बेटे के शव का पोस्टमार्टम के लिए देनी पड़ी घूस:भागलपुर के मायागंज अस्पताल में पोस्टमोर्टम के लिए गिड़गिड़ाता रहा पिता, 1000 रुपए देने पर ही हुआ काम

भागलपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भागलपुर के मायागंज अस्पताल में पोस्टमार्टम के लिए घूस देते परिजन। - Dainik Bhaskar
भागलपुर के मायागंज अस्पताल में पोस्टमार्टम के लिए घूस देते परिजन।

भागलपुर के मायागंज अस्पताल में फिर कुव्यवस्था की पोल खुली है। एक पिता को अपने बेटे की लाश का पोस्टमार्टम कराने के लिए अस्पताल कर्मी 1 हजार रुपए घूस देने पड़े। भागलपुर के मायागंज अस्पताल में पोस्टमोर्टम करने वाले कर्मी के द्वारा अवैध रूप से पैसे मांगने का परिजनों ने VIDEO भी बनाया है, लेकिन अभी तक किसी पर कोई कार्रवई नहीं हुई है।

क्या है पूरा मामला
चार दिन पहले खगड़िया के शिवम नाम का एक युवक सड़क हादसे में बुरी तरह घायल हो गया। स्थानीय लोगों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। सूचना मिलते ही पुलिस ने शिवम को स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया, जहां डॉक्टरों ने उसे बेहतर इलाज के लिए भागलपुर के मायागंज अस्पताल रेफर कर दिया। परिजनों की मानें तो मायागंज अस्पताल में डॉक्टरों ने CT स्कैन कराने को कहा, लेकिन मायागंज में कोविड को लेकर CT स्कैन नहीं हो पा रहा था। इलाज के अभाव में मरीज की स्थिति लगातार बिगड़ रही थी।

नहीं काम आई MLA की पैरवी
इस बात से परेशान होकर परिजन ने अंत में परवत्ता के JDU विधायक डॉ संजीव कुमार को फोन से इन लापरवाही की शिकायत करते हुए उनसे मदद की गुहार लगाई। मायागंज अस्पताल की लापरवाही को सुनकर डॉ संजीव कुमार ने डॉक्टरों से फोन पर बात कर समुचित इलाज करने की बात कही और लापरवाही करने पर सस्पेंड कराने की धमकी भी दी, लेकिन अंत में शिवम की मौत हो गई।

पोस्टमोर्टम में मांगे रुपए
शिवम की मौत के बाद परिजनों से एक हजार रुपए मांगे गए, जिसका वीडियो परिजनों ने किसी तरह बना लिया। बता दें कि भास्कर लगातार भागलपुर के अस्पताल में व्याप्त अव्यवस्था की तस्वीर को दिखाते रहा है और इसी वजह से पिछले दिनों प्रधान सचिव ने लापरवाही और अव्यवस्था को देखते हुए अस्पताल अधीक्षक को सस्पेंड किया था, लेकिन इतना कुछ होते हुए भी भागलपुर अस्पताल महकमे में कर्मचारी सबक लेने को तैयार नहीं हैं।

अस्पताल प्रशासन ने कहा कार्रवाई करेंगे

जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज (मायागंज अस्पताल) के HOD डॉ संदीप लाल ने कहा कि पोस्टमोर्टम होने वाली जगह पर बड़े बड़े अक्षरों में लिखा हुआ है कि पोस्टमोर्टम कराना सरकारी कार्य है। इस संदर्भ में पैसा लेना या देना दोनों कानूनी अपराध है। आप हमें वीडियो दीजिए मैं कार्रवाई करूंगा।

खबरें और भी हैं...