के आधा दर्जन थानों की पुलिस ने मौके पर पहुंच कर स्तिथि को काबू किया। - Dainik Bhaskar
एसपी सुशांत कुमार सरोज समेत आसपास के आधा दर्जन थानों की पुलिस ने मौके पर पहुंच कर स्तिथि को काबू किया।
  • गोलीबारी में कोई हताहत नहीं हुआ, पथराव में घायल हुआ होमगार्ड
  • पुलिस ने इलाके में फ्लैग मार्च किया और लोगों को घरों में रहने की अपील की

कोरोना संकट के बीच शब-ए-बारात को लेकर हबीबपुर स्थित कब्रिस्तान में जुटे लोगों को सामूहिक फतिहा न करने के लिए समझाने गई पुलिस पर गुरुवार शाम असामाजिक लोगों ने हमला कर दिया। पुलिस जवानों को टारगेट कर रोड़ेबाजी की और गोली चलाई। गोलीबारी में कोई हताहत नहीं हुआ, लेकिन पथराव में होमगार्ड का एक जवान चोटिल हुआ है। घटना की जानकारी पाकर सिटी एसपी सुशांत कुमार सरोज समेत आसपास के आधा दर्जन थानों की पुलिस मौके पर पहुंच गई। जिला शांति समिति और मुहर्रम कमेटी से जुड़े लोग भी मोमिन टोला पहुंचे। पुलिस ने इलाके में फ्लैग मार्च किया और लोगों को घरों में रहने की अपील की। मस्जिदों से भी इसका ऐलान किया गया। तब जाकर लोग माने और अपने घर गए। पूरे इलाके में पुलिस कैंप कर रही है। 

इमारत-ए- शरिया के प्रमुख बोले-मुसलमानों ने पथराव व फायरिंग की तो गलत है
इमारत-ए- शरिया के अमीर-ए- शरीयत हजरत माैलाना वली रहमानी ने कहा कि अगर मुसलमानाें ने पुलिस पर पथराव व फायरिंग की है ताे यह गलत बात है। पुलिस और मुसलमानाें काे भी अपने दायरे में रहने की जरूरत है। पथराव और गाेलीबारी काे हर हाल में राेका जाना चाहिए। माैलाना वली रहमानी ने कहा कि काेराेना काे लेकर सरकार ने जाे गाइडलाइन दी है, उसमें कहा गया है कि अगर काेई प्रशासन या पुलिस के आदेश का उल्लंघन करता हाे ताे उसपर लाठी न बरसाए जाएं, जाे अक्सर देखा जा रहा है। पुलिस काे अपने क्षेत्राधिकार में रहकर कानूनी कार्रवाई करने की जरूरत है।

खबरें और भी हैं...