पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

भास्कर की खबर का असर:भागलपुर में JDU MLA पर FIR; गोपाल मंडल ने कहा- हमको नहीं पड़ता कोई फर्क

भागलपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
JDU MLA गोपाल मंडल पर धारा 188, 269, 270, 271/34 और डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट 2005 के तहत मामला दर्ज किया गया है। - Dainik Bhaskar
JDU MLA गोपाल मंडल पर धारा 188, 269, 270, 271/34 और डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट 2005 के तहत मामला दर्ज किया गया है।

भागलपुर में JDU MLA नरेंद्र कुमार नीरज उर्फ गोपाल मंडल पर FIR दर्ज हुई है। 3 दिन पहले दैनिक भास्कर ने गोपाल मंडल द्वारा नवगछिया स्टेशन के पास जबरन बैरिकेडिंग हटाए जाने का वीडियो दिखाया था। इसके बाद प्रशासन ने भास्कर की खबर का संज्ञान लेते हुए गोपाल मंडल समेत 3 अज्ञात पर प्राथमिकी दर्ज करवाई है। नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी संजीव कुमार सुमन और नवगछिया के प्रखंड विकास पदाधिकारी प्रशांत कुमार की जांच रिपोर्ट के आधार पर प्राथमिकी दर्ज की है। विधायक गोपाल मंडल समेत अन्य तीन पर धारा 188, 269, 270, 271/34 और डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट 2005 के तहत मामला दर्ज किया गया है। भास्कर के रिपोटर्र ने जब उनसे इस संबंध में पूछा तो उन्होंने कहा कि हमको कोई फर्क नहीं पड़ता है।जब DM और SP को समझ में ही नहीं आता है तो कोई क्या करे। मुझ पर केस हो, ऐसा प्रशासन चाहता था।

बहुत जोर से शौच लगी थी इसलिए हटवाया बेरिकेडिंग

हमें तो भूख के साथ-साथ शौच भी बहुत जोर से लगी थी। उस समय हम उस जगह पर थे जहां पर अपने किसी परिचित का भी घर नहीं था, जिसके घर में हम घुस जाते। इसी वजह से हम बैरिकेडिंग को हटाकर वहां से चल दिए तो ये लोग हल्ला खड़ा कर दिए। इस पर प्रशासन FIR करे या कुछ करे हम को कोई फर्क नहीं पड़ता है। गोपाल मंडल बोले कि FIR दर्ज करने की कोई जरूरत ही नहीं थी, लेकिन कर दिया तो कर दिया। उन लोगों को बस खानापूर्ति करना था सो किया। उन्होंने जिला प्रशासन की काबिलियत पर सवाल उठाते हुए कहा कि अब हम उन लोगों को क्या समझाएंगे कि जनप्रतिनिधि क्या होता है। जब यह बात DM और SP को ही नहीं पता है तो हम क्या बोल सकते हैं। उन्होंने कहा कि हम तो बस एक ही बात कहते हैं कि जिला प्रशासन जब एक जनप्रतिनिधि के साथ ऐसा व्यवहार कर सकती है तो आम व्यक्ति के साथ यह लोग कैसा व्यवहार करते होंगे।

क्या था मामला

4 मई की रात में नवगछिया स्टेशन के पास जबरन बैरिकेडिंग हटाई गई। भागलपुर में एक वीडियो बहुत तेजी से वायरल हुआ था। इसमें दिख रहा था कि कुर्ता-पायजामा पहने और कंधे पर केसरिया गमछा रखे विधायक गोपाल मंडल ने पहले पूछा कि यह बैरिकेडिंग किसने लगवाया है। फिर कुछ अपशब्द बोलकर अपने साथ के लोगों से उसे जबरन हटवाया। इसके बाद विधायक ने भास्कर से इस वीडियो में खुद के होने की पुष्टि भी की। उन्होंने बैरिकेडिंग हटाने की भी जिम्मेदारी ली और प्रशासन पर सवाल भी उठाए।

गोपाल मंडल ने कहा- मुझे अपने एरिया में आने-जाने में दिक्कत हुई, हटवाया ताकि इसपर सवाल उठे

विधायक बोले- बैरिकेडिंग तोड़ा, ताकि इसपर सवाल उठे

विधायक गोपाल मंडल ने भास्कर से कहा कि वायरल वीडियो में वो खुद हैं और उन्होंने ही जानबूझकर बैरिकेडिंग तोड़ी है, ताकि इसको लेकर सवाल उठे। कहा कि जिला प्रशासन ने बैरिकेड लगा कर गलती की है। अगर किसी एक घर में कोरोना संक्रमित मरीज पाया जाता है, तो सिर्फ उस घर को सील किया जाना चाहिए ना कि पूरे मोहल्ले को। मेरे पास तीन ऐसे वीडियो हैं, जिसमें तीन एंबुलेंस हैं, जिन्हें मरीज को लेकर भागलपुर के मायागंज अस्पताल जाना था। उसमें से मात्र एक ही एंबुलेंस मायागंज अस्पताल तक पहुंच सका। बावजूद इसके मरीज की मौत हो गई।

खबरें और भी हैं...