पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

परिवहन विभाग के 7 कर्मी गिरफ्तार:परिवहन कार्यालय में चल रही थी दारू पार्टी; पुलिस ने कम्प्यूटर ऑपरेटर सहित 7 कर्मियों को रंगे हाथों पकड़ा

भागलपुर7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
गिरफ्तार परिवहन कर्मियों को जांच के लिए ले जाती पुलिस। - Dainik Bhaskar
गिरफ्तार परिवहन कर्मियों को जांच के लिए ले जाती पुलिस।

बिहार में शराबबंदी पूर्ण रूप से लागू है, लेकिन सूबे के अलग-अलग जिलों से इसकी पोल खुलती तस्वीर सामने आ रही है। 2 दिन पहले पटना में पुलिस ने 12 लोगों की गिरफ्तारी की थी। अब भागलपुर में दारू पार्टी से 7 लोगों की गिरफ्तारी हुई है। पुलिस ने देर रात जिला परिवहन विभाग के डाटा ऑपरेटर सहित 7 कर्मियों को दारू पार्टी करते हुए गिरफ्तार किया है। इस मामले में भागलपुर SSP नताशा गुड़िया ने बताया कि सातों कर्मी शराब पी रहे थे। पुलिस को सूचना मिली और पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए सातों को गिरफ्तार कर लिया। उन्होंने बताया कि उक्त स्थल से शराब की एक बोतल भी बरामद की गई है।

परिवहन विभाग के 7 कर्मी गिरफ्तार

दरअसल पुलिस को गुप्त सूचना मिली कि परिवहन विभाग के कार्यालय में विभाग के डाटा ऑपरेटरों के बीच शराब पार्टी चल रही है। सूचना मिलते ही पुलिस हरकत में आई और संबंधित क्षेत्र के सहायक थाना जोगसर OP की पुलिस को वहां भेजा गया। पुलिस के पहुंचते ही परिवहन विभाग की बिल्डिंग में हड़कंप मच गया और लोग इधर- उधर भागने लगे। इधर, एक्शन में आई पुलिस ने किसी को संभलने का मौका नहीं दिया और घेरकर कंप्यूटर ऑपरेटर समेत 7 कर्मियों को गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस ने इन्हें किया है गिरफ्तार

खगडिया जिला के गोगरी जमालपुर निवासी दीपक कुमार, गोड्डा जिले के ठाकुरगंज थाना क्षेत्र के रोहित कुमार , कटिहार जिले के कदवा थाना क्षेत्र के संजीव कुमार सिंह , राजीव कुमार ,पवन कुमार, अजीत कुमार सिंह व सुपौल के ललन कुमार शामिल हैं।

100 मीटर जिला प्रशासन कार्यालय

परिवहन विभाग के कार्यालय में जहां धड़ल्ले से शराब की पार्टी चल रही थी, वहां से 100 मीटर दूर जिला प्रशासन कार्यालय में भागलपुर के DM की बैठक कर रहे थे। भागलपुर में परिवहन विभाग के कार्यालय से 100 मीटर की परिधि में सभी प्रशासनिक कार्यालय हैं, जिसमें समाहरणालय, SDO सहित अन्य कार्यालय हैं। इस बाबत जब भास्कर ने परिवहन पदाधिकारी फिरोज अख्तर से संपर्क साधने की कोशिश की तो उन्होंने फोन रिसीव नहीं किया। गिरफ्तार सभी परिवहन कर्मियों की मेडिकल जांच कराई गई। फिलहाल भागलपुर पुलिस आगे की कार्रवाई कर रही है।

खबरें और भी हैं...