पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bhagalpur
  • Bihar Corona News; Jeevan Jagriti Society Released Phone Number, Ask Them Any Question Releted To Corona Bihar Corona News; Jeevan Jagriti Society Released Phone Number, Ask Them Any Question Releted To Corona

भागलपुर में ‘डॉक्टर ऑन कॉल’:कोरोना को हराना है तो घर में ही रहें, आपकी बीमारी को हराने के लिए जीवन जागृति सोसाइटी ने जारी किया नंबर

भागलपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सोसायटी के अध्यक्ष डॉ. अजय कुमार सिंह ने बताया मरीज एक कॉल पर चिकित्सीय परामर्श तब तक ले सकते हैं। - Dainik Bhaskar
सोसायटी के अध्यक्ष डॉ. अजय कुमार सिंह ने बताया मरीज एक कॉल पर चिकित्सीय परामर्श तब तक ले सकते हैं।

भागलपुर में बढ़ते कोरोना संक्रमण से लोग परेशान हैं। संक्रमितों की संख्या प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है। मौत का आंकड़ा रोज नए रिकार्ड बना रहा है। हॉस्पिटल में भी कोरोना को लेकर मारामारी मची है। कहीं बेड की समस्या है, तो कहीं ऑक्सीजन का अकाल पड़ा है। ऐसे में कोरोना संक्रमितों का ही इलाज में बाधा है। आम लोग भी OPD में नहीं जा पा रहा हैं। ऐसे में कहीं किसी का ऑपरेशन फंसा है तो किसी की दवाएं बंद हो गई है। कई डॉक्टरों ने अपना क्लिनिक तक बंद कर दिया है। मरीज बेबस हैं आखिर जाएं तो जाएं कहां? मरीजों की इस समस्या का समाधान करने के लिए शहर के जीवन जागृति सोसाइटी आगे आई है। इसमें डॉक्टरों की एक टीम बनाई गई है, जिसमें मरीज एक कॉल पर चिकित्सीय परामर्श तब तक ले सकते हैं, जब तक वह पूर्णतः स्वस्थ नहीं हो जाते हैं।

सोसायटी के अध्यक्ष डॉ अजय कुमार सिंह ने बताया कि रोज कई फोन आते हैं, जिसमें लोग यह शिकायत करते हैं कि कोरोना के इस विपदा में अधिकांश डॉक्टरों ने अपना क्लिनिक बंद कर रखा है। मायागंज अस्पताल में घोर अव्यवस्था है, जिस वजह से वहां जाने और अपने मरीजों को वहां भर्ती कराने में डर लगता है। लोग कहते हैं कि वहां न तो कोई मरीजों की देखरेख करने वाला है और न ही उन डॉक्टरों और कर्मियों को कोई गाइड करने वाला है। ऐसे में सोसाइटी ने एक मंच तैयार किया है, जिसमें सोसाइटी के सदस्य सोमेश यादव और सुनील सिंह ने 2 मोबाइल नम्बर 7979902095 और 9774009974 जारी किए हैं। मरीज या उनके परिजन कभी भी कॉल कर चिकित्सीय परामर्श ले सकते हैं। कोरोना से ग्रसित मरीज या उनके लोग इन दिए हुए नंबरों पर फोन करेंगे और उनको आवश्यकता अनुसार फिजीशियन, शिशु रोग विशेषज्ञ या गाइनैकोलाजिस्ट का नंबर दिया जाएगा। ये सभी डॉक्टर कोरोना संक्रमित मरीजों के साथ एक फैमिली मेंबर की तरह पेश आएंगे।
स्वस्थ होने तक मिलेगा इलाज

डॉ. अजय कुमार ने बताया कि मरीज जब तक पूरी तरह से ठीक नहीं होते जाते हैं तब तक उन्हें डॉक्टरों से परामर्श मिलता रहेगा। इस कार्य का एकमात्र उद्देश्य मरीजों के इलाज के साथ-साथ उसका मनोबल भी बढ़ाना है, जो दवा से भी बढ़कर काम करता है। डॉ अजय कुमार के अनुसार इस संगठन से जुड़े सभी चिकित्सकों ने इसके लिए साथ देने का वादा किया है। इस प्रक्रिया में एक साथ एक चिकित्सक को कभी भी 20 से ज्यादा का भार नहीं दिया जाएगा, ताकि जो भी मरीज उनके साथ जुड़े उनके साथ वह उन्हें पूरा समय दे सकें । मरीज अपने स्थिति को बताते हुए अभी क्या करें, क्या दवाई लें, ऑक्सीजन की जरूरत है कि नहीं, घर पर अभी इलाज कर सकते हैं या नहीं और हमें कब भर्ती हो जाना पड़ेगा इत्यादि बातों की जानकारी ले सकते हैं।

डॉक्टर बोले-संतुष्टि नहीं होने पर दुबारा करें कॉल
कोरोना मरीज अगर संतुष्ट नही हो पाते हैं तो वे पुनः दिए हुए उन नम्बरों पर कॉल करके सुझाव ले सकते हैं। डॉ. अजय कुमार सिंह खुद बात कर मरीजों की समस्या को दूर करने का हर संभव कोशिश करेंगे। डॉ. सिंह ने इसमें जुड़े 25 चिकित्सकों का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि एक साथ इस तरह 500 मरीजों को फैमिली डॉक्टर मुहैया कराने का एक प्रयास किया जा रहा है।