पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

भागलपुर में जालसाजों की करतूत देखिए:रेलवे ग्रुप C में नौकरी लगावाने के नाम पर 3 जालसाजों ने ठगे ₹16 लाख; युवक के पैसे मांगने पर डरा-धमका कर पीटा भी

भागलपुर6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मारपीट के बाद जख्म के निशान दिखाता जयशंकर। - Dainik Bhaskar
मारपीट के बाद जख्म के निशान दिखाता जयशंकर।

भागलपुर में रेलवे में नौकरी दिलाने के नाम पर जालसाजों ने ₹16 लाख की ठग लिए। ठगी का यह मामला सामने तब आया जब थाने में युवक के द्वारा FIR करने के बावजूद पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। चक्कर काटते-काटते जब युवक थक गया तो उसने अनुसूचित जनजाति थाने में मामला दर्ज करवाया। इधर, जयशंकर जब जालसाजों से अपने रुपए तगादा करने लगा तो उन्होंने धमकाना शुरू कर दिया। एक दिन उन्होंने जयशंकर को अकेले में बुलाया और जमकर उसकी पिटाई कर दी। इसमें वह घायल हो गया, लेकिन जालसाजों ने 1 हजार रुपए के स्टाम्प पर उसके सभी पैसे लौटाने का हस्ताक्षर ले लिया।
रेलवे ग्रुप C में नौकरी लगावाते जालसाल
नाथनगर थाना क्षेत्र के सहायक OP मसुदनपुर निवासी DD नगर नूरपुर निवासी जयशंकर प्रसाद रजक से दो जालसाजों ने यह कहकर पैसे ठगे कि रेलवे ग्रुप C में नौकरी लगवाएगा। जयशंकर प्रसाद रजक ने बताया कि डेढ़ वर्ष पहले भागलपुर के आशीष कुमार, लखीसराय के पंकज कुमार और बांका निवासी निलेश कुमार ने मुझसे रेलवे ग्रुप C में नौकरी लगवाने के नाम पर 16 लाख रुपए लिए थे, लेकिन उनकी नौकरी नहीं लगवा सके | समय बीतने के साथ ही जयशंकर तीनों से रूपए मांगने लगा। करने लगा| जब भी वह रुपए मांगता, तीनों टालमटोल करने लगते |
पैसे तो लौटाए नहीं देने लगे धमकी
पीड़ित जयशंकर प्रसाद रजक के द्वारा जब लगातार रुपए की मांग बढने लगी, तब उल्टे जालसाजों ने उल्टे उसे ही धमकाना शुरू कर दिया। ठगों पर लगातार बढ़ रहे दवाब से तंग आकर उनलोगों ने जयशंकर प्रसाद रजक को भदोरिया स्थित शिव मंदिर के पास फुलवारी बगीचा में बुलाया। इसके बाद तीनों ने मिलकर जयशंकर प्रसाद रजक को स्टाम्प पेपर पर यह लिखकर हस्ताक्षर करने को कहा कि हमने अपना बकाया रुपया पा लिया है | इस बात के लिए जब वह राजी नहीं हुआ, तो उन्होंने जयशंकर के साथ जमकर मारपीट की। इस मारपीट के दौरान जयशंकर प्रसाद रजक के हाथ और उंगली से खून निकलने लगा | हालांकि, उन्होंने ताकत के जोर पर एक हजार रुपए के सादा स्टाम्प पर जयशंकर प्रसाद रजक का हस्ताक्षर ले लिया , लेकिन इसके बाद भी उसने मसुदनपुर थाने में आवेदन किया। थाने ने ठगी के इस मामले पर कोई कार्रवाई नहीं की। इसके बाद जयशंकर प्रसाद रजक ने थक-हारकर भागलपुर के अनुसूचित जनजाति थाना में आवेदन देकर न्याय की गुहार लगाई है |

खबरें और भी हैं...